परमाणु बम का इतिहास Hiroshima and Nagasaki In Hindi

हिरोशिमा और नागासाकी पर बम गिराए जाने का इतिहास History Of Hiroshima and Nagasaki In Hindi

Parmanu Bomb In Hindi के इस आर्टिकल में हिरोशिमा और नागासाकी पर अमेरिका के द्वारा एटम बम गिराए जाने का इतिहास देखेंगे। हिरोशिमा Hiroshima और नागासाकी Nagasaki के बारे में तो आपने सुना ही होगा। अणु बम से बर्बाद हुए जापान Japan के ये शहर आज भी अपनी बर्बादी की इन्तहा दिखा रहे है। आज भी उस भयानकता के घाव हरे हो जाते है।
आज से करीब 70 साल पहले इन शहरों पर अणु बम गिराये गये थे। इन शहरों का वजूद खत्म हो गया था और 2 लाख से ज्यादा लोग मारे गए थे। इंसान अपने विनाश के कारण खुद रचता है और यह कारण है परमाणु बम। आज के परमाणु बम Atom Bomb उन बमो से भी कई गुना शक्तिशाली है जो हिरोशिमा और नागासाकी पर गिराये गये थे।

 

hiroshima and nagasaki in hindi
hiroshima and nagasaki in hindi

एटम बम गिराए जाने का इतिहास History Of Atom Bomb In Hindi

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति हैरी ट्रूमैन Harry Truman के इशारे पर ही ये बम गिराये गये थे। सबसे पहले बम हिरोशिमा Hiroshima पर 6 अगस्त 1945 में गिराया गया था। उसके 3 दिन बाद 9 अगस्त 1945 को नागासाकी पर बम गिराया गया था। इसकी वजह से 4 महीनों के अंदर हिरोशिमा में 1 लाख 60 हजार और नागासाकी Nagasaki में 80 हजार लोग मारे गए थे। Parmanu Bomb In Hindi
अमेरिका उसके बाद से ही सुपर पावर Super Power माना जाता है। उन दिनों अमेरिका और रूस के बीच सुपर पावर बनने के लिए कोल्ड वॉर चल रही थी। अमेरिका खुद को दुनिया का सिरमौर साबित करना चाहता था। वह दुनिया को दिखाना चाहता था कि वह सबसे ज्यादा ताकतवर है।
जापान पर हमला करके उसने Japan से वॉर तो जीत लिया लेकिन मानवता से हार गया। लाखो बेगुनाह इस वॉर की भेंट चढ़ गए और मानवता शर्मसार हो गयी।
कुछ इंसान थे जो उस हमले में बच निकले थे। सुतोमु यामागुची Tsutomu Yamaguchi वो शख्श है जो हिरोशिमा और नागासाकी दोनों शहरों में मौजूद थे। आज भी उनको वो मंजर याद है जब हिरोशिमा पर 6 अगस्त 1945 में एटम बम गिराया गया था। सुतोमु भी वही पर थे। उनका शरीर बहुत बुरी तरह से जल गया था। इसके बाद वो नागासाकी चले आये लेकिन 3 दिन बाद 9 अगस्त 1945 को यहां पर भी बम गिरा दिया गया। इन दोनों हमलो से सुतोमु बच निकले।
सुबह सुबोई की कहानी भी सुनिये वो इंजीनियरिंग का छात्र था जिस दिन हिरोशिमा में बम गिराया गया था उस दिन वो स्कूल जा रहा था और बम उससे 1 किलोमीटर दूर गिरा था। वो 10 मीटर दूर जाकर गिरा और बेहोश हो गया था। जब उसको होश आया तो वो बहुत गंभीर रूप से जख्मी था।
जब अणु बम इन शहरों पर गिराये गये थे इसकी विस्फोट क्षमता TNT के 22000 टन विस्फोट के बराबर थी। लेकिन आपको पता है की आज के परमाणु बम इस पहले के अणु बम से कई सो गुना शक्तिशाली है।

परमाणु बम क्या है Parmanu Bomb In Hindi

परमाणु बम Atom Bomb में दो क्रियाये होती है । एक तो नाभिकीय संलयन (Nuclear Fusion) और दूसरी नाभिकीय विखण्डन (Nuclear Fission)। एटम बम में एक प्रदार्थ होता है जो यूरेनियम (Uranium) या प्लूटोनियम (Plutonium) होता है। इन्ही प्रदार्थो में ये क्रियाये (Nuclear Process) होती है जिन्हें विस्फोट क्रियाये भी कहते है।

नाभिकीय अभिक्रियाए क्या है Nuclear Fission In Hindi

नाभिकीय विखण्डन Nuclear Fission में परमाणु के केंद्र पर न्यूट्रॉन Neutron से प्रहार करते है जिससे विखण्डन होता है और ऊर्जा (Energy) बनती है। ये विस्फोट लगातार चलते रहते है क्योंकि विखण्डन चलता रहता है। न्यूट्रॉन (Neutron) बनते है और परमाणु पर प्रहार करके उसे विखण्डित कर देते है। इसे श्रंखला अभिक्रिया भी कहते है। इसी कारण परमाणु बम का विस्फोट बहुत भयानक होता है क्योंकि यह लगातार चलता रहता है।

 

Nuclear Fission In Hindi

हाइड्रोजन बम क्या है Hydrogen Bomb In Hindi

Nuclear Fusion In Hindi – हाइड्रोजन बम परमाणु बम से भी ज्यादा खतरनाक होते है। इसमें हाइड्रोजन के समस्थानिक ड्यूटीरियम और ट्राइटिरियम (Deuterium and Tritium) होते है। परमाणुओं के संलयन से हाइड्रोजन बम का विस्फोट होता है। यह संलयन क्रिया High Temperature पर की जाती है। ये इतना High Temperature होता है कि इसको उत्पन्न करने के लिए परमाणु बम के विस्फोट की आवश्यक्ता पड़ती है। जब इन परमाणुओं को उचित Temperature मिल जाता है तो इनका संलयन Fusion प्रारम्भ होता है। जब इनका संलयन होता है तो ऊष्मा और किरणे Rays निकलती है यह ऊष्मा हाइड्रोजन को हीलियम में बदलती है। यही क्रिया ऊर्जा का स्रोत है और यह विनाश है।
अमेरिका ने 1953 में दुनिया में सबसे पहले हाइड्रोजन बम Hydrogen Bomb का आविष्कार किया था। इसका विस्फोट TNT के लाखों टन के बराबर था। 1955 में रूस  ने भी हाइड्रोजन बम का निर्माण किया। इसके बाद तो  एटम बम होड़ मच गयी। रूस के बाद चीन,फ़्रांस ने भी परीक्षण किया। 2016 तक पूरी दुनिया में 9 देशो के पास परमाणु बम बन चुके है। क्या आप जानते है की इन 9 देशों के पास 16300 परमाणु बम है। जी हां हम सच कह रहे है पुरे 16300 परमाणु बमो का जखीरा है। ये परमाणु बम पूरी दुनिया को खत्म करने के लिए काफी है। दुनिया में मानवता के खात्मे की बिसात खुद मानव ने बिछा ली है। दुनिया तबाही की और अग्रसर है।

दोस्तों आपको यह पोस्ट Parmanu Bomb In Hindi केसी लगी हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताना …..

विज्ञान से सम्बंधित अन्य आर्टिकल्स –

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *