रोचक प्राणी कोआला की जानकारी Koala Animal In Hindi

इस पोस्ट Koala Animal In Hindi में कोआला जानवर (Koala Information In Hindi) के बारे में जानकारी दी हुई है। कोआला प्राणी वृक्षों पर पाया जाने वाला जंगली जानवर है। यह जानवर बहुत लोकप्रिय है क्योंकि दिखने में बहुत दिलचस्प है। आमतौर पर कोआला प्राणी जंगलो में मिलता है। कोआला के बारे में जानने का प्रयास यहां पर किया गया है।

Koala Animal In Hindi

कोआला की जानकारी Koala Animal In Hindi

1. कोआला (Koala Animal) के बारे में दिलचस्प बात यह है कि यह जानवर केवल ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है। यह जीव दिखने में पांडा या भालू की तरह होता है। लेकिन यह प्राणी भालू नही है। ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी हिस्से में मौजूद यूकेलिप्टस के जंगलो में कोआला मिलता है। इस प्राणी के करीब 2 करोड़ साल पहले के जीवाश्म मिले है।

2. यह एक शाकाहारी जंगली प्राणी है। कोआला एक दिन में करीब 1 किलोग्राम तक यूकेलिप्टस के पत्तो को खा जाता है। यूकेलिप्टस के पत्ते इनका मुख्य और एकमात्र भोजन है। कोआला प्राणी पानी नही के बराबर पीता है क्योंकि पानी की पूर्ति वह पत्तियों की नमी से करता है। इसलिए इस प्राणी को “नो ड्रिंक” भी कहते है।

3. कोआला प्राणी के दुश्मन शिकारी जानवर नही के बराबर है। कभी कभी इनके बच्चों या छोटे आकार की मादा को बड़े पक्षी या सांप खा जाते है। एक तरह से कहे तो इनका शिकार बहुत कम होता है।

4. यूकेलिप्टस की पत्तियां सख्त और ज़हरीली होती है। कोआला जानवर के पाचन तंत्र में सिकुम नामक एक अंग होता है। यह अंग पत्तियों को तेजी से तोड़ने और पचाने का काम करता है। वैसे इनकी पाचन क्रिया कमजोर होती है जिससे इनके भोजन को पचने में पूरा दिन लग जाता है। इनके पाचन क्रिया में कुछ बैक्टेरिया बनते है जो जहर को खत्म करते है। यही कारण है कि यूकेलिप्टस की पत्तियां उसे नुकसान नही करती है।

5. कोआला का निवास स्थान वृक्ष होते है। यह जानवर दुनिया में केवल ऑस्ट्रेलिया में ही होता है। इसलिए इनके निवास स्थान यूकेलिप्टस के वृक्ष है क्योंकि इनके भोजन की पूर्ति भी इन्ही पेडो से होती है।

कोआला जानवर Koala Information –

6. इनके शरीर का आकार 60 सेंटीमीटर से 85 सेंटीमीटर तक होता है। कोआला का वजन 14 किलोग्राम तक होता है। कोआला के शरीर पर भूरे रंग के बाल या फ़र होती है।

7. इस प्राणी की नाक लम्बी होती है जो गुलाबी या काले रंग की होती है। शरीर के अनुपात में दिमाग बहुत छोटा होता है। जानवरों में इस तरह का शरीर और दिमाग का अनुपात बहुत कम देखने को मिलता है।

8. कोआला जानवर के पैर के पंजे बहुत मजबूत होते है। इस कारण से कोआला पेड़ों पर आसानी से चढ़ जाता है। डालियों पर इनकी पकड़ मजबूत होती है। इनके फिंगरप्रिंट मनुष्य की तरह है।

9. कोआला जानवर (Koala Animal) के बच्चे को जॉय कहते है। जन्म के समय बच्चा अंधा और बहरा होता है। जॉय के सूंघने और स्पर्श की शक्ति अधिक होती है।

10. मादा कोआला के शरीर पर एक थैली होती है जो बिल्कुल एक कंगारू की तरह होती है। मादा कोआला अपने बच्चे जॉय को इस थैली में पालती है। जॉय जन्म के समय केवल 2 सेंटीमीटर का होता है। इस बच्चे का वजन भी केवल आधा ग्राम ही होता है।

11. कोआला की थैली में बच्चा जॉय करीब 6 माह तक रहता है। इस थैली में ही बच्चे को माँ पोषण देती है। आगे के 6 महीने जॉय अपनी माँ की पीठ पर रहता है। इस तरह से मादा कोआला अपने बच्चे को पालती है।

कोआला की जानकारी Koala Animal Information In Hindi –

12. Koala Animal In Hindi – आप विश्वास नही करेंगे कि कोआला एक दिन में करीब 18 घण्टे तक सोता है। यह पेड़ की डाली पर ही सो जाता है। एक तरह से कह सकते है कि कोआला एक आलसी प्राणी है। कोआला का इतनी देर तक सोना उसकी मजबूरी भी है क्योंकि भोजन के पाचन में समय अधिक लगता है।

13. यह एक निशाचर प्राणी है जो केवल रात्रि में ही भोजन की तलाश करता है। यह यूकेलिप्टस के पेड़ो पर एक डाली से दूसरी डाली तक जाता है। कोआला यूकेलिप्टस की सबसे बढ़िया पत्ते ही खाता है। जंगलो में यूकेलिप्टस की करीब 700 से ज्यादा प्रजातियां पायी जाती है लेकिन कोआला केवल 30 के करीब प्रजाति के पत्ते ही खाता है।

14. कोआला एक सामाजिक प्राणी नही है। वह दिनभर में केवल 10 से 15 मिनट ही सामाजिक गतिविधि करता है। ऑस्टेलियन कानून के अनुसार इस जानवर को पालतू बनाकर नही रखा जा सकता।

15. कोआला जीव (Koala Animal In Hindi) का औसत जीवनकाल 14 वर्ष का होता है।

यह भी पढ़े – 

Note – Koala Animal In Hindi पोस्ट में कोआला जानवर (Koala Information In Hindi) के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी। यह आर्टिकल “Koala In Hindi” पसंद आया हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर पर शेयर करे और हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *