ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध (डिजिटल एजुकेशन)

आधुनिक युग में टेक्नोलॉजी का उपयोग लगभग सभी क्षेत्रों में होने लगा है, जैसे व्यापार, रोजगार, शिक्षा इत्यादि। इस विस्तृत लेख Essay On Online Education In Hindi में ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध दिया गया है। कोरोना वैश्विक महामारी ने मानव जीवन के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित किया है। इसी क्रम में शिक्षा के क्षेत्र पर भी काफी प्रभाव पड़ा है। कोरोना काल के दौरान भारत में स्कूल से लेकर कॉलेज तक सभी बंद थे। इसी कारण ऑनलाइन शिक्षा को ज्यादा बढ़ावा मिला है।

वैसे ऑनलाइन शिक्षा का कॉन्सेप्ट नया नहीं है लेकिन कोरोनाकाल के दौरान शिक्षा का यह तरीका ही उपयोगी और सार्थक रहा। घर घर में मोबाइल और इंटरनेट उपलब्ध होने के कारण ऑनलाइन शिक्षा कुछ ही समय में सबसे लोकप्रिय शिक्षा प्रणाली बन गई है। दोस्तों इस लेख में हम आपको ऑनलाइन शिक्षा क्या है? ऑनलाइन शिक्षा की जरुरत क्या है ? ऑनलाइन शिक्षा की चुनोतियाँ क्या है ? भारत में ऑनलाइन शिक्षा वरदान है या अभिशाप ? ऑनलाइन शिक्षा के लाभ और हानि क्या है? ऑनलाइन क्लासेज क्या है? इत्यादि विभिन्न प्रश्नों के उत्तर निबंध के रूप में विस्तारपूर्वक बताने वाले है।

Essay On Online Education In Hindi

ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध – Essay On Online Education In Hindi

मनुष्य जीवन में शिक्षा का महत्वपूर्ण योगदान होता है। शिक्षा मानव को परिपूर्ण करती है। पौराणिक काल में शिक्षा ग्रहण करने के लिए विद्यार्थी गुरु के पास गुरुकुल में जाता था। अंग्रेजों के शासन के दौरान शिक्षा नीति में परिवर्तन आया और स्कूली शिक्षा का दौर चला। वर्तमान समय में भी मैकाले की स्कूली शिक्षा प्रद्ती का ही दौर चल रहा है। परन्तु जब से इंटरनेट का उपयोग बढ़ा है तब से ही शिक्षा प्रणाली की काया पलट हो गई है। आजकल इंटरनेट की मदद से शिक्षक अपने विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा देता है। कोरोना काल में जब सभी स्कूल और कॉलेज बंद पड़े थे तब ऑनलाइन शिक्षा ही एक मात्र सहारा था। ऑनलाइन शिक्षा सुविधाजनक होने के कारण यह थोड़े ही समय में काफी लोकप्रिय हो गई है। अब आइये ऑनलाइन शिक्षा क्या है? आगे “Essay On Online Education In Hindi” निबंध में पढ़ते है।

ऑनलाइन शिक्षा क्या है?

शिक्षा का जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। शिक्षा शब्द संस्कृत भाषा का एक शब्द है जिसका अर्थ “सीखना या सिखाना होता है”। किसी भी प्रकार की जानकारी, जब किसी दूसरे को समझाते या पढ़ाते है या फिर किसी से समझते है इसी को “शिक्षा” कहा जाता है। शिक्षा किसी भी माध्यम से ग्रहण की जा सकती है। आज के आधुनिक युग में शिक्षा का सबसे सरल तरीका ऑनलाइन शिक्षा माना जाता है। शिक्षा को इंटरनेट के माध्यम से, इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस जैसे मोबाइल, कंप्यूटर, या टेबलेट द्वारा प्राप्त करना ऑनलाइन शिक्षा के अंतर्गत आता है।

ऑनलाइन शिक्षा में शिक्षक अपने विद्यार्थी से इंटरनेट के द्वारा जुड़ते है। यह एक ऐसी शिक्षा प्रणाली है जिसमे शिक्षक अपने विद्यार्थी को वीडियो स्ट्रीमिंग के द्वारा पढ़ाते है। क्योंकि यह शिक्षा प्रणाली इंटरनेट पर आधारित है. इसलिए इस प्रणाली में शिक्षक दुनिया में किसी भी जगह मौजूद अपने विद्यार्थी से संवाद कर सकता है। इसमें विद्यार्थी लैक्चर दोबारा कभी भी देख सकता है। ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा “भारत पढ़े ऑनलाइन” कार्यक्रम की शुरुआत की गए है। वैसे दोस्तों ऑनलाइन शिक्षा के अंतर्गत ना केवल क्लासेज आती है बल्कि इंटरनेट पर मौजूद विभिन्न विषयों के कंटेंट भी आते है। इन ऑनलाइन कंटेंट में ब्लॉग, यूट्यूब विडिओ इत्यादि आते है।

ऑनलाइन शिक्षा (डिजिटल शिक्षा) की जरूरत क्यों पड़ी ?

जैसा कि आप सभी जानते है, आवश्यकता आविष्कार की जननी है। एजुकेशन के क्षेत्र में ऑनलाइन शिक्षा का कितना योगदान है यह बात कोरोना काल में पूरी तरह से सिद्ध हो चुकी है। ऑनलाइन एजुकेशन की शुरूआत तो कोरोना काल से पहले ही हो चुकी थी परन्तु इसकी सुचारू रूप से शुरुआत कोरोना काल में ही हुई। कोरोना महामारी के दौरान सरकार ने देश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को अस्थाई रूप से बंद कर दिया था। उस दौरान काफी लम्बे समय तक विद्यार्थीयो की पढ़ाई बंद हो चुकी थी। ऐसी परिस्थिति में भारत सहित दुनिया के कई देशों ने शिक्षा के ऑनलाइन विकल्प को अपनाया। कोरोना काल ने डिजिटल शिक्षा को एक नए आयाम पर पहुँचा दिया। इस प्रणाली को लोकप्रिय बनाने में शिक्षकों, शैक्षणिक संस्थानों और भारत सरकार का काफी महत्वपूर्ण योगदान रहा।

इंटेरनेट की सुविधा आसानी से उपलब्ध होने के कारण इस शिक्षा प्रणाली ने काफी हद तक अपनी जगह बनाई। लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी वे विद्यार्थी जो किसी भी कारण से स्कूल या कॉलेज नही जा पाते है. उन्होंने अपनी पढ़ाई ऑनलाइन एजुकेशन के माध्यम से जारी रखी। आज भारत में ऑनलाइन एजुकेशन का स्तर काफी ऊपर पहुँच गया है। बड़े बड़े शिक्षा संस्थान ऑनलाइन शिक्षा पर जोर दे रहे है।

भारत में ऑनलाइन शिक्षा का स्तर

कालांतर से लेकर आज तक शिक्षा में कई प्रकार के बदलाव हुए है। वर्तमान में स्कूली शिक्षा कई तरह की आधुनिक युक्तियां से सुसज्जित होती जा रही है। स्मार्ट बोर्ड, मार्कर, स्लाइड प्रोजेक्टर और एलसीडी प्रोजेक्टर जैसी कई युक्तियों का इस्तेमाल क्लास में पढ़ाने के लिये होना सामान्य बात है। वर्तमान में विद्यार्थी वेब लर्निंग, मोबाइल और कंप्यूटर आधारित ई- शिक्षा से पढ़ाई कर रहे है। भारत सरकार ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए ई – शिक्षा से सबंधित कई सारे प्रोग्राम ला रही है।

भारत में बहुत सारी ऑनलाइन कोचिंग क्लासेज चल रही है। BYJU’s, Khan Academy, Unacademy, Vedantu इत्यादि लोकप्रिय ऑनलाइन शिक्षा से सबंधित वेबसाइट या app है जो अपने देश में विद्यार्थिओं की फर्स्ट चॉइस है। नर्सरी से लेकर पीएचडी तक की एजुकेशन ऑनलाइन दी जाती है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए भी ऑनलाइन क्लासेज चलती है जिनके जरिये शिक्षा प्राप्त की जा सकती है।

भारत के कई क्षेत्रो में अभी भी बिजली और इंटरनेट जैसी बुनियादी सुविधाएँ नही है। इसलिये यह कहना गलत नही होगा कि भारत में ई-शिक्षा के क्षेत्र में अभी काफी काम बाकी है। देश में स्कूली शिक्षा को ज्यादा महत्व दिया जाता है। भारत में ऑनलाइन शिक्षा का भविष्य इस बात पर निर्भर करता है कि हम लोग कितना तैयार है?

डिजिटल शिक्षा की राह में चुनोतियाँ (Online Education Essay In Hindi)

भारत एक प्रगतिशील देश है और यहाँ का इंफ्रास्ट्रक्चर अभी भी देश के कही हिस्सो में काफी कमजोर है। दोस्तों जैसा कि आपको विधित है की ऑनलाइन शिक्षा की राह में सबसे बड़ी चुनोती इंटेरनेट और बिजली है। वर्तमान भारत में अभी भी कई लोगो के पास इंटरनेट का एक्सेस नहीं है। भारत में कई क्षेत्र ऐसे है जहां इंटरनेट नहीं है और अगर है भी तो 4G स्पीड नहीं आती है। आप जानते ही है की ऑनलाइन वीडियो देखने के लिए इंटरनेट स्पीड कितनी महत्वपूर्ण होती है? भारत के नागरिकों के पास मोबाइल तो है लेकिन सभी के पास इंटरनेट सुविधा के लिए स्मार्टफोन नहीं है। अपने देश में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों की संख्या अधिक है। स्मार्टफोन, कीपैड मोबाइल की तुलना में महंगा आता है, ऐसे में ऑनलाइन शिक्षा ऐसे लोगो के लिए मुश्किल हो जाती है।

ऑनलाइन शिक्षा को बेहतर बनाने के उपाय

  • ऑनलाइन शिक्षा को मजबूत बनाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि भारत देश के सभी क्षेत्रों में इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध हो।
  • जिन क्षेत्रों में इंटरनेट की सुविधा तो है लेकिन स्पीड बहुत स्लो है, वहां पर इंटरनेट कनेक्टिविटी अच्छी होनी चाहिए।
  • इसके अलावा बिजली की व्यवस्था भी सरकार को सभी गांवों में बेहतर करनी चाहिए।
  • गरीब परिवार से आने वाले विद्यार्थियों को स्मार्टफोन, कंप्यूटर या लेपटॉप की सुविधा मिले, यह सरकार की वरीयता होनी चाहिए।
  • स्कूल और कॉलेज में क्लास रूम डिजिटल हो, जिससे ऑफलाइन शैक्षणिक संस्थानों में आने वाले विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा मिले।

ऑनलाइन शिक्षा के लाभ

  • डिजिटल शिक्षा का सबसे बड़ा लाभ यह है कि जो विद्यार्थी स्कूल या कॉलेज नही जा सकता, वह अपने घर से ही पढ़ाई कर सकता है।
  • ऑनलाइन शिक्षा में विद्यार्थी देश या विदेश के किसी भी शिक्षक से ज्ञान प्राप्त कर सकता है।
  • ऑनलाइन एजुकेशन में समय और जगह की कोई पाबन्दी नही होती है। सिर्फ लाइव क्लास को छोड़कर विद्यार्थी जब चाहे तब पढ़ सकता है।
  • डिजिटल शिक्षा में विद्यार्थी अपने रेकॉर्टेड लैक्चर को कभी भी दोबारा देख सकता है।
  • ऑनलाइन एजुकेशन में एक विशेष सब्जेक्ट के बारे में हम किसी भी अलग टीचर से क्लास ले सकते है।
  • विद्यार्थी को रेगुलर शिक्षा के मुकाबले बेहतर और विस्तृत ज्ञान मिलता है।

ऑनलाइन शिक्षा से हानि

  • ऑनलाइन शिक्षा से होने वाली सबसे बड़ी हानि यह है कि लगातार मोबाइल और कंप्यूटर के उपयोग से छात्र की आँखे कमजोर होती है।
  • टीचर और विद्यार्थी के बीच में एक अच्छा रिलेशन नही बन पाता है, इस कारण विद्यार्थी में शिक्षा के प्रति दिलचस्पी कम हो जाती है।
  • यह कहना गलत नही होगा कि इंटरनेट पर अच्छी और बुरी सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध है। हो सकता है कि कोई बच्चा बुरी बातें सीख ले। यह ऑनलाइन शिक्षा का सबसे बड़ी हानि है।
  • लगातार मोबाइल और इंटरनेट के बीच रहने से विद्यार्थी का मानसिक ज्ञान तो बढ़ जाएगा परन्तु शारीरिक तौर पर वह कमजोर रह जाता है।
  • विद्यार्थी स्कूल नही जाएगा तो उसके दोस्त भी काफी कम होंगे और दोस्त होना व्यवहारिक जीवन के लिए बहुत जरूरी है।

निष्कर्ष (Essay On Online Education In Hindi)

ऑनलाइन शिक्षा ज्ञान अर्जित करने का एक बहुत अच्छा विकल्प है। वह व्यक्ति जिसे अपने काम से साथ पढ़ाई भी करनी है, उसके लिए डिजिटल एजुकेशन एक बहुत अच्छा विकल्प है। भारत में अभी भी पूर्ण रूप से ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली अपनाने में थोड़ा समय लगेगा। क्योकि अभी भी भारत में कई लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करते है। भारत सरकार को ऑनलाइन शिक्षा को कामयाब बनाने के लिए इंटरनेट और बिजली जैसी सुविधा बढ़ाने पर जोर देना चाहिए। दोस्तों, शिक्षा ऑनलाइन हो या फिर ऑफलाइन, सही शिक्षा प्राप्त करना जरुरी है।

दोस्तों, ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध (Essay On Online Education In Hindi) आपको कैसा लगा? में आशा करता हूँ की डिजिटल एजुकेशन के बारे में निबंध आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगा? पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करे।

Share on:

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a comment