Pelican Bird Information In Hindi | पेलिकन पक्षी

इस लेख Pelican Bird Information In Hindi में पेलिकन पक्षी की रोचक जानकारी दी गयी है। लम्बी चोंच वाला यह अद्भुत प्रवासी पक्षी समुद्री इलाकों में पाया जाता है। मछलियों को खाने वाले पेलिकन बर्ड की जानकारी रोचकता से भरपूर है। सुंदर और आकर्षक पेलिकन बर्ड के बारे में संक्षिप्त परिचय आगे पोस्ट “Pelican Pakshi” में दिया गया है।

Pelican Bird Information In Hindi

पेलिकन पक्षी की जानकारी – Pelican Bird Information In Hindi

1. पेलिकन पक्षी समुद्री क्षेत्रों के पास पाया जाता है। पेलिकन बर्ड की दुनियाभर में 8 प्रजाति पायी गयी है। इनमें ब्राउन पेलिकन, ग्रेट व्हाइट पेलिकन, ऑस्ट्रेलियाई पेलिकन, डालमेशियन पेलिकन, Spot Billed Pelican इत्यादि मुख्य है। ग्रेट व्हाइट पेलिकन को रोजी पेलीकन भी कहा जाता है। यह पक्षी यूरोप, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका में मिलता है, सिवाय अंटार्कटिका के।

2. पेलिकन का वैज्ञानिक नाम “Pelecanus” है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पेलिकन लगभग 3 करोड़ साल पहले से धरती पर मौजूद है। फ्रांस में पेलिकन बर्ड का जीवाश्म मिला है जो यह साबित करता है कि उस समय भी पेलिकन की तरह का पक्षी मौजूद था।

3. पेलिकन पक्षी का निवास स्थान जल स्रोतों के पास होता है। मुख्यतः समुद्री तट के पास यह पक्षी रहता है। इसका मुख्य कारण भोजन की आसानी से उपलब्धता है। समुद्र में पायी जाने वाली मछलियों का शिकार करके पेलिकन अपना पेट भरता है।

लंबी चोंच वाला पक्षी “पेलिकन” की विशेषता

1. इस पक्षी की विशेषता इसकी लम्बी चोंच है जिससे यह अपने शिकार को पकड़ता है। पेलिकन बर्ड दुनिया की सबसे लंबी चोंच वाला पक्षी है।

2. लम्बी चोंच के अलावा चोंच के निचे मौजूद थैली पेलिकन बर्ड की पहचान है। इस तरह की थैली दुनिया में किसी भी पक्षी के नही होती है। यह अपनी चोंच से पानी की सतह से मछली निगल लेता है। यह अपनी चोंच से पीने के लिये बारिश का पानी भी कैच करता है। पेलिकन की चोंच के अंदर एक छोटी मजबूत जीभ भी होती है जो बड़ी मछली निगलने में मदद करती है।

3. पेलिकन चोंच को खोलकर पानी में डुबो देता है, जिससे चोंच की थैली पानी से भर जाती है। थैली में पानी के साथ मछली भी आती है। पेलिकन पानी को चोंच से निकालकर मछली को निगल जाता है। यह मछली का शिकार करने की यूनिक टेक्निक है। वैसे आपको जानकर आश्चर्य होगा कि पेलिकन चोंच की थैली में करीब 10 लीटर तक पानी स्टोर कर सकता है।

पेलिकन बर्ड की रोचक शारीरिक विशेषता (Pelican Bird In Hindi)

1. पेलिकन अच्छे तैराक भी है। यह पानी की सतह से ही उड़ान भर सकते है। इसका कारण पेलिकन के पैरों की झिल्लीनुमा जालीदार बनावट है जो इसे तैरने में मदद करती है। शरीर की तुलना में पैर बहुत छोटे होते है। जालीदार पैर होने के कारण तैरना तो आसान है लेकिन जमीन पर चलना पेलिकन के लिए मुश्किल होता है।

2. पेलिकन बर्ड बिग पक्षियों में से एक है। इसकी लम्बाई औसतन 50 इंच के आसपास होती है। जबकि अगर वजन की बात करे तो पेलिकन 10 से 15 किलोग्राम वजनी होता है। बड़ी हैरानी वाली बात है की इतना ज्यादा वजन होने के बाद भी यह आसमान में हजारों मीटर (करीब 3 किलोमीटर) ऊपर उड़ पाता है।

3. ब्राउन पेलिकन आकार (40 इंच) और वजन (करीब 3 Kg) में सबसे छोटा होता है। ग्रेट व्हाइट पेलिकन सबसे वजनी पेलिकन है। ऑस्ट्रेलियाई पेलिकन की चोंच दुनियाभर में पाये जाने वाले पक्षियों में सबसे लम्बी होती है। इसकी चोंच की साइज करीब 20 इंच है।

4. इनके पंखों का फैलाव करीब 11 फ़ीट तक होता है। Wandering Albatross पक्षी के बाद पेलिकन का Wingspan सबसे ज्यादा है।

5. नर पेलिकन मादा की तुलना में ज्यादा वजनदार और बड़ा होता है। नर की चोंच भी मादा से बड़ी होती है।

पेलिकन पक्षी का भोजन क्या है? Pelican Bird Food

1. पेलिकन बर्ड का मुख्य भोजन मछली है। वैसे मछली के अलावा केकड़ा, छोटे कछुए, इंसेक्ट्स इत्यादि भी यह खाता है। यह एक मांसाहारी पक्षी है। पेलिकन केवल दिन के समय ही शिकार करता है।

2. पेलिकन पक्षी का शिकार बहुत कम होता है लेकिन जल प्रदूषण और समुद्र में आयल रिसाव के चलते इनकी संख्या में कमी हुई है। वातावरण के विपरीत प्रभाव के कारण भी इसकी कुछ प्रजाति विलुप्ति की कगार पर है।

पेलिकन पक्षी (घोंसला, प्रवास, अंडे) की जानकारी – Information Of Pelican Bird In Hindi

1. यह रोचक पक्षी अपना घोंसला तटीय इलाकों में बनाता है। ज्यादातर पेलिकन पेड़ो पर अपना घोंसला बनाते है। कुछ पेलिकन प्रजाति (ब्राउन पेलिकन) जमीन पर भी घोंसला बनाती है। ये सैकड़ो की संख्या में झुंड बनाकर रहते है। पंखों, पत्तियों और छोटी टहनियों से पेलिकन पक्षी घोंसला बनाते है।

2. इसकी खास बात यह है कि पेलिकन प्रवास के दौरान हमेशा झुंड में उड़ते है। अगर आप इन्हें आसमान में उड़ते हुए देखेंगे तो आपको V शेप नजर आयेगा।

3. नर और मादा पेलिकन बर्ड का समागम (Mating) सीजन के अनुसार होता है। लेकिन कुछ पेलिकन प्रजाति पूरे साल समागम करती है। नर रंगीन पँखो और चमकदार चोंच से मादा को लुभाता है।

4. मादा पेलिकन एक बार में 1 से लेकर 4 तक अंडे देती है। ज्यादातर मौको पर 1 या 2 अंडे ही मादा देती है। मादा का कार्य अंडो को सेहने का होता है और करीब 4 से 5 हफ़्तों बाद अंडो से बच्चें निकलते है।

5. पेलिकन बर्ड मुख्यतः साइबेरिया से भारत आते है। गुजरात का कच्छ क्षेत्र इन पक्षियों का प्रिय है। ये पक्षी प्रत्येक वर्ष साइबेरिया से भारत आते है। इसी कारण पेलिकन को प्रवासी पक्षी भी कहा जाता है। पेलिकन को गर्म क्षेत्र पसंद है। सर्दियों का आगमन होते ही पेलिकन का प्रवास शुरू हो जाता है। यह पक्षी मुख्यतः भोजन और प्रजनन के लिए भारत प्रवास करते है।

6. इस पक्षी का औसत जीवनकाल करीब 20 साल का होता है।

Note – Pelican Bird Information In Hindi लेख में पेलिकन पक्षी की जानकारी आपको कैसी लगी? यह पोस्ट “लंबी चोंच वाला पक्षी पेलिकन” पसंद आयी हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर पर शेयर जरूर करे।

यह भी पढ़े – 

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *