Brahma Kamal Flower Information In Hindi ब्रह्म कमल

ब्रह्म कमल एक दुर्लभ पौधा है जिसका विशेष धार्मिक महत्व है। Brahma Kamal Flower Information In Hindi में ब्रह्म कमल की जानकारी है। सदियों से ऐसा माना जाता रहा है कि ब्रह्म कमल में देवताओं का वास है। इसे दैवीय शक्ति वाला पौधा माना जाता है। इस पर लगने वाले पुष्प सुंदरता के कारण विश्वभर में प्रसिद्ध है। तो आइये दोस्तों ब्रह्म कमल पुष्प (Brahmakamal Flower) और पौधे के बारे में सामान्य जानकारी जानने का प्रयास करते है।

Brahma Kamal Flower Information

ब्रह्म कमल का पौधा और फूल की जानकारी Brahma Kamal Flower Information In Hindi

1. ब्रह्म कमल फूल (Brahma Kamal Flower) का नाम भगवान ब्रह्मा के नाम पर पड़ा है। सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा “कमल” के फूल पर विराजते है। इस फूल का नाम ब्रह्म कमल इसी वजह से है। ब्रह्म कमल यानिकि ब्रह्मा का फूल।

2. ब्रह्म कमल के आकर्षक फूल ज्यादातर हिमालय पर्वत की घाटियों में पाए जाते है। विशेषतः उत्तराखंड राज्य में यह पुष्प मिलता है। लेकिन इस पुष्प के धार्मिक महत्व के कारण घरों में भी ब्रह्म कमल का पौधा लगाया जाता है।

3. भारत के उत्तराखंड, हिमाचल, कश्मीर के अलावा भी ब्रह्म कमल नेपाल, चीन में भी पाया जाता है। यह पुष्प हिमालय में करीब 4 हजार मीटर की ऊंचाई पर मिलते है।

4. रात के समय ब्रह्म कमल खिलता है। सुबह होने से पूर्व ही यह मुरझा जाता है। सूर्यास्त के बाद खिलने वाले फूलों में ब्रह्म कमल आता है। मध्य रात्रि के बाद यह पुष्प पूरा खिलता है।

5. वर्ष में केवल एक बार खिलने वाला ब्रह्म कमल फूल विशेषतः अगस्त के माह में खिलता है। इस पुष्प की 30 से ज्यादा प्रजातियां मिलती है।

6. आप जानते ही है कि कमल का फूल पानी में खिलता है लेकिन ब्रह्म कमल पानी में नही जमीन पर उगता है।

7. यह फूल जितना दिखने में सुंदर है, उतना ही सुगन्धित भी है। इस पुष्प का रंग सफेद होता है।

8. ब्रह्म कमल (Brahma Kamal Flower) को कई अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे कि कश्मीर में इस फूल को गलगल और हिमाचल प्रदेश में दूधाफूल भी कहते है।

9. ब्रह्म कमल को रात्रि में खिलते हुए देखना शुभ माना जाता है। परंतु वर्ष में केवल एक बार खिलने वाले इस पुष्प को मध्य रात्रि में देखना दुर्लभ ही है।

ब्रह्म कमल को तोड़ने के नियम और इसका धार्मिक महत्व Brahma Kamal Flower Importance

10. धार्मिक मान्यता के कारण इस पुष्प को तोड़ने के कुछ नियम है। इन नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है। दैवीय पुष्प होने के कारण धार्मिक लोग इन नियमों का पालन करते है।

11. अत्यधिक धार्मिक महत्व के कारण इसे आम दिनों में तोड़ने की सख्त मनाही है। ब्रह्म कमल को तोड़ने का सही समय नंदाष्टमी का होता है क्योंकि मां नन्दादेवी का यह अति प्रिय पुष्प है। इस दिन के अतिरिक्त इसे तोड़ने की मनाही है।

12. ब्रह्म कमल पुष्प की पूजा की जाती है। इसमें व्याप्त अलौकिक शक्तियों के कारण इसे हिन्दू धर्म में पवित्र स्थान दिया गया है। यह पुष्प भगवान शिव को चढ़ाया जाता है।

13. केदारनाथ मंदिर में ब्रह्म कमल को भगवान शिव को चढ़ाया जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार भगवान विष्णु ने यह पुष्प भगवान शिव को अर्पित किया था। केदारनाथ मंदिर के अलावा बद्रीनाथ मन्दिर में भी ब्रह्म कमल पुष्प अर्पित किए जाते है।

14. ब्रह्म कमल (Brahma Kamalam Flower) को इच्छाओं को पूरा करने वाला भी माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस फूल से मांगी गई मनोकामना पूर्ण होती है। ब्रह्म कमल को खिलते हुए देखना बहुत शुभ माना जाता है।

15. ब्रह्म कमल पुष्प की पंखुड़ियों से अमृत की बूंदे टपकती है। ऐसा माना जाता है कि इस फूल से टपके पानी को पीने से कई रोग दूर होते है। औषधीय गुणों के कारण भी इसका काफी महत्व है। इस पुष्प में जीवाणुरोधी गुण भी होते है।

16. ब्रह्म कमल उत्तराखंड का राज्य पुष्प भी है। वैसे तो यह फूल वर्ष में केवल एक बार खिलता है लेकिन कभी कभी यह 14 वर्ष में एक बार खिलता है।

ब्रह्म कमल का पौराणिक कथाओं में जिक्र Brahma Kamalam

17. दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दु की इस पुष्प का जिक्र पौराणिक कथाओं में भी मिलता है। महाभारत काल में द्रौपदी ने ब्रह्म कमल पुष्प की इच्छा व्यक्त की थी। तब भीम इस पुष्प को लेने हिमालय गए थे और इसी दौरान उनकी मुलाकात हनुमानजी से हुई थी।

18. एक और कथा रामायण काल से जुड़ी हुई है। जब हनुमान जी की लायी संजीवनी बूटी से लक्ष्मण पुनः जीवित हुए थे तब देवताओं ने आसमान से ब्रह्म कमल की पुष्पवर्षा की थी।

19. ब्रह्म कमल (Brahma Kamal Flower) का वानस्पतिक नाम सोसेरिया ओबोवेलाटा है। यह एस्टेरेसी परिवार से संबंध रखता है जिसके अंतर्गत सूरजमुखी, डेज़ी इत्यादि फूल आते है।

फूलों से सबंधित अन्य पोस्ट्स –

Note – दोस्तों, आपको ब्रह्म कमल फूल (Brahma Kamal) के बारे में जानकारी कैसी लगी। में आशा करता हु की यह आर्टिकल Brahma Kamal Flower Information In Hindi आपको जरूर पसंद आया होगा। इस पोस्ट “ब्रह्म कमल का पौधा और फूल की जानकारी”को ज्यादा से ज्यादा शेयर भी करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *