हार्मोन क्या होता है, प्रकार और कार्य Hormone In Hindi

इस पोस्ट What Is Hormone In Hindi में हार्मोन क्या होता है (Harmons Kya Hai), हार्मोन के प्रकार (Types Of Hormone In Hindi) और जानकारी है। हार्मोन जीवों के लिए महत्वपूर्ण तत्व है। मनुष्य शरीर की विभिन्न शारिरिक क्रियाओं के लिए हार्मोन की आवश्यकता होती है। यह एक प्रकार का केमिकल है जो शरीर की कई क्रियाओं को प्रभावित करता है।

मनुष्य में शारीरिक विकास के लिए हार्मोन संतुलन आवश्यक है। तो दोस्तों हार्मोन क्या होता है? हार्मोन के प्रकार, नाम, हार्मोन असंतुलन क्या है? और कार्य पर विस्तृत जानकारी इस आर्टिकल “Hormone Information In Hindi” में दी गई है।

Hormone Kya Hai In Hindi

हार्मोन क्या होता है – What Is Hormone In Hindi

हार्मोन (Hormone) को अंतःस्राव भी कहा जाता है जो शरीर में मौजूद अंतःस्रावी ग्रंथियों से होता है। इन ग्रंथियों में नलिकाएं नही होती है। इससे Hormone का पूरे शरीर में प्रवाह रक्त परिसंचरण तंत्र के द्वारा होता है। कुछ प्रकार के हार्मोन कोशिकाओं से भी स्त्रावित होते है। इसे शरीर का संदेशवाहक भी कहते है क्योंकि ये जरूरी सूचनाएं विभिन्न अंगों तक पहुंचाते है।

शरीर की कोशिकाओं और अंगों के लिए हार्मोन बेहद महत्वपूर्ण होता है। इसकी मात्रा में अल्प वृद्धि या कमी भी शरीर में विभिन्न रोगों को आमंत्रित करती है। इसलिए मानव शरीर में हार्मोन का Hormone Level रहना जरूरी है।

मानव शरीर में हार्मोन कई प्रकार की ग्रन्थियों में पाया जाता है। ये ग्रंथियां एंडोक्राइन (Endocrine Glands) कहलाती है। ग्रन्थि से निकलने वाला हार्मोन सीधे मानव रक्त में प्रवाहित होता है। मनुष्य का शारीरिक विकास और प्रजनन हॉर्मोन की मात्रा पर निर्भर होता है। हार्मोन मुख्यतः प्रोटीन का बना होता है। इसमें प्रोटीन के अलावा एमिनो एसिड और स्टेरॉइड भी पाया जाता है। स्टलिंग नामक वैज्ञानिक ने सर्वप्रथम “Hormone” का नाम प्रयोग किया था।

हार्मोन के प्रकार – Types Of Hormone In Hindi

हॉर्मोन जंतु और पादप दोनों में पाया जाता है। पादपों में हार्मोन उनके विकास को प्रभावित करते है। बीजों को अंकुरित करने और फलों के बनने जैसी कई क्रियाओं में पादप हार्मोन जिम्मेदार होता है। पेड़ पौधों में पाए जाने वाले हॉर्मोन पादप हार्मोन कहलाते है।

जंतुओं में हार्मोन अन्तःस्त्रावी ग्रंथियो से स्त्रावित होता है। बहुत ही अल्प मात्रा में हार्मोन मानव शरीर में स्त्रावित होता है। हॉर्मोन रक्त के जरिये शरीर के विभिन्न अंगों तक पंहुचता है।

हार्मोन स्त्रावित करने वाली प्रमुख ग्रन्थियां Harmons Glands Kya Hai

  • अग्नाशय ग्रंथि (Pancreas Gland) – इन्सुलिन हार्मोन निकलता है।
  • पीनियल ग्रंथि (Pineal Gland) – मानव मस्तिष्क में पाए जाने वाली इस ग्रंथि से मेलाटोनिन हार्मोन निकलता है।
  • पिट्यूटरी ग्रंथि या पीयूष ग्रंथि (Pituitary Gland) – ADH, लेक्टोजेनिक, ऑक्ससीटोक्सिन और STH हार्मोन।
  • थायराइड ग्रंथि (Thyroid Gland) – थाइरॉक्सिन हार्मोन।
  • एड्रेनल ग्रंथि (Adrenal Gland) – यह किडनी के ऊपर होती है। इसके मुख्य हॉर्मोन एड्रेनेलिन है।
  • अंडाशय – स्त्रियों में यह पाया जाता है। इससे एस्ट्रोजन नामक हार्मोन निकलता है।
  • टेस्टेस – इससे टेस्टोस्टेरोन हार्मोन निकलता है।

शरीर के विकास, प्रजनन, मेटाबॉलिज्म, पाचन, सेक्स, वजन, शरीर की ग्रोथ इत्यादि के लिए हॉर्मोन संतुलन जरूरी है। हॉर्मोन अपना कार्य करने के बाद नष्ट होकर शरीर से बाहर निकल जाता है। संतुलित हॉर्मोन उत्सर्जन शरीर के लिए लाभदायक होता है जबकि असंतुलित हॉर्मोन हानिकारक होता है।

प्रमुख हार्मोन के नाम – Names Of Harmons In Hindi

1. एस्ट्रोजन (Estrogen) – यह हॉर्मोन महिलाओं के शरीर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रजनन और मासिक धर्म में एस्ट्रोजन महत्वपूर्ण है। यह महिला के अंडाशय में निर्मित होने वाला सेक्स हॉर्मोन है।

2. प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) – यह भी महिलाओं में मुख्य हार्मोन है। इसका मुख्य कार्य महिलाओं में गर्भधारण करना है। मासिक धर्म के लिए प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन बेहद महत्वपूर्ण होता है।

3. टेस्टोस्टेरोन (Testosterone) – इसे पुरुष सेक्स हार्मोन भी कहते है। योन शक्ति को बढ़ाने और शरीर में ताकत देने में Testosterone महत्वपूर्ण है। शरीर की मांसपेशियों के निर्माण में भी इसकी मुख्य भूमिका होती है। अनियमित दिनचर्या, खानपान और अपर्याप्त नींद टेस्टोस्टेरोन को प्रभावित करती है। हड्डियों और बालों के विकास में यह हॉर्मोन मुख्य भूमिका निभाता है।

4. कोर्टिसोल (Cortisol) – यह हॉर्मोन एंड्रेनल ग्रंथि में पाया जाता है। जब कोर्टिसोल हॉर्मोन में असंतुलन होता है तब मस्तिष्क तनाव सबंधी समस्या हो जाती है। चक्कर आना, थकान महसूस होना कोर्टिसोल हॉर्मोन की वजह से होता है।

हार्मोन के प्रकार और कार्य

5. थायराइड हॉर्मोन (Thyroid Hormone) – थायराइड ग्रंथि से स्त्रावित हॉर्मोन है। मनुष्य में थकान, कार्य क्षमता में कमी इत्यादि थायराइड हॉर्मोन में असंतुलन के कारण होते है। इस हॉर्मोन के असंतुलन के कारण थायराइड की बीमारी होती है।

6. इन्सुलिन (Insulin) – यह अग्नाशय ग्रंथि से निकलता है। रक्त में शर्करा की मात्रा को इन्सुलिन हार्मोन नियंत्रित करता है।

7. सेरोटोनिन (Serotonin) – यह हॉर्मोन मनुष्य के स्वभाव को नियंत्रित करता है। इसकी कमी या वृद्धि होने पर चिड़चिड़ापन और अनिद्रा बढ़ती है।

8. ऑक्सिटॉक्सिन (Oxytocin) – इसे लव हॉर्मोन भी कहा जाता है। पिट्यूटरी ग्रंथि से यह हॉर्मोन स्त्रावित होता है। ऑक्सिटॉक्सिन हॉर्मोन महिलाओं में प्रजनन और स्तनपान में मुख्य होता है।

9. थाइमस हॉर्मोन (Thymus) – यह हार्मोन थाइमस ग्रन्थि से स्त्रावित होता है। शरीर के रोग प्रतिरोधक तंत्र में इसकी मुख्य भूमिका होती है।

10. एंडॉर्फिन (Endorphins) – यह हार्मोन शरीर में दर्द के समय निकलता है। इससे दर्द का अहसास कम हो जाता है।

हार्मोन असंतुलन क्या है? इसके लक्षण – Hormone Imbalance Kya Hai In Hindi

स्त्रावित हार्मोन में वृद्धि या कमी होने पर शरीर में हार्मोन असंतुलन पैदा होता है। इसके कारण मनुष्य में कई प्रकार की समस्याएं और रोग हो जाते है। वर्तमान में मनुष्य की जीवनशैली अनियंत्रित और अनियमित हो गई है। यह भी एक बड़ा कारण है कि हॉर्मोन असंतुलन होता है। अपर्याप्त नींद और अत्यधिक तनाव भी हॉर्मोन असंतुलन पैदा करते है।

हार्मोन असंतुलन के लक्षण –

  • अचानक वजन बढ़ना हार्मोन असंतुलन का एक बड़ा लक्षण है। इससे पेट की चर्बी बढ़ती है और मोटापा बढ़ता है।
  • अगर आपको आये दिन थकान का अनुभव होने लगे तो हॉर्मोन असंतुलन होने लगा है। नींद ना आना भी इसका एक मुख्य लक्षण है।
  • सेक्स की इच्छा में कमी होना भी हार्मोन असंतुलन का एक कारण है।
  • दोस्तों अगर आपको जरूरत से ज्यादा पसीना आता है तो हॉर्मोन का लेवल अनियंत्रित है।

हार्मोन असंतुलन होने पर डॉक्टर की सलाह जरूर लेवे। बिना चिकित्सक की सलाह के कोई भी ट्रीटमेंट ना करे। वैसे दोस्तों कुछ सामान्य उपाय करके भी हॉर्मोन असंतुलन ठीक किया जा सकता है। पोषक तत्वों से भरपूर डाइट प्लान लेने से भी हार्मोन संतुलन में आ जाते है। हाँ एक और बात की भोजन समय पर करे। पर्याप्त नींद लेना भी जरूरी है क्योंकि इससे मस्तिष्क में तनाव नही होता है। रोजाना योग या व्यायाम जरूर करें।

यह भी पढ़े – 

Note – What Is Hormone In Hindi – हार्मोन क्या होता है (Harmons Kya Hai), हार्मोन के प्रकार (Types Of Hormone In Hindi), कार्य और हार्मोन असंतुलन क्या है? पर जानकारी आपको कैसी लगी। यह आर्टिकल “Hormone Kya Hai In Hindi” अच्छा लगा हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर सोशल मिडिया पर शेयर जरूर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *