भारत की प्रमुख नदियों के नाम जानिए Indian Rivers Name In Hindi

इस पोस्ट Indian Rivers Name In Hindi में भारत की प्रमुख नदियों के नाम (Bharat Ki Nadiyan) और भारत की सबसे लंबी नदी कौन सी है? नदी जल का एक प्रवाहित स्रोत है। प्राकृतिक रूप से नदी बनती है जो लगातार अविरल बहती है। नदी में पानी का स्रोत मुख्यतः बारिश का पानी होता है। भारत और विश्व में कई नदियां बहती है। नदियों के मुहानों पर ही विश्व की कई सभ्यताएं पनपी है। भारत में नदी को पवित्र और देवी का महत्व दिया जाता है। भारत की सबसे लंबी नदियों के नाम (Indian Rivers Name In Hindi) और उनके बारे में जानकारी देने का संक्षिप्त प्रयास है।

दोस्तों, भारत में नदियां बंगाल की खाड़ी, अरब सागर या किसी बड़ी नदी में जाकर गिरती है। भारत में बहने वाली प्रमुख नदियों का उद्गम स्थल हिमालय के ग्लेशियर है। इसके अलावा नदियों का उद्गम झीलों या छोटी नदियों से भी होता है। हिमालय से निकलने वाली नदियां वर्षभर प्रवाहित होती है जबकि प्रायद्वीपीय नदियां वर्षा के जल पर निर्भर होती है।

भारत में अधिकांश नदियों का प्रवाह पूर्व की और है। तो आइये दोस्तों, भारत की नदियों के नाम (Indian Rivers Name In Hindi) और उनके बारे में सामान्य जानकारी लेने का प्रयास करते है।

Indian Rivers Name In Hindi

भारत की प्रमुख नदियों के नाम – Indian Rivers Name In Hindi

1. गंगा नदी (Ganga River)

गंगा भारत देश की एक प्रमुख नदी है जिसका धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व है। गंगा नदी की लम्बाई करीब 2525 किलोमीटर है। गंगा नदी हिमालय की गंगोत्री से निकलकर बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। गंगा भारत में उत्तराखंड, यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल से होकर बांग्लादेश में प्रवाहित होती है। अलकनंदा और भागीरथी नदी देवप्रयाग स्थान पर आपस में मिल जाती है, इसी स्थान से गंगा का निर्माण होता है। भारत देश में गंगा नदी का विस्तार सबसे अधिक है और इस कारण गंगा को भारत की सबसे लम्बी नदी कहा जाता है।

गंगा की सहायक नदियां – कोसी, यमुना, गंडक इत्यादि।

2. ब्रह्मपुत्र नदी (Brahmaputra River)

हिमालय की मानसरोवर झील के पास से निकली ब्रह्मपुत्र नदी बंगाल की खाड़ी में जा मिलती है। इस नदी की लम्बाई 2900 किलोमीटर के करीब है। ब्रह्मपुत्र नदी का प्रवाह क्षेत्र भारत, तिब्बत और बांग्लादेश है। भारत के अरुणाचल प्रदेश, आसाम से होते हुए यह नदी बांग्लादेश में प्रवेश करती है। यह गंगा के साथ मिलकर सुंदरवन डेल्टा का निर्माण करती है।

ब्रह्मपुत्र की सहायक नदियां – तीस्ता, सुवनश्री, बराक, लोहित इत्यादि है।

3. गोदावरी नदी (Godavari River)

दक्षिण की गंगा कहलाने वाली गोदावरी नदी 1465 किलोमीटर लम्बी है। यह नदी महाराष्ट्र राज्य के त्रयंबकेश्वर से निकलकर बंगाल की खाड़ी में जा मिलती है। गोदावरी दक्षिण भारत की सबसे लंबी नदी है। गोदावरी को प्रायद्वीपीय नदी भी कहा जाता है क्योंकि इसका उद्गम भारतीय प्रायद्वीप में ही होता है। पूर्ण रूप से भारत में बहने वाली सबसे लम्बी नदी गोदावरी है।

गोदावरी की सहायक नदियां – प्राणहिता, पैंगंगा, सबरी, इंद्रावती, मंजीरा इत्यादि नदियां है।

4. सिंधु नदी (Indus River)

सिंधु नदी हिमालय क्षेत्र के मानसरोवर के निकट से निकलकर अरब सागर में जा मिलती है। भारत और पाकिस्तान में सिंधु नदी का बहाव है। वैसे सिंधु नदी का ज्यादातर हिस्सा पाकिस्तान में आता है। सिंधु नदी की लम्बाई 3180 किलोमीटर है।

जानिए सिंधु की सहायक नदियां – इसकी मुख्य सहायक नदियों में रावी, सतलुज, झेलम, व्यास, चिनाब आती है।

5. यमुना नदी (Yamuna River) – Indian Rivers Name In Hindi

यह नदी प्रयागराज में गंगा से जा मिलती है। यह गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी है। इस नदी की लम्बाई 1376 किलोमीटर है। यमुना की सहायक नदियों में चम्बल और बेतवा मुख्य है। हिमालय के यमुनोत्री से निकलकर प्रयागराज में गंगा से मिल जाती है।

6. कृष्णा नदी (Krishna River)

अपने उद्गम स्थल महाराष्ट्र के महाबलेश्वर से निकलकर बंगाल की खाड़ी में मिलने वाली कृष्णा नदी भारत के दक्षिण इलाके में बहती है। इस नदी की लम्बाई 1290 किलोमीटर है जो इसे भारत की चौथी सबसे लम्बी नदी बनाती है। इस नदी में पानी वर्षा पर निर्भर करता है। इसकी मुख्य सहायक नदियों में भीमा और तुंगभद्रा आती है।

7. नर्मदा नदी (Narmada River) – Indian Rivers Name In Hindi

अमरकंटक से यह नदी निकलती है। अरब सागर में नर्मदा नदी का मुहाना मौजूद है जहां पर यह नदी मिलती है। यह नदी पूर्ण रूप से भारत देश में बहती है। नर्मदा नदी की लम्बाई 1312 किलोमीटर है। पूर्णत भारत के अंदर बहने वाली तीसरी सबसे लम्बी नदी है। यह नदी मुख्यतः मध्यप्रदेश में बहती है। इसकी मुख्य सहायक नदियों में तवा, हालन, बरना इत्यादि है।

8. कावेरी नदी (Kaveri River)

भारत के दक्षिण राज्यों कर्नाटक और तमिलनाडु में बहने वाली कावेरी नदी का उद्गम स्थल तालाकावेरी है। इस नदी का मुहाना बंगाल की खाड़ी है। कावेरी नदी की लम्बाई करीब 800 किलोमीटर के बराबर है। इसकी सहायक नदियों में सिमसा, हिमावती प्रमुख है।

9. महानदी (Mahanadi)

रायपुर, छत्तीसगढ़ के सिहावा नामक पर्वत से निकलकर बंगाल की खाड़ी में महानदी जाकर मिलती है। महानदी की लम्बाई 815 किलोमीटर है। इसकी मुख्य सहायक नदियां शिवनाथ, अरपा, हसदेव, मांड इत्यादि है।

Indian Rivers Name In Hindi – दोस्तों इन प्रमुख नदियों के अलावा भी भारत देश में कई नदियां मौजूद है। तो आइये दोस्तों, भारत की अन्य प्रमुख नदियों के नाम (Bharat Ki Nadiyan Ke Naam) जानने का प्रयास करते है।

भारत की नदियों के नाम – Indian Rivers Name In Hindi

10. सोन नदी (Sone River) – अमरकंटक से निकलने वाली यह नदी गंगा की दूसरी सबसे बड़ी सहायक नदी है। इस नदी का मुहाना गंगा में खुलता है। सोन नदी की लम्बाई 784 किलोमीटर है।

11. हुगली नदी (Hooghly River) – यह गंगा नदी से ही निकलने वाली पानी की धारा है। हुगली नदी बंगाल से गुजरकर खाड़ी में जा मिलती है। हुगली नदी की लम्बाई 260 किलोमीटर है।

12. तुंगभद्रा नदी (Tungabhadra River) – तुंगभद्रा नदी की लम्बाई 531 किलोमीटर है। इस नदी का मुहाना कृष्णा नदी है।

13. ताप्ती नदी (Tapti River) – 740 किलोमीटर लम्बी यह नदी अरब सागर में जाकर मिलती है। ताप्ती नदी मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के पास से निकलती है।

14. माही नदी (Mahi River) – मध्यप्रदेश के विध्यांचल पर्वत से निकलकर अरब सागर में जाकर गिरती है। मध्यप्रदेश के अलावा राजस्थान और गुजरात राज्य से होकर माही नदी गुजरती है। माही नदी की लम्बाई 576 किलोमीटर है।

15. लूनी नदी (Luni River) – इस नदी का उद्गम तो है लेकिन यह समुद्र में जाकर नही मिलती है। राजस्थान की अरावली पर्वतमाला, अजमेर से निकलकर गुजरात के कच्छ में जाकर सुख जाती है। रेगिस्तान में होने के कारण इस नदी का जल खारा होता है। इस नदी की लम्बाई 495 किलोमीटर है।

16. गंडक नदी (Gandak River) – यह नदी हिमालय से निकलकर पटना में गंगा से मिल जाती है। गंडक नदी की लम्बाई 765 किलोमीटर है।

17. कोसी नदी (Koshi River) – बिहार का शोक कहलाने वाली कोसी नदी गंगा नदी में जाकर मिलती है। यह नदी हिमालय से निलकती है जबकि गंगा नदी में मिल जाती है। इस नदी की लम्बाई उद्गम से मुहाने तक 729 किलोमीटर है।

Bharat Ki Nadiyon Ke Naam Hindi Mein

भारत की नदियों के नाम (Indian Rivers Name In Hindi)

18. सतलुज नदी (Sutlej River) – पंजाब की 5 मुख्य नदियों में से एक सतलुज नदी है। इस नदी का उद्गम मानसरोवर झील से होता है। यह नदी चेनाब में जाकर मिलती है। सतलुज नदी की लम्बाई 1500 किलोमीटर है।

19. चिनाब नदी (Chenab River) – यह भारत और पाकिस्तान में बहने वाली नदी है। चिनाब सिंधु की प्रमुख सहायक नदी है। इस नदी की लम्बाई 960 किलोमीटर है।

20. व्यास नदी (Beas River) – यह सतलुज की सहायक नदी है। व्यास पंजाब में बहने वाली प्रमुख नदी है जिसकी लम्बाई 470 किलोमीटर है। इस नदी का उद्गम रोहतांग दर्रे से होता है जबकि अरब सागर में जाकर समाहित हो जाती है।

21. चंबल नदी (Chambal River) – चंबल नदी राजस्थान और मध्यप्रदेश से होकर उत्तरप्रदेश में यमुना नदी में मिलती है। इस नदी की लम्बाई 966 किलोमीटर है।

22. झेलम नदी (Jhelum River) – कश्मीर में यह नदी मौजूद है। इस नदी की लम्बाई 725 किलोमीटर है। झेलम सिंधु की एक सहायक नदी है।

23. सरयू नदी (Sarayu River) – इस नदी का पौराणिक महत्व भी है। सरयू नदी अयोध्या आकर गंगा में मिल जाती है। इस नदी की लम्बाई 350 किलोमीटर है।

24. रावी नदी (Ravi River) – इस नदी की लम्बाई 725 किलोमीटर है। रावी नदी हिमाचल के रोहतांग दर्रे से निकलकर पाकिस्तान में जाकर चिनाब नदी से मिल जाती है। भारत के पंजाब राज्य की पांच प्रमुख नदियों में से एक है।

25. सरस्वती नदी (Sarasvati River) – यह ऐतिहासिक पवित्र पौराणिक नदी है। वर्तमान में सरस्वती नदी भूमि पर विलुप्त हो चुकी है। ऋग्वेद में सरस्वती नदी का उल्लेख मिलता है।

जानिये भारत की सबसे लंबी नदी कौन सी है? Rivers Of India In Hindi

  • भारत के भूभाग पर विस्तार के मुताबिक सबसे लंबी नदी गंगा है।
  • भारत से गुजरने वाली सबसे लम्बी नदी सिंधु है।
  • पूर्ण रूप से भारत में बहने वाली सबसे लंबी नदी गोदावरी है।

Note – भारत की प्रमुख नदियों के नाम (Bharat Ki Nadiyan) पर यह पोस्ट Indian Rivers Name In Hindi आपको कैसी लगी। भारत की सबसे लंबी नदी कौन सी है? इस प्रश्न का उत्तर भी आपको मिल गया होगा। यह आर्टिकल “Bharat Ki Nadiyon Ke Naam Hindi Mein” अच्छा लगा हो तो इसे शेयर भी करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *