ईमानदारी पर निबंध पैराग्राफ Essay On Honesty In Hindi

यह पोस्ट Essay On Honesty In Hindi ईमानदारी पर निबंध (Imandari Par Nibandh) और उसके महत्व पर आधारित है। ईमानदारी इंसान की अच्छाई को बताती है। एक अच्छा इंसान सच्चा होता है। सच्चा इंसान ईमानदार होता है। ईमानदारी ऐसा गुण है जो सज्जनता का प्रतीक है।

बच्चों के लिए ईमानदारी का पाठ सीखना जरूरी है। इसलिए स्कूल के विद्यार्थियों को अक्सर ईमानदारी पर निबंध (Honesty Essay) लेखन दिया जाता है। ईमानदारी बच्चों में अनुशासन लाती है। तो आइये दोस्तों, ईमानदारी का महत्व पर निबंध लेखन (Honesty Is The Best Policy Essay In Hindi) का संक्षिप प्रयास करते है।

Essay On Honesty In Hindi

ईमानदारी पर निबंध Essay On Honesty In Hindi

ईमानदारी मनुष्य का ईमान है जो मनुष्य के सच्चे होने का गुण है। ईमानदार व्यक्ति समाज में इज्जत पाता है जबकि बेईमान को बेइज्जती मिलती है। ईमानदारी इंसान को सच के मार्ग पर चलने को प्रेरित करती है। यह व्यक्ति की सोच पर निर्भर होती है। इंसान जैसा सोचता है वैसा ही करता है। यह इंसान के रिश्तों का आधार है। ईमानदारी इंसान को प्रसंशा दिलाती है।

झूठ बोलना पाप के समान है। पापी व्यक्ति ही झूट बोलता है। ईमानदार व्यक्ति हमेशा सच का साथ देता है। किसी भी व्यक्ति का ईमानदार होना, उसका गुण है। एक तरह से कहे तो ईमानदारी मनुष्य के मनुष्य होने का गुण है। यह इंसान के चरित्र की पहचान है जिससे उसकी अच्छाई और बुराई का पता चलता है।

अंग्रेजी में कहावत है कि “Honesty Is The Best Policy” अर्थात ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है। ईमानदार व्यक्ति को समाज में प्रतिष्ठा मिलती है। ईमानदार होना सत्यता की निशानी है। ईमानदारी से लोगों में आपसी विश्वास आता है जिससे लोग एक दूसरे पर भरोसा करते है।

भरोसे की नींव सच पर टिकी होती है। झूठ बोलने पर विश्वासघात होता है। ईमानदारी रखने से ही रिश्ते मजबूत होते है। आपसी विश्वास और सच से रिश्तों की बुनियाद मजबूत होती है। इससे आपसी प्रेम और भाईचारा बढ़ता है।

ईमानदारी का महत्व Honesty Is The Best Policy Essay In Hindi

ईमानदारी देश के प्रति, समाज के प्रति, परिवार के प्रति और सबसे बड़ी बात इंसान से इंसान के प्रति होनी चाहिए। हमें सभी लोगों के प्रति ईमानदार होना जरूरी है। माँ बाप, भाई बहिन, रिश्तेदार, दोस्त या फिर कोई भी इंसान हो, हमें ईमानदारी को मनुष्य का कर्तव्य समझना चाहिए। तमाम बुराई की जड़ बेईमानी है और इस जड़ को काटने के लिये ईमानदारी रूपी कुल्हाड़ी होनी जरूरी है। ईमानदार होना सच्चा इंसान होने की निशानी है।

एक सच्चा देशप्रेमी ईमानदार होता है। देश के प्रति ईमानदार व्यक्ति ही सच्चा नागरिक है। एक ईमानदार नागरिक समय पर टैक्स देता है, भ्रष्टाचार नही करता। अगर आप अपने देश से प्यार करते है तो देश के प्रति ईमानदार बनिये। अगर आपको खोई हुई वस्तु मिलती है तो उसे मालिक तक पहुंचाना आपकी ईमानदारी है। ईमानदारी से ही भरोसा जीता जा सकता है।

आप नौकरी करते है तो मालिक के प्रति ईमानदारी रखनी चाहिए। अगर आप बिज़नेस करते है तो प्रोडक्ट और सर्विस में ईमानदारी रखिए। ग्राहकों में विश्वास आपकी ईमानदारी ही जगाती है। बेईमान दुकानदारों से लोग सामान खरीदना पसंद भी नही करते है। आपने किसी से उधार लिया है तो समय पर वापस देना आपकी ईमानदारी का परिचय है। ईमानदारी से व्यक्तित्व में पारदर्शिता आती है।

दोस्तों आप कोई भी काम करते हो, अपने जॉब के प्रति ईमानदार रहिए। आप दूध बेचते है तो पानी ना मिलाकर ईमानदारी का परिचय दे। आप खाद्य पदार्थ बेचते है तो मिलावटी सामान ना बेचकर ईमानदारी अपना लीजिये। काम के प्रति ईमानदार होने पर ही समाज तरक्की करेगा। समाज तरक्की करेगा तो देश महान बनेगा

ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है पैराग्राफ

ईमानदारी को एक अच्छी आदत के रूप में अपनाना चाहिए। ईमानदार व्यक्ति का मन हमेशा शांत रहता है क्योंकि उसे किसी से कुछ छिपाना नही होता। बेईमान को सुकून नही मिलता और कभी भी शांति नही मिल पाती है। ईमानदार व्यक्ति जीवन में बेहतर निर्णय लेता है। ईमानदारी समाज में आदर दिलाती है। ईमानदारी इंसान को निडर बनाती है। जीवन में अनुशासन लाने के लिए ईमानदार होना जरूरी है। ईमान वाला व्यक्ति नियमों का पालन करता है।

ईमानदार होना मुश्किल जरूर है लेकिन नामुमकिन नही है। इस गुण को आत्मसात करने के लिए मन की लालसाओं को दबाना पड़ता है। लालच इंसान का सबसे बड़ा शत्रु है। ईमानदार होने के लिए लालच खत्म करना जरूरी है। एक लालची इंसान कभी भी ईमानदार नही हो सकता। लालच इंसान को धोखेबाज बनाती है जबकि ईमानदारी इंसान को भरोसेमंद बनाती है।

सफलता ईमानदार और बेईमान दोनों को मिलती है। ईमानदार व्यक्ति की सफलता हमेशा बरकरार रहती है। समाज में उसे इज्जत, सम्मान और आदर मिलता है। परंतु बेईमान इंसान को समाज में इज्जत नही मिल पाती है। वह व्यक्ति धन तो कमा लेता है लेकिन इज्जत नही कमा पाता है।

सरकारी या गैर सरकारी विभागों में पदों पर बैठे लोग लालचवश रिश्वत लेते है। भ्रष्टाचार की जनक बेईमानी ही है। व्यापारी भी थोड़े से लालच में आकर ईमानदारी से मुंह मोड़ लेते है। लेकिन दोस्तों, सभी लोग ऐसे नही है, दुनिया में ईमानदार लोग भी है।

ईमानदारी पर निबंध Imandari Par Nibandh

बुरे लोगो को हमेशा यह डर रहता है की लोगों को बेईमानी का पता चल जाये तो उनकी इज्जत चली जायेगी। बेईमान इंसान की पोल एक ना एक दिन जरूर खुलती है। सच हमेशा सामने आता है, इसलिए सच्चा बने।

ईमानदार व्यक्ति अपने जीवन में संघर्ष भी करता है। यह संघर्ष परिवार, दोस्तों और समाज से होता है। जीवन में कई ऐसे मौके आते है जब ईमानदारी को परीक्षा देनी होती है। कई बार परिवार और दोस्तों के लिए झूट बोलना पड़ता है। ईमानदारी का त्याग करके बेईमानी को अपनाना पड़ता है। धन का लालच भी इंसान को बेईमान बना देता है।

इस लालची समाज में ईमानदार बने रहना मुश्किल डगर के समान है। परंतु विकट परिस्थितियों की अग्नि में तपकर ही सच्चा इंसान बाहर निकलता है। बेईमानी की खुशी क्षणिक होती है जबकि ईमानदारी से मिली खुशी जीवनभर रहती है। ईमानदार बनने के लिए साहस होना चाहिए। साहसी व्यक्ति ही ईमानदार बन सकता है।

सत्य इंसान को कभी भी पराजित नही होने देता है। एक सत्यवादी इंसान हमेशा ईमानदार होता है। मनुष्य जीवन का अर्थ तभी सार्थक है जब उसमें ईमानदारी हो। ईमानदारी नैतिक मूल्यों में बढ़ौतरी करती है। इंसान को एक अच्छा इंसान बनाती है।

अन्य उपयोगी निबंध – 

नोट – ईमानदारी पर निबंध (Imandari Par Nibandh) और इसके महत्व के बारे में इस पोस्ट Essay On Honesty In Hindi में जानकारी आपको कैसी लगी। यह आर्टिकल “Honesty Is The Best Policy Essay In Hindi” अच्छा लगा हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *