Air Conditioner (AC) क्या है, Full Form व आविष्कार

AC क्या है, AC का Full Form, प्रकार और AC का आविष्कार किसने किया। इन सभी प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट What Is Air Conditioner In Hindi में बताने का पूरा प्रयास है। वातावरण को ठंडा करने के लिए AC का उपयोग किया जाता है। गर्मियों के मौसम में ठंडी हवा के लिए AC का इस्तेमाल आम हो गया है। शहर ही नही गांव में भी कई लोग AC का इस्तेमाल करते है।

विगत कुछ वर्षों में पंखे और कूलर के स्थान पर घरों में AC का उपयोग बढ़ा है। पहले केवल चुनिंदा लोग ही AC का इस्तेमाल किया करते थे। परंतु आजकल मध्यमवर्गीय परिवार भी AC उपयोग में लेता है। व्यावसायिक प्रतिष्ठानों (Office, Shop) में भी वातावरण कूलिंग के लिए AC इस्तेमाल की जाती है। तो आइए दोस्तों, AC क्या है (What Is AC In Hindi), AC का आविष्कार किसने किया और AC का Full Form क्या है? इन सभी Topics के बारे में सामान्य जानकारी लेने का प्रयास करते है।

Air Conditioner In Hindi

एयर कंडीशनर क्या होता है What Is Air Conditioner In Hindi

AC (Air Conditioner) एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसका कार्य वातावरण की हवा को ठंडा करना होता है। यह सिस्टम कमरे की गर्म हवा को ठंडी हवा में बदल देता है। AC हवा को फ़िल्टर भी करता है जिससे हवा से हानिकारक कण भी बाहर निकल जाते है। एक तरह से कहे तो ठंडा करने के साथ ही हवा को शुद्ध भी करता है। AC की क्षमता को BTU (British Thermal Unit) में मापा जाता है।

दोस्तों, AC (Air Conditioner) में फ्रेओन गैस उपयोग की जाती है। यही गैस रेफ्रिजरेटर में भी इस्तेमाल होती है।

AC का Full Form क्या होता है

दोस्तों, AC Full Form In Hindi – AC का फुल फॉर्म “Air Conditioner” होता है।

AC के प्रकार Air Conditioner Types In Hindi

स्प्लिट एसी (Split AC) क्या है – 

इस प्रकार की Air Conditioner वर्तमान में काफी लोकप्रिय है। इस AC के दो अलग अलग भाग होते है। एक भाग घर के बाहर लगता है जबकि दूसरा भाग कमरे के अंदर रहता है। इस प्रकार की AC में विंडो की जरूरत नही होती है। Split AC तुरन्त कूलिंग नही करते है। इन्हें कूलिंग में करने में समय लगता है।

विंडो एसी (Window AC) क्या है –

इस प्रकार का एयर कंडीशनिंग सिस्टम खिड़की पर लगता है। इसमें AC का आधा हिस्सा विंडो से बाहर की ओर होता है। आजकल इस प्रकार की AC चलन से बाहर है। अगर कमरे में खिड़की नही है तो इस प्रकार का AC नही लग सकता। विंडो एसी Split की तुलना में आवाज ज्यादा करता है। विंडो AC ओन होते ही कूलिंग चालू कर देते है।

दोस्तों बिजली की खपत दोनों AC में बराबर होती है। बस आपकी जरूरत के अनुसार AC का चुनाव करें। आजकल Inverter AC भी मार्किट में आता है जो बाहरी Temperature के अनुसार कूलिंग करता है।

AC का आविष्कार किसने किया Air Conditioner Ka Avishkar Kisne Kiya

आधुनिक AC (Air Conditioner) का आविष्कार विल्स हाविलैंड करियर (Willis Haviland Carrier) ने किया था। इस आधुनिक AC का आविष्कार वर्ष 1902 में हुआ था। यह Air Conditioner बिजली की शक्ति से चलती थी। उन्होंने ब्रुकलिन शहर की एक कम्पनी में इस AC का प्रयोग किया था।

वातावरण को कूलित करने की आवश्यकता गर्मी से बचाव के लिए पड़ी थी। आज के समय में थोड़े ज्यादा पैसे खर्च करके लोग AC खरीदना पसंद करते है।

Air Conditioner कैसे कार्य करता है

AC के अंदर एयर कूलिंग की सामान्य प्रोसेस होती है। गर्म हवा AC के अंदर जाती है जिसे Air Conditioner ठंडी करके बाहर निकालता है। इससे बाहरी वातावरण का तापमान कम हो जाता है।

दोस्तों Air Conditioner (AC) में कुछ पार्ट्स लगे होते है जो कूलिंग की प्रक्रिया को पूर्ण करते है। मुख्य रूप से 4 AC कंपोनेंट होते है जिनके नाम इस प्रकार से है –

1. कंप्रेसर (Compressor) – यह पार्ट कमरे के बाहर लगे AC भाग में होता है। यह Air को संपीडित करता है। एवपोर्टेर के द्वारा ली गयी गर्म हवा कंप्रेसर के द्वारा कंडेंसर में जाती है।

2. कंडेंसर (Condenser) – यह भी AC के बाहर वाले भाग पर होता है। कंडेंसर का कार्य गर्म हवा को ठंडी हवा में चेंज करना होता है।

3. एवापोर्टर (Evaporator) – इसका कार्य Heat को एक्सचेंज करना होता है। यह एक प्रकार की Coil है जो गर्म हवा को अंदर लेती है और ठंडी हवा को कमरे में छोड़ती है।

4. एक्सपेंशन वाल्व (Expansion Valve) – Evaporator पर लगा होता है। इसी के थ्रू एयर एक Coil से दूसरी Coil में जाती है।

इसमें Coolant के रूप में रेफ्रिगेरेन्ट Freon गैस इस्तेमाल की जाती है।

विंडो AC में Evaporator, Compressor, Condenser तीनो एक ही बॉक्स में होते है। जबकि Split AC में केवल Evaporator ही कमरे के अंदर लगे बॉक्स में होता है।

सही Air Conditioner का चुनाव कैसे करें

आपके लिए कितने टन का AC (Air Conditioner) सही रहेगा? यह प्रश्न भी महत्वपूर्ण है। क्योंकि सही क्षमता का AC ही आपकी ठंडी हवा की जरूरत को पूरा कर सकता है। इसलिए AC का चुनाव ध्यान से करना चाहिए। कितने बड़े एरिया को वातानुकूलित करना है? इसके जवाब के अनुसार ही AC का चयन बेहतर है।

एक सामान्य साइज के कमरे में 2 से 4 लोगों के लिए 1 टन का एसी काफी होता है। जबकि एक बड़े होल या ज्यादा लोगों के लिए इससे ज्यादा टन क्षमता का Air Conditioner जरूरी है।

AC टन में मिलती है। जैसे कि 1, 1.5, 3 … टन इत्यादि। कभी आपने सोचा कि AC में यह टन (TON) क्या होता है? AC का टन उसकी कूलिंग क्षमता होती है। इस क्षमता को Per Hour मापा जाता है। AC कितनी हवा 1 घण्टे में कूल करता है। जितने ज्यादा टन का एसी होगा, वह उतनी ही ज्यादा हवा को कूलित करेगा। अमूमन 1 टन का AC 1 टन बर्फ के बराबर कूलिंग देता है।

एसी को 1 वर्ग फुट की जगह को कूलित करने में 1 घण्टे में 20 BTU खर्च होते है। 12 हजार BTU 1 टन के बराबर होते है। इसका गणित 10×10 वर्ग फुट की साइज वाले कमरे पर लगाये तो 1 टन के AC की आवश्यकता होती है।

AC (Air Conditioner) पर स्टार रेटिंग भी आती है। जैसे 1, 2, 3, 4 … स्टार इत्यादि। यह रेटिंग AC के Power Consumption को बताती है। जितने ज्यादा स्टार होंगे वह AC उतनी ही कम कम बिजली खर्च करेगा। जितने ज्यादा स्टार उतनी ही ज्यादा AC की कीमत। यह बिंदु भी Air Conditioner के चयन में महत्वपूर्ण है।

AC क्या है और जानकारी

कूलर या पंखे की भांति AC ज्यादा आवाज नही करती है। एक तरह से बिना शौर किये ठंडी हवा देती रहती है। इससे शांति भंग नही होती है। दोस्तों, AC में ज्यादा वक्त तक बैठना हानिकारक हो सकता है। आपको हल्के सरदर्द की समस्या भी हो सकती है। कम तापमान में शरीर कम सक्रिय रहता है जिससे शरीर की चर्बी बर्न नही हो पाती है। इस कारण मोटापा बढ़ता है।

अन्य पोस्ट्स –

Note –  इस पोस्ट What Is Air Conditioner In Hindi में एयर कंडीशनर क्या है (AC Kya Hai), AC का फुल फॉर्म, प्रकार और AC का आविष्कार किसने किया पर जानकारी आपको कैसी लगी। यह आर्टिकल “AC Kya Hai In Hindi” अच्छा लगा हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *