एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या है MBBS Full Form In Hindi

MBBS Full Form Kya Hai In Hindi

एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या है? (MBBS Full Form In Hindi) और एमबीबीएस क्या है? (What Is MBBS)? इन प्रश्नों के उत्तर इस लेख में दिए गए है। MBBS चिकित्सा के क्षेत्र में दी जाने वाली डिग्री है। भारत देश में चिकित्सा एक महत्वपूर्ण स्टडी है। डॉक्टर बनने के इछुक छात्र को MBBS डिग्री लेना अनिवार्य होता है।

12 वीं कक्षा पास करने के बाद MBBS में दाखिला मिलता है। MBBS Kaise Kare? और इसके बारे में सामान्य जानकारी इस पोस्ट “MBBS Ki Full Form Kya Hai In Hindi” में संक्षिप्त में दी गई है।

एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या है? MBBS Full Form In Hindi

MBBS Ki Full Form “Bechalor Of Medicine and Bechlor Of Surgery” है। हिंदी में एमबीबीएस को “चिकित्सा स्नातक और शल्य चिकित्सा स्नातक” कहते है। इस बैचलर डिग्री को प्राप्त करने के पश्चात आप डॉक्टर बन सकते है। वैसे डॉक्टर की पदवी अपने नाम के आगे लगाने के लिए पीएचडी भी कर सकते है। तो आपने जाना कि एमबीबीएस का फुल फॉर्म क्या है? अब आइये बात करते है कि MBBS क्या है?

MBBS क्या है?

यह स्नातक डिग्री स्टूडेंट्स को डॉक्टर बनाती है। भारत में डॉक्टर बनने के लिए एमबीबीएस डिग्री लेनी अनिवार्य है। इंडिया में कई सरकारी और गैर सरकारी यूनिवर्सिटी यह डिग्री देती है। MBBS कोर्स के अंतर्गत दो डिग्री मिलती है। एक मेडिसीन में स्नातक डिग्री और दूसरी सर्जरी में स्नातक डिग्री मिलती है। इसी कारण MBBS कोर्स 5.5 वर्ष का होता है। यह बैचलर कोर्स करने के बाद 3 वर्ष की मास्टर डिग्री होती है जिसे MD या MS कहते है। MD या MS करने के बाद ही कोई डॉक्टर शल्य चिकित्सा कर सकता है।

एमबीबीएस कैसे करें? (General Information About MBBS)

  • MBBS करने अर्थात डॉक्टर बनने के लिए “10+2” साइंस विषय से करनी अनिवार्य है। सांइस में बायोलॉजी सब्जेक्ट होना भी जरूरी है।
  • 12 वीं बोर्ड में आपके विषय PCB यानिकि जीव विज्ञान, भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान होने चाहिए।
  • साइंस विषय से 12 वीं की परीक्षा केंद्रीय शिक्षा बोर्ड या राज्य शिक्षा बोर्ड से उतीर्ण कर सकते है।
  • MBBS की क्वालीफाई परीक्षा में बैठने के लिए आपके प्रत्येक विषय में 50 प्रतिशत अंक होने अनिवार्य है। आरक्षित सीटों के लिए 40 फीसदी अंक लाना जरूरी है।
  • MBBS के लिए आयु सीमा 17 से 25 साल के बीच होती है। आरक्षित लोगों के लिए यह सीमा 30 वर्ष तक होती है।
  • एमबीबीएस में दाखिला लेने के लिए NEET (National Eligibility Entrance Test) एग्जाम पास करना जरूरी है। NEET से पहले भारत में AIPMT (All India Pre Medical Test) एग्जाम होता था।

NEET परीक्षा पास होने के बाद आपको एमबीबीएस में एडमिशन मिलता है। यह एग्जाम बेहद कठीन होता है जिसे पास करने के लिए बहुत मेहनत चाहिए। नीट परीक्षा पास करने के केवल 3 मौके ही मिलते है जिससे तीन चांस में ही एग्जाम क्लियर करना जरुरी है।

एमबीबीएस की सामान्य जानकारी – Information About MBBS In Hindi

NEET का सिलेब्स 11th और 12th सिलेब्स पर आधारित होता है। MBBS का कोर्स 5.5 साल का होता है। इसमें से 1 साल की इंटरशिप होती है जो करनी अनिवार्य है। NEET के अलावा AIIMS (All India Institute Of Medical Science) और JNMC (Jawaharlal Nehru Medical College) का एग्जाम भी एमबीबीएस में प्रवेश के लिए होता है। इन परीक्षाओं को पास करना बहुत कठिन होता है। इसका कारण यूनिवर्सिटीज में MBBS सीटों का कम होना है।

बिना एग्जाम दिए भी MBBS में एडमिशन मिल सकता है। कुछ गैर सरकारी कॉलेज मोटी फीस लेकर एमबीबीएस की पढ़ाई कराते है। गरीब और आम लोगों के लिए इस तरह से डॉक्टर की पढ़ाई करना बहुत मुश्किल है। सरकारी कॉलेजों में MBBS की फीस 25 हजार से 50 हजार सालाना होती है। गैर सरकारी कॉलेज 5 से 10 लाख सालाना भी वसूल लेते है।

AIIMS में MBBS कोर्स की फीस (करीब 6 से 10 हजार सालाना) बहुत कम होती है, परन्तु इनमें एडमिशन लेना बहुत मुश्किल है। अच्छे नम्बर और रैंक लाने पर ही आपका एडमिसन हो सकता है। आपकी लायी गयी रैंक पर ही आपको मिलने वाला कॉलेज निर्भर करता है। अगर आपकी रैंक अच्छी है तो ही सरकारी कॉलेज मिलता है।

MBBS डिग्री के लिए बेस्ट सरकारी कॉलेज –

AIIMS न्यू दिल्ली, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ, BHU वाराणसी इत्यादि कॉलेज एमबीबीएस करने के लिए बेहतर ऑप्शन है।

एमबीबीएस के बाद क्या करे?

MBBS की डिग्री मिलने के बाद किसी भी सरकारी या गैर सरकारी अस्पताल में जॉब की जा सकती है। डॉक्टर बनने के पश्चात स्वंय का निजी अस्पताल या क्लीनिक भी खोला जा सकता है। आप चाहे तो डॉक्टर की डिग्री लेकर लेक्चरर भी बन सकते है।

भारत में मेडिकल कॉलेज को मान्यता मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) देता है। तो मित्रों डॉक्टर बनना आसान टास्क नही है। डॉक्टर बनने के लिए मेहनत के साथ पैसा भी होना चाहिए। डॉक्टर बनने के बाद आप 50 हजार से 1 लाख रुपये प्रतिमाह सैलरी पा सकते है। खुद का निजी क्लिनिक खोलकर भी कमाई कर सकते है।

यह भी पढ़े – 

Full Form Of MBBS In Hindi – डॉक्टर बनने के कोर्स MBBS का फुल फॉर्म क्या है (MBBS Ki Full Form In Hindi) और MBBS कोर्स की जानकारी पर यह संक्षिप्त आर्टिकल आपको जरूर पसंद आया होगा। अगर यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *