इंटरनेट का इतिहास व आविष्कार | History Of Internet In Hindi

इंटरनेट का इतिहास (History Of Internet In Hindi) और इंटरनेट का आविष्कार किसने किया? इन प्रश्नों के उत्तर इस लेख में विस्तारपूर्वक बताये गए है। इंटरनेट वर्तमान की जरूरत है और भविष्य इसी पर निर्भर है। इंटरनेट ने पिछले कुछ वर्षों में व्यापक तरक्की की है। टेक्नोलॉजी के युग में इंटरनेट का महत्व आप जानते ही है। Internet के अस्तित्व में आने से पहले सूचना और डाटा को भेजना और प्राप्त करना मुश्किल टास्क था। इंटरनेट ने सूचना कम्युनिकेशन को सरल बना दिया है।

इंटरनेट की शुरुआत कैसे हुई? और इंटरनेट का आविष्कार में किसका योगदान था? इन सभी बातों की संक्षिप्त में जानकारी लेने का प्रयास इस आर्टिकल “History Of Internet In Hindi” में किया गया है। तो आइए दोस्तों, इंटरनेट का रोचक इतिहास जानने का प्रयास करते है।

History Of Internet In Hindi

इंटरनेट का आविष्कार किसने किया था?

इंटरनेट का आविष्कार केवल एक व्यक्ति की देन नही है, यह कई लोगो का समय समय पर सतत प्रयास है। सर्वप्रथम इंटरनेट का आविष्कार अमेरिका की डिफेंस आर्मी (Department Of Defense) के लिए किया गया था। अमेरिकी डिफेंस आर्मी का मकसद अमेरिका को परमाणु हमलों से सुरक्षित करना था। यह वर्ष 1969 का समय था जब इंटरनेट को अमेरिकी आर्मी के लिए इंट्रोड्यूस किया गया।

दुनिया का पहला इंटरनेट नेटवर्क “ARPANET” (Advanced Research Project Agency Network) था जो कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में बनाया गया था। वर्ष 1969 में इस नेटवर्क समूह को संदेश भेजने के लिए इस्तेमाल किया गया। “ULCA” (University Of California, Los Angles) के एक प्रोग्रामर ने इन संदेशों को भेजा था। इसमें पैकेट स्विचिंग तकनीक का इस्तेमाल किया गया था।

“ARPANET” में चार दूरस्थ कंप्यूटर्स को आपस में कनेक्ट किया गया था। इंटरनेट का शुरुआती उपयोग केवल सेना तक ही सीमित था। इंटरनेट का मकसद “DATA” का आदान प्रदान करना होता है।

आप जानते ही है कि इंटरनेट कई सारे नेटवर्क का एक समूह है। परंतु हम इंटरनेट क्या है? इस विषय पर बात नही करेंगे। हमारा विषय इंटरनेट का आविष्कार किसने किया? प्रश्न को हल करना है। इसलिए इंटरनेट से संबंधित विभिन्न हिस्सों के विकास और आविष्कार के बारे में “History Of Internet In Hindi” में यहां पर चर्चा करेंगे। सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए इंटरनेट का आविष्कार करने की आवश्यकता महसूस हुई थी।

इंटरनेट का इतिहास – History Of Internet In Hindi

इंटरनेट के ही क्षेत्र में ईमेल के द्वारा सूचना भेजना और भी आसान हो गया है। ईमेल का आविष्कार रे टॉमलिंसन ने किया था। सर्वप्रथम “@” का प्रयोग भी उन्होंने ही शुरू किया था। यह वर्ष 1972 का समय था जब ईमेल शुरू हुआ। अभी भी इंटरनेट का शुरुआती रूप “ARPANET” ही चल रहा था। टेलनेट नामक टेक्निकल कम्पनी ने इसका व्यापक स्तर पर इस्तेमाल शुरू किया और आम जनता के लिए इंटरनेट आसान बनाया था। टेलनेट ने ही ARPANET को इंटरनेट का नाम दिया।

इंटरनेट में उसके प्रोटोकॉल महत्वपूर्ण होते है। ये प्रोटोकॉल TCP/IP (Transmission Control Protocol) / (Internet Protocol) होते है। इन प्रोटोकॉल के जरिये दो नेटवर्क या कंप्यूटर के मध्य कम्युनिकेशन बनाया जाता है। इंटरनेट के लिए इन प्रोटोकॉल का आविष्कार विंटन सर्फ और रॉबर्ट ई केहन ने किया था। इन दोनों को इंटरनेट का जनक भी माना जाता है।

Internet में कम्युनिकेशन ही सबसे महत्वपूर्ण होता है। इंटरनेट में क्लाइंट और सर्वर का रिलेशन भी है। बिना क्लाइंट और सर्वर के इंटरनेट सम्भव नही है। इन्ही के जरिये दुनिया में कही पर भी किसी अन्य कंप्यूटर से कनेक्शन बनाया जा सकता है। वर्ष 1980 में बिल गेट्स के बनाये माइक्रोसॉफ्ट ऑपरेटिंग सिस्टम में इंटरनेट का ऑप्शन दिया गया था। बिल गेट्स ने IBM कंप्यूटर्स में इसका इस्तेमाल किया था।

इंटरनेट की खोज किसने की थी?

आधुनिक रूप से इंटरनेट की ग्लोबल शुरुआत “WWW” के आविष्कार से हुई थी। टीम बर्नर्स ली नामक साइंटिस्ट ने WWW (World Wide Web) का आविष्कार किया था। वर्ष 1991 में टीम बर्नर्स ली के द्वारा शुरू किए गए इस प्रोग्राम ने इंटरनेट की वास्तविक शुरुआत की थी। WWW के आविष्कार से वेब पेज और वेबसाइट का चलन प्रारंभ हुआ। इससे पहले वेबसाइट का पता आईपी एड्रेस होता था जो कि एक न्यूमेरिकल पता था। डोमेन नेम सिस्टम के आने से वेबसाइट का एक नाम और .com, .in जैसे टॉप लेवल डोमेन आ गए थे।

वेब ब्राउज़र के बिना इंटरनेट काम नही करता है। इंटरनेट एक्सेस करने के लिए आपके डिवाइस में वेब ब्राउज़र होना अनिवार्य है। इंटरनेट को अधिक सुविधाजनक और यूजर फ्रेंडली बनाने के लिए वेब ब्राउज़र का आविष्कार किया गया था। इसकी सहायता से वेब कंटेंट को रीड करना आसान हो गया। वर्ष 1992 में मोसाइक वेब ब्राउज़र डेवलप हुआ था जो बाद में नेटसकैप ब्राउज़र कहलाया।

इंटरनेट का इतिहास Internet History In Hindi

इंटरनेट की दुनिया में मील का पत्थर गूगल का आविष्कार साबित हुआ था। वर्ष 1998 में आये गूगल ने इंटरनेट इस्तेमाल करने का नजरिया ही बदल दिया था। सर्गेई बिन और लैरी पेज के द्वारा शुरू किये गए गूगल सर्च इंजन ने इंटरनेट के विस्तार में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह किया है।

गूगल से पहले याहू सर्च इंजन आया था जिसने इंटरनेट के विकास में योगदान दिया था। इसके बाद फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम जैसे प्लेटफॉर्म ने इंटरनेट का उपयोग व्यापक किया।

History Of Internet In India In Hindi

भारत देश में इंटरनेट का आगमन वर्ष 15 अगस्त, 1995 में हुआ था। VSNL (विदेश संचार निगम लिमिटेड) ने सर्वप्रथम भारत में इंटरनेट की शुरुआत की थी। VSNL अब टाटा कम्युनिकेशन बन चुकी है। वर्तमान में जिओ, वीआई, एयरटेल, बीएसएनएल कम्पनियां इंटरनेट प्रोवाइड करती है।

इस पोस्ट History Of Internet In Hindi में इंटरनेट का आविष्कार किसने किया? और इंटरनेट का इतिहास के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी? अगर यह आर्टिकल “Internet Ki Khoj Kisne Ki Thi” अच्छा लगा हो तो इसे शेयर भी करे।

इंटरनेट से Related कुछ प्रश्न – 

Q.1 भारत में इंटरनेट की शुरुआत किसने की?

Ans. VSNL

Q.2 इंटरनेट का जनक कौन था?

Ans. विंटन सर्फ और रॉबर्ट ई केहन

Q.3 वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार किसने किया?

Ans. टीम बर्नर्स ली

यह भी पढ़े – 

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *