बिजली क्या है व खोज What Is Electricity In Hindi

इस पोस्ट What Is Electricity In Hindi में बिजली की खोज (Bijli Ki Khoj Kisne Ki), आविष्कार (Bijli Ka Avishkar Kisne Kiya) और बिजली क्या है? इत्यादि प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास है। बिजली की खोज दुनिया का एक क्रांतिकारी कदम था। बिजली का आविष्कार के पीछे कई वैज्ञानिकों का सतत प्रयास था। वैसे बिजली का आविष्कार नही हुआ था, इसकी खोज की गई थी।

What Is Electricity In Hindi

बिजली के बिना तकनीकी युग सम्भव नही था। वर्तमान में कंप्यूटर, मोबाइल, टीवी, फ्रिज, कार इत्यादि बिजली की शक्ति से ही चलते है। विद्युत के बिना इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का चालन सम्भव नही है। Electricity को हिंदी में “विद्युत” भी कहते है। तो आइए दोस्तों, विद्युत क्या है और विद्युत की खोज किसने की थी? इन प्रश्नों पर विस्तृत चर्चा करते है।

बिजली की खोज किसने की Bijli Ki Khoj Kisne Ki –

What Is Electricity In Hindi – बिजली की खोज ने आधुनिक दुनिया की नींव रखी थी। विद्युत की खोज वर्ष 1752 में बेंजामिन फ्रेंकलिन ने की थी। फ्रेंकलिन ने बताया कि बिजली को ना तो उत्पन्न किया जा सकता है और ना ही नष्ट कर सकते है। उन्होंने बिजली को खोजा और समझा था। फ्रेंकलिन ने बादलों की तड़ित पर अध्ययन करके बिजली की खोज की थी। उन्होंने रात को बारिश के समय आसमान में पतंग उड़ाकर विद्युत तड़ित को खोजा था।

फ्रेंकलिन ने पतंग की डोर के दूसरे हिस्से पर एक लोहे की चाबी लगा दी थी। जब फ्रेंकलिन ने उस चाबी को छुआ तो उन्हें करंट का झटका महसूस हुआ था। बेंजामिन फ्रेंकलिन ने फ्रेंकलिन छड़ का आविष्कार भी किया था। उन्होंने अपने प्रयोग में बताया कि आसमान की तड़ित भी विद्युत ही है। फ्रेंकलिन ने आवेश के बारे में बताया कि धनात्मक और ऋणात्मक दो प्रकार के स्थिर आवेश होते है।

केवल फ्रेंकलिन ही नही बिजली की खोज (Bijli Ki Khoj Kisne Ki) के इतिहास में कई वैज्ञानिकों का नाम आता है। फ्रेंकलिन के द्वारा खोजी गयी इलेक्ट्रीसिटी को अन्य वैज्ञानिकों ने समझा और कई महत्वपूर्ण आविष्कार किये थे। वर्ष 1800 में इटली के भौतिक वैज्ञानिक अलेसांद्रो वोल्टा ने बैटरी का आविष्कार किया जिसमें इलेक्ट्रिसिटी को स्टोर किया जा सकता था। उन्होंने अपने इस आविष्कार से यह सिद्ध किया कि रासायनिक क्रियाओं के जरिये विधुत उत्पन्न कर सकते है।

आगे चलकर वर्ष 1831 में इलेक्ट्रिक डायनेमो का आविष्कार हुआ था। माइकल फैराडे ने डायनेमो का आविष्कार किया था। डायनेमो विद्युत जनरेटर थे जो बिजली का उत्पादन करने में सक्षम थे। यह डायरेक्ट करंट (DC) उत्पन्न करता था। फैराडे को आधुनिक युग का विधुत खोजकर्ता भी कहा जाता है।

Bijli Ka Avishkar Kisne Kiya बिजली का आविष्कार व खोज –

वर्ष 1878 में थॉमस अल्वा एडिसन ने विद्युत बल्ब का आविष्कार किया जिसने दुनिया को रोशन कर दिया। उन्होंने विद्युत के क्षेत्र में दिष्ट धारा की खोज भी की थी। दुनिया का पहला पॉवर प्लांट भी एडिसन ने ही बनाया था। महान वैज्ञानिक निकोला टेस्ला ने अल्टरनेटिव करंट (AC) की खोज और आविष्कार किया। यह विद्युत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण कदम था।

ट्रांसफार्मर की खोज ने इलेक्ट्रिसिटी को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचाना आसान बना दिया। इसकी मदद से विधुत धारा की प्रबलता कम की जा सकती है। विलियम गिल्बर्ट ने बिजली के लिए Electricity से मिलता जुलता शब्द “इलेक्ट्रिकस” का प्रयोग किया था। सर्वप्रथम “Electricity” शब्द का प्रयोग थॉमस ब्राउन ने किया था।

इतिहास में अगर पीछे जाए तो यूनान के इतिहास में प्राचीन बैट्री का जिक्र आता है। ये बैटरियां तांबे से बनी हुई थी, पुरातात्विक खोजकर्ता ने इनकी वर्ष 1930 में खोज की थी। इससे यह सिद्ध होता है कि करीब 2 हजार साल पूर्व भी लोगो को विद्युत का उपयोग पता था। यूनान के लोगो को यह पता था कि दो वस्तुओं को रगड़ने पर परस्पर आकर्षण पैदा होता है। इसे वैद्युत चुम्बकीय गुण कहते है।

यूनान के वैज्ञानिक थेल्स ने अम्बर (चीड़ का पेड़ का गोंद) से फर्र (पंख) को रगड़कर इस आकर्षण को खोजा था। यह आकर्षण स्थिर वैद्युत (Static Electricity In Hindi) थी। वैसे दोस्तों, वस्तुओं को रगड़ने पर पैदा हुआ आकर्षण गुण आप दैनिक जीवन में भी महसूस कर सकते हो। उदाहरण के तौर पर बालों में कंघा करने पर कागज के टुकड़े उसकी और आकर्षित होते है।

बिजली क्या है What Is Electricity In Hindi –

What Is Electricity In Hindi – बिजली या विधुत एक शक्ति है। इसे ऊर्जा भी कह सकते है जो प्रकृति में पहले से मौजूद है। विधुत को नही देखा जा सकता है। इलेक्ट्रॉन के प्रवाह के कारण ही विधुत उत्पन्न होती है। आप यह जानते ही है कि किसी भी तत्व का सबसे छोटा कण परमाणु होता है। परमाणु के अंदर नाभिक के चारों तरफ इलेक्ट्रॉन चक्कर लगाते है। इन इलेक्ट्रॉन्स में से कुछ को अलग करके फ्री किया जा सकता है। ये मुक्त इलेक्ट्रॉन होते जो विद्युत प्रवाह के लिए जिम्मेदार होते है।

किसी भी चालक प्रदार्थ में आवेश प्रवाह की दर को विद्युत धारा कहते है। विद्युत धारा को एम्पीयर में मापा जाता है। समान प्रकार के आवेश एक दूसरे को प्रतिकर्षित करते है जबकि असमान आवेश आकर्षित होते है। जहां पर विधुत आवेश होता है, उसे विद्युतीय क्षेत्र कहते है।

वस्तुओं को रगड़ने से आवेश पैदा होता है जिससे वस्तु में वैद्युत गुण आ जाते है। इसे स्थिर वैद्युत भी कहते है क्योंकि इसमें आवेश की मात्रा स्थिर रहती है। यही आवेश जब किसी तार में प्रवाहित होता है, तो उसे विद्युत धारा कहते है।

इलेक्ट्रिसिटी क्या है Electricity Kya Hai –

बिजली की खोज Electricity In Hindi – विधुत प्रवाह के आधार पर ही प्रदार्थो को दो भागों में बांटा जा सकता है। इन्हें सुचालक और कुचालक प्रदार्थ कहते है। विधुत सुचालक प्रदार्थ में मुक्त इलेक्ट्रॉन होते है जो विद्युत का चालन करते है। जैसे कि चांदी, लोहा, कॉपर इत्यादि। कुचालक प्रदार्थ में मुक्त इलेक्ट्रॉन नही होते है। इन प्रदार्थो में लकड़ी, प्लास्टिक इत्यादि आते है। इसलिए सुचालक प्रदार्थो से विधुत संचालन के लिए तार बनाये जाते है। ज्यादातर तार कॉपर या ऐल्युमिनियम के बनाये जाते है।

विधुत तार में इलेक्ट्रॉन का स्थानांतरण होता है और इसी कारण विधुत आवेश का प्रवाह होता है। बारिश के दिनों में आसमान में बिजली का कड़कना भी विद्युत का ही एक रूप है। विद्युत चुम्बकीय प्रक्रिया के द्वारा भी बिजली का उत्पादन किया जा सकता है।

बिजली के उपयोग What Is Electricity In Hindi –

बिजली क्या है What Is Electricity In Hindi – रात के अंधेरे में बिजली की मदद से प्रकाश से रोशनी दी जाती है। गर्मी लगने पर पंखा या कूलर चलाकर ठंडक का अहसास करते है। सोचिए अगर बिजली ना होती तो क्या होता? रात को बिजली चली जाए तो आप कितने परेशान हो जाते है। बिजली या विद्युत ने हमारे जीवन को आसान बनाया है। इसलिए हमें बिजली कम खर्च करनी चाहिए। आपके घरों में जो विद्युत आती है, वह AC (Alternative Current) होती है। जबकि बैटरीज में DC (Direct Current) इस्तेमाल किया जाता है।

बिजली को पैदा करने के लिए बाहरी शक्ति की आवश्यकता होती है। वैज्ञानिकों ने पानी की शक्ति से बिजली बनाई, परमाणु ऊर्जा से बिजली पैदा की इत्यादि कई विधियों से विद्युत ऊर्जा का उपयोग किया। बिजली बनाने के कई स्रोत है जिनमें सौर ऊर्जा, जैविक ईंधन जैसे कि कोयला और पवन ऊर्जा भी आती है। जिन स्थानों पर बिजली पैदा करके घरों तक भेजी जाती है, उन्हें पॉवर स्टेशन या प्लांट कहते है।

यह भी पढ़े – 

नोट – What Is Electricity In Hindi पोस्ट में बिजली की खोज (Bijli Ki Khoj Kisne Ki), और बिजली क्या है (Electricity Kya Hai) के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी। यह आर्टिकल “Bijli Ka Avishkar Kisne Kiya” अच्छा लगा हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *