प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं | What Is Photosynthesis In Hindi

इस पोस्ट What Is Photosynthesis In Hindi में प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं? प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया समीकरण और इसके महत्व की जानकारी है। प्रकाश संश्लेषण पौधों में होने वाली अभिक्रिया है। इसमें पेड़ पौधों की कोशिका में प्रकाशीय ऊर्जा का रूपांतरण रासायनिक ऊर्जा में होता है। प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया सूर्य के प्रकाश के बिना सम्भव नही है। यह पृथ्वी पर जीवन के लिए जरूरी क्रिया है।

पौधे इस क्रिया के द्वारा भोजन का निर्माण करते है। ऑक्सीजन गैस की उत्पत्ति भी प्रकाश संश्लेषण क्रिया में होती है। प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया जानना कक्षा 8, 9, 10, 11 और 12 के विद्यार्थीओ के लिए बहुत उपयोगी है। तो आइए दोस्तों प्रकाश संश्लेषण क्या है “Prakash Sanshleshan क्या है?” इसे विस्तारपूर्वक समझने की कोशिश करते है।

What Is Photosynthesis In Hindi

प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं? What Is Photosynthesis In Hindi

पेड़ पौधे स्वयं भोजन बनाते है जबकि दूसरे जीव भोजन के लिए पेड़ पौधों पर निर्भर है। पेड़ पौधे सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में जल और कार्बन डाइऑक्साइड के द्वारा भोजन (कार्बोहाइड्रेट) का निर्माण करते है। इस क्रिया को ही प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) कहते है। पेड़ पौधे के हरे रंग के भाग प्रकाश संश्लेषण में भाग लेते है। पौधे की हरी पत्तियां इस प्रक्रिया को पूर्ण करती है।

कार्बोहाइड्रेट के अलावा पौधे ऑक्सीजन का भी निर्माण करते है जो पृथ्वी के समस्त जीवन के लिए प्राणवायु है। प्रकाश संश्लेषण में सुक्रोज, ग्लूकोज, स्टार्च जैसी कार्बोहाइड्रेट बनती है। इस अभिक्रिया में पौधे सूर्य से प्राप्त प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलते है। जल, क्लोरोफिल, कार्बन डाइऑक्साइड आपस में रासायनिक क्रिया करते है जिससे भोजन बनता है।

पेड़ पौधे की पत्तियों में “क्लोरोफिल” नामक तत्व पाया जाता है। क्लोरोफिल तत्व ही प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में बदलता है। यह तत्व ही प्रकाश संश्लेषण के लिए जरूरी अवयव है। पौधे की पत्तियों का हरा रंग भी क्लोरोफिल के कारण ही होता है।

पेड़ पौधे जल, क्लोरोफिल, कार्बन डाइऑक्साइड और सूर्य के प्रकाश से ही प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) करते है जो एक महत्वपूर्ण जैविक क्रिया है।

प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया के तत्व क्या है?

  • 1. प्रकाश (Sunlight)
  • 2. कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon Dioxide)
  • 3. पानी (Water)
  • 4. क्लोरोफिल (Chlorophyll)

1. प्रकाश (Sunlight)

सूर्य का प्रकाश प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करता है। सूर्य के प्रकाश की तीव्रता बढ़ने पर प्रकाश संश्लेषण भी तेज हो जाता है। परंतु अधिक तीव्रता पर भी प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया रुक जाती है।

2. कार्बन डाइऑक्साइड (Carbon Dioxide)

यह गैस पृथ्वी के वायुमंडल में अल्प मात्रा (0.03%) में उपस्थित है। कार्बन डाइऑक्साइड प्रकाश संश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

3. पानी (Water)

बिना पानी के पेड़ पौधे का पनपना नामुमकिन है। प्रकाश संश्लेषण में जल की मात्रा कम होने पर अभिक्रिया कम हो जाती है।

4. क्लोरोफिल (Chlorophyll)

हरे रंग की पत्तियों में मौजूद क्लोरोफिल नामक तत्व प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया को पूर्ण करता है। क्लोरोफिल को हिंदी में “हरित लवक” भी कहते है। यह पौधे की कोशिका के क्लोरोप्लास्ट में मौजूद होता है। यह पत्तियों की मिसोफिल कोशिका में पाया जाता है। क्लोरोफिल सूर्य के प्रकाश को अवशोषित करता है।

हरी पत्तियों में चार प्रकार के क्लोरोफिल या वर्णक मिलते है। क्लोरोफिल A, क्लोरोफिल B, जैन्थोफिल और करॉटिनाइड्स चार मुख्य वर्णक है। क्लोरोफिल A मुख्य वर्णक है जबकि बाकी के तीन सहायक वर्णक है। ये वर्णक प्रकाश की विभिन्न तरंगदैर्ध्य को अवशोषित करते है।

प्रकाश संश्लेषण कैसे होता है? Photosynthesis In Hindi

पृथ्वी के प्रत्येक जीव को जीवित रहने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। यहां तक कि पेड़ पौधे भी जीवित रहने के लिए भोजन का निर्माण करते है। प्रकाश संश्लेषण में मुख्यतः हरी पत्तियां उपयोग होती है लेकिन तना और जड़ भी इस क्रिया में भाग लेते है।

पौधे जड़ के द्वारा भूमि से पानी का अवशोषण करते है। यह पानी तने के द्वारा पेड़ की पत्तियों तक जाता है। पत्तियां वातावरण से मनुष्य द्वारा छोड़ी गई कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते है। पत्तियों पर महीन छिद्र होते है जिनके द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड पौधे के क्लोरोफिल से क्रिया करती है। इन महीन छिद्रों को स्टोमेटा कहते है।

एक तरह से कह सकते है कि पेड़ पौधे प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) में कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करके ऑक्सीजन का निर्माण करते है। ऑक्सीजन पत्तियों के छोटे छिद्रों के द्वारा बाहर निकलती है। आप जानते ही है कि ऑक्सीजन प्राणवायु है। इसलिए प्रकाश संश्लेषण क्रिया मनुष्य और दूसरे जीवित जीवों के लिए भी महत्वपूर्ण है।

प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया समीकरण

कार्बन डाइऑक्साइड के 6 अणु और जल के 12 अणु प्रकाश और क्लोरोफिल की उपस्थिति में अभिक्रिया करते है। जल का अणु हाइड्रोजन और ऑक्सीजन में टूटता है।

1. 6CO2 (कार्बन डाइऑक्साइड) + 12H2O (जल) + सूर्य का प्रकाश + क्लोरोफिल =

2. C6H12O6 + 6O2 + 6H2O + क्लोरोफिल

इस अभिक्रिया में ऑक्सीजन के अणुओं की उत्पत्ति पानी के अणुओं से होती है। प्रकाश संश्लेषण में जल के 6 अणु भी उत्पाद के रूप में मिलते है। C6H12O6 (कार्बोहाइड्रेट या ग्लूकोज) का एक अणु भोजन के रूप में प्राप्त होता है। इस अभिक्रिया में ऑक्सीजन के 6 अणु 6O2 (ऑक्सीजन) भी निकलते है।

प्रकाश संश्लेषण का महत्व Photosynthesis Importance In Hindi

1. प्रकाश संश्लेषण से पेड़ पौधे भोजन बनाते है। यह दूसरे जीवो को भोजन की पूर्ति करता है। पौधों के द्वारा बनाया गया भोजन मनुष्य और दूसरे जीव खाते है। एक तरह से कह सकते है कि मनुष्य भोजन के लिए पेड़ पौधों पर निर्भर है।

2. इस अभिक्रिया में प्राणवायु ऑक्सीजन का निर्माण होता है। ऑक्सीजन पृथ्वी पर जीवन के लिए जरूरी तत्व है। मनुष्य और दूसरे जीव श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन ग्रहण करते है।

3. जमीन के नीचे से तेल, प्राकृतिक गैस, कोयला जैसे प्रदार्थ प्राप्त होते है। ये प्रदार्थ हजारो वर्षो पूर्व प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया से पेड़ पौधों द्वारा संग्रहहित किये गए थे।

4. प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में वातावरण से कार्बन डाइऑक्साइड ली जाती है और ऑक्सीजन छोड़ी जाती है। इससे पर्यावरण में कार्बन डाइऑक्साइड और ऑक्सीजन का संतुलन बना रहता है। प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया केवल हरे रंग के पेड़ पौधों में ही सम्भव है।

यह भी पढ़े –

Note – What Is Photosynthesis In Hindi पोस्ट में प्रकाश संश्लेषण किसे कहते हैं? प्रकाश संश्लेषण अभिक्रिया समीकरण और प्रकाश संश्लेषण महत्व के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी? यह आर्टिकल प्रकाश संश्लेषण क्या है? पसंद आया हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर पर शेयर जरूर करे। ब्लॉग आपको पसंद है तो इसे सब्सक्राइब भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *