नवरात्रि क्यों मनाई जाती है व कथा Navratri Katha In Hindi

नवरात्रि की कथा Navratri Katha In Hindi

दोस्तों, नवरात्रि की कथा Navratri Katha In Hindi में नवरात्रि क्यों मनाई जाती है (Navratri Kyu Manaya Jata Hai) और नवरात्रि का महत्व के बारे में जानकारी है। नवरात्रि का त्यौहार हिन्दू धर्म में विशेष महत्व रखता है। नवरात्रि के नौ दिनों के पश्चात 10 वें दिन दशहरा आता है। नवरात्रि त्योहार को भारतवर्ष खासकर असम और बंगाल में हरसोउल्लास के साथ मनाते है। नवरात्रि को शक्ति उपासना का पर्व भी कहते है। नवरात्रि मनाने के पीछे हिन्दू पौराणिक कथा और मान्यता है। तो आइए दोस्तों, नवरात्रि क्यों मनाते है “Navratri Kyu Manate Hai”, इस प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास यहां पर किया गया है।

Navratri Katha In Hindi

आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की 1 तारीख से 9 तक नवरात्रि के व्रत किये जाते है। इस नवरात्रा को शारदीय नवरात्र कहते है। इस नवरात्रि के दसवें दिन विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है। विजयदशमी के 20 दिन बाद दीवाली का त्यौहार आता है। दूसरा नवरात्रि चैत्र मास की शुरुआत में मनाया जाता है। इस नवरात्रि के 9 वे दिन रामनवमी मनाई जाती है। चैत्र नवरात्रि को बसन्त नवरात्रि भी कहते है। इन दो मुख्य नवरात्रि के अलावा दो गुप्तनवरात्री भी मनाई जाती है।

नवरात्रि क्यों मनाई जाती है Navratri Kyu Manaya Jata Hai –

Navratri Katha In Hindi – नवरात्रि (Navratri) का अर्थ 9 राते होती है। नवरात्रि का पर्व विजयदशमी के पूर्व 9 दिन तक चलता है। हिन्दू मान्यता के अनुसार माँ दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का वध किया था। ऐसा माना जाता है कि माँ दुर्गा और महिषासुर का युद्ध पूरे 9 दिन चला था। महिषासुर उस वक्त का सबसे बड़ा राक्षस था जिसका सर भैंसे की तरह था।

कथा के अनुसार महिषासुर ने भगवान शिव से वरदान पाकर स्वर्ग लोक, भूलोक, पाताल लोक पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद देवताओं को स्वर्ग से निकाल दिया गया। देवताओं ने स्वर्ग को वापस पाने के लिए त्रिदेव ब्रह्मा, शिव और विष्णु से गुहार लगाई लेकिन शिवजी के वरदान के कारण वे महिषासुर का वध नही कर पाए।

अंत में तीनों देवताओं ने अपनी शक्तियों से माँ दुर्गा को उत्पन्न किया और उन्हें अपने सारे अस्त्र दिए। देवी दुर्गा जब महिषासुर के पास गयी तो वह राक्षस उन की सुंदरता पर मोहित हो गया। उसने देवी को विवाह का प्रस्ताव दिया। देवी दुर्गा ने महिषासुर के सामने शर्त रखी कि अगर वह उन्हें युद्ध में हरा देगा तो वह उससे विवाह करेगी। 9 दिनों तक देवी दुर्गा ने राक्षस महिषासुर से युद्ध किया और नौ वें दिन उसका वध किया और देवताओं को स्वर्ग वापस मिला।
इसलिए हर वर्ष इन दिनों को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है।

नवरात्रि क्यों मनाते है Navratri Kyu Manate Hai –

Navratri Katha In Hindi – चैत्र शुक्ल मास के 9 दिन देवी पार्वती ने अपने अंश से नव रूप उत्पन्न किये थे। पार्वती ने अपने इन रूपों से असुर शक्तियों का संहार किया था। इसी कारण से हर वर्ष चैत्र शुक्ल पक्ष के नवरात्रि मनाये जाते है।

इस पौराणिक कथा के अलावा यह भी मान्यता है कि रावण का वध करने से पूर्व भगवान राम ने 9 दिनों का व्रत रखा था। 10 वें दिन राम ने रावण का वध किया था। इस दिन दशहरे का त्योहार मनाया जाता है। ब्रह्माजी के कहे अनुसार भगवान राम ने देवी चंडी की 9 दिनों तक पूजा की थी। इस विशेष पूजा में श्रीराम ने 108 नीलकमल के साथ देवी चंडी को प्रसन्न किया था।

नवरात्रि पर्व से जुड़ी हुई एक और कथा पूर्वी भारत में प्रचलित है। इस पौराणिक कथा के अनुसार राजा दक्ष की उमा नामक सुंदर और सुशील पुत्री थी। उमा शिवभक्त थी और वह भगवान शिव से विवाह की इछुक थी। राजा दक्ष भगवान शिव को उनके रहन सहन और वेशभूषा के कारण पसंद नही थे। लेकिन पुत्री की इच्छा के अनुसार उन्हें विवाह कराना पड़ा।

एक बार दक्ष ने यज्ञ का आयोजन किया लेकिन शिव को उसमें आमंत्रित नही किया। इस अपमान से आहत होकर देवी उमा अग्नि में प्राणों की आहुति देकर सती हो गई। इसके बाद सती का देवी पार्वती के रूप में पुनः जन्म हुआ और विवाह भी भगवान शिव से हुआ। इसके पश्चात उनसे कार्तिकेय और गणेश पुत्र हुए। ऐसा माना जाता है कि दोनों पुत्र हरवर्ष इन्ही दिनों में पिता के पास आते है।

नवरात्रि की कथा का महत्व Navratri Ki Katha In Hindi –

नवरात्रि (Navratri) का पर्व नौ दिनों तक चलता है और प्रत्येक दिन माँ दुर्गा के एक रूप की पूजा की जाती है। नवरात्रि का 9 वां दिन महानवमी कहलाता है। नवरात्रि का त्यौहार वर्ष में दो बार आता है। नौ दिन तक माँ दुर्गा के इन 9 रूपों की पूजा होती है जिन्हें नवदुर्गा कहते है। दुर्गा के 9 रूप शक्ति के प्रतीक है। भारत के कई हिस्सों में नवरात्रि की रात गरबा महोत्सव का आयोजन होता है। गरबा के उत्सव में डांडिया का खेल रातभर चलता है। भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में माँ दुर्गा के 9 रूपों की पूजा होती है। 10 वें दिन भक्त देवी दुर्गा की मूर्ति का पानी में विसर्जन करते है।

इस पर्व में मुख्यतः व्रत रखा जाता है। भक्तजन माँ दुर्गा के 9 रूपो की पूजा के साथ अन्न त्यागकर व्रत रखते है। नवरात्रि के अंतिम दिन उत्तर भारत में कन्यापूजन भी किया जाता है।

यह भी पढ़े –

नोट – इस पोस्ट Navratri Katha In Hindi में नवरात्रि की कथा (Navratri Ki Katha) और नवरात्रि क्यों मनाई जाती है (Navratri Kyu Manaya Jata Hai) का पौराणिक महत्व आपको कैसा लगा। यह आर्टिकल नवरात्रि क्यों मनाते है “Navratri Kyu Manate Hai” आपको पसंद आया हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर पर शेयर करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *