Thermometer In Hindi थर्मामीटर का आविष्कार, उपयोग और जानकारी

इस पोस्ट Thermometer In Hindi में थर्मामीटर का आविष्कार (Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya), उपयोग और थर्मामीटर क्या है, इन प्रश्नों के उत्तर जानने का प्रयास करेंगे। थर्मामीटर तापमान को मापने के लिए उपयोग किया जाता है। चाहे बुखार में शरीर का ताप मापन हो या किसी भी जगह का तापमान मापन हो, थर्मामीटर जरूरी है। तो आइए दोस्तों, थर्मामीटर क्या है और थर्मामीटर का आविष्कार किसने किया पर बात करते है।

Thermometer In Hindi

थर्मामीटर या तापमापी क्या है What Is Thermometer In Hindi

थर्मामीटर (Thermometer In Hindi) कांच की बनी एक नलिका होती है। इस नलिका के अंदर पारा भरा होता है। पारा को मर्करी भी कहते है। इसे हिंदी में तापमापी भी कहते है जिसका अर्थ तापमान का मापन होता है। इस धातु की खासियत यह होती है कि गर्मी पाकर पारा फैलता है। इस कांच की बनी नलिका पर बाहर की तरफ नम्बर्स बने होते है। ये नम्बर्स पैमाना कहलाते है जो फारेनहाइट या सेल्सियस है।

इस उपकरण की नलिका का निचे का भाग थोड़ा मुड़ा हुआ होता है। इस नलिका के अंदर एक पानी का बुलबुला भी होता है जो पारे को उतरने से रोकता है। सामान्य शब्दो में कहे तो थर्मामीटर प्रदार्थ के उष्मीय प्रसार पर कार्य करते है। प्रदार्थ यानीकि पारे का आयतन तापमान बढ़ने पर बढ़ता है। प्रदार्थ का आयतन ताप के समानुपाती होता है।

दो प्रकार के थर्मामीटर वर्तमान में इस्तेमाल किये जाते है। एक थर्मामीटर में Contact या स्पर्श करके किसी भी वस्तु के तापमान का पता लगाते है। इस प्रकार के थर्मामीटर का उपयोग बुखार मापने में करते है। थर्मामीटर का एक हिस्सा मुंह में जीभ के नीचे दबाकर शरीर का तापमान मापते है। इस प्रकार के थर्मामीटर में पारा ऊपर की तरफ चढ़ता है जिससे तापमान मापा जाता है। इसे एनालॉग थर्मामीटर भी कहते है।

दूसरे प्रकार के थर्मामीटर वातावरण के तापमान को मापने का काम करते है। इस प्रकार के थर्मामीटर में सेंसर लगे होते है जो तापमान का मापन करके LED स्क्रीन पर डिस्प्ले करते है। मापा गया तापमान डिजिटल फॉर्म में दिखाया जाता है। इसे डिजिटल थर्मामीटर कहते है।

थर्मामीटर का आविष्कार Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya –

थर्मामीटर (Thermometer) का आविष्कार वर्ष 1596 में गैलीलियो गैलिली ने किया था। उन्होंने ही सर्वप्रथम गर्मी या ताप को मापने के लिए यह उपकरण बनाया था। संतोरियो नामक वैज्ञानिक ने इस उपकरण पर संख्यात्मक पैमाना बनाया था। इन्हें आधुनिक थर्मामीटर का जनक भी मानते है।

मर्करी भरा हुआ थर्मामीटर का आविष्कार वर्ष 1714 में जर्मनी के ग्रेबियल फारेनहाइट नामक वैज्ञानिक ने किया था। उन्होंने पानी के बर्फ बनने और उबलने वाले बिंदुओं को 180 डिग्री में विभाजित किया। वर्ष 1742 में ऐंडर सेल्सियस वैज्ञानिक ने सेल्सियस पैमाने का आविष्कार किया था।

गैलीलियो ने जिस उपकरण का आविष्कार किया था, उसे थर्मामीटर कहना उचित नही होगा क्योंकि उसमें मापन पैमाना नही था। इसलिए इस उपकरण को थर्मोस्कोप कहते है। यह थर्मोस्कोप केवल तापमान का अंतर बताता था। पहला आधुनिक चिकित्सा में इस्तेमाल होने वाला थर्मामीटर सर थॉमस एलबट्ट ने वर्ष 1867 में बनाया था।

थर्मामीटर का आविष्कार (Thermometer Ka Avishkar) मानव विज्ञान में क्रांतिकारी सिद्ध हुआ है। इसी के कारण शरीर के तापमान का स्तर ज्ञात करना आसान हुआ जिससे बुखार का सही इलाज संभव हुआ। वातावरण का तापमान पहले ज्ञात करना सम्भव नही था लेकिन आज आसानी से किसी भी जगह का तापमान मालूम किया जा सकता है।

Note – इस पोस्ट Thermometer In Hindi में थर्मामीटर का आविष्कार (Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya) की जानकारी कैसी लगी। यह आर्टिकल “Thermometer Information In Hindi” पसंद आया हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *