12 Jyotirling Ke Naam हिंदी में व संक्षिप्त जानकारी

इस लेख में 12 ज्योतिर्लिंग के नाम (Jyotirling Ke Naam) हिंदी में और उनका हिन्दू धर्म में महत्व के बारे में जानकारी दी गयी है। 12 ज्योतिर्लिंग भगवान शिव से संबंधित है। ये ज्योतिर्लिंग देश में कहा स्थिति है, इस पर भी चर्चा करेंगे। वैसे तो देश में लाखों शिव मंदिर है लेकिन ज्योतिर्लिंग का अपना एक विशेष महत्व है। तो आइए मित्रो, हिन्दू धर्म के पवित्र 12 ज्योतिर्लिंग के नाम (Names Of Jyotirling Hindi Mein) व जानकारी जानने का प्रयास करते है।

12 Jyotirling Ke Naam Hindi Mein

12 Jyotirling Ke Naam हिंदी में और जानकारी

1. सोमनाथ ज्योतिर्लिंग (Somnath Jyotirling)

सोमनाथ मंदिर गुजरात राज्य के सौराष्ट्र क्षेत्र में मौजूद है। सोमनाथ को इस धरती पर भगवान शिव का प्रथम ज्योतिर्लिंग माना जाता है। सोमनाथ मंदिर पर कई बार विदेशी आक्रमणकारियों ने हमला किया है और यह मंदिर कई बार टूटा और बना है। शिवपुराण में आता है कि जब दक्ष ने चन्द्रमा को क्षय रोग का श्राप दिया था, तब चन्द्रमा ने इसी जगह पर आकर तप किया था और उसे श्राप से मुक्ति मिली थी।

2. मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग (Mallikarjuna Jyotirling)

यह ज्योतिर्लिंग आंधप्रदेश में कृष्णा नदी के पास श्रीशैल नामक पर्वत पर स्थित है। इस ज्योतिर्लिंग का दर्शन करने से पापों से मुक्ति मिलती है। इस ज्योतिर्लिंग को दक्षिण भारत का कैलाश भी कहते है।

3. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग (Mahakaleshwar Jyotirlinga)

यह ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश में उज्जैन शहर में मौजूद है। इस मंदिर को महाकालेश्वर मंदिर भी कहते है। 12 Jyotirling Ke Naam

4. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग (Omkareshwar Jyotirlinga)

यह ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में मौजूद है। इस मंदिर के चारों और नर्मदा नदी का प्रवाह है। यह ज्योतिर्लिंग ॐ का आकार लिए हुए है।

5. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग (Kedarnath Jyotirling)

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग उत्तराखंड राज्य में आता है। शिव पुराण में भी केदारनाथ मंदिर का जिक्र है। हिमालय पर्वत की चोंटी पर यह मंदिर स्थित है।

6. भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग (Bhimashankar Jyotirling)

यह महाराष्ट्र राज्य के पुणे में स्थित है। सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित इस ज्योतिर्लिंग को मोटेश्वर महादेव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर के पास से भीमा नदी निकलती है।

7. विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग (Kashi Vishwanath Jyotirling)

यह ज्योतिर्लिंग भारत में उत्तरप्रदेश के काशी शहर में स्थित है। इसके बारे में यह कथा है की प्रलय के समय भगवान शिव काशी को अपने त्रिशूल पर उठा लेंगे।

भारत के 12 ज्योतिर्लिंग के नाम In Hindi

8. त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग (Trimbakeshwar Jyotirling)

यह ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य के नासिक में गोदावरी नदी के पास स्थित है। ऐसा माना जाता है कि गौतम ऋषि और मां गौदावरी के आग्रह पर ज्योतिर्लिंग के रूप में भगवान शिव का यहां वास है।

9. वैधनाथ ज्योतिर्लिंग (Baidyanath Jyotirling)

यह ज्योतिर्लिंग झारखंड राज्य के संथाल नामक स्थान पर मौजूद है। जहां यह मंदिर स्थित है, उसे वैधनाथ धाम भी कहते है।

10. नागेश्वर ज्योतिर्लिंग (Nageshwar Jyotirling)

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात राज्य में स्थित है। भगवान शिव को नागों का देवता माना जाता है, इसलिए यह मंदिर का नाम नागेश्वर है।

11. रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग (Rameshwaram Jyotirlinga)

भारत के दक्षिण राज्य तमिलनाडु में यह ज्योतिर्लिंग मौजूद है। यह मंदिर हिन्दू धर्म के चार धामों में से एक है। रामायण के अनुसार इस शिवलिंग की स्थापना स्वयं भगवान राम ने की थी। उसी समय उन्होंने सेतु का निर्माण भी किया था।

12. घृष्‍णेश्‍वर ज्योतिर्लिंग (Grishneshwar Jyotirling)

यह मंदिर महाराष्ट्र राज्य के दौलताबाद के पास मौजूद है। यह भगवान शिव का अंतिम ज्योतिर्लिंग है।

ज्योतिर्लिंग के नाम (12 Jyotirling Ke Naam) का महत्व

ज्योतिर्लिंग के बारे में यह माना जाता है कि इनके दर्शन मात्र से सारे पाप धुल जाते है। आशा करते है कि ज्योतिर्लिंग के बारे में आपको उपयोगी जानकारी मिली होगी। प्रत्येक ज्योतिर्लिंग का भारत में विशेष महत्व है। भगवान शिव शंकर की आराधना में इन ज्योतिर्लिंग की पवित्र यात्रा महत्वपूर्ण है।

Note – हिन्दू धर्म में विशेष महत्व के 12 ज्योतिर्लिंग के नाम पर यह आर्टिकल 12 Jyotirling Ke Naam Hindi Mein आपको कैसा लगा? यह पोस्ट “12 Jyotirling Name In Hindi” पसंद आयी हो तो इसे फेसबुक और ट्विटर पर शेयर भी करे।

अन्य पोस्ट –

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *