रैंडम एक्सेस मेमोरी “रैम” क्या है? Random Access Memory In Hindi

यह आर्टिकल Random Access Memory In Hindi रैम क्या है? (What Is RAM In Hindi) रैम के प्रकार और कार्य के बारे में है। रैम कंप्यूटर की प्राइमरी मेमोरी होती है। यह कंप्यूटर की नष्ट किये जा सकने वाली (Volatile) मेमोरी है। कंप्यूटर की परफॉर्मेंस RAM की क्षमता पर निर्भर करती है। RAM के बारे में अधिक जानने के लिए हमारी यह पोस्ट “RAM Kya Hai” हिंदी में पूरी पढ़े।

Random Access Memory In Hindi
RAM Kya Hai

रैंडम एक्सेस मेमोरी क्या है Random Access Memory In Hindi

Random Access Memory In Hindi – RAM का पुरा नाम “Random Access Memory” है। रैम कंप्यूटर की प्राथमिक मेमोरी या मुख्य मेमोरी होती है। RAM को वोलेटाइल मेमोरी भी कहते है। यह एक Processing Hardware है। पॉवर ऑफ होने या बिजली जाने पर रैम में मौजूद डाटा नष्ट हो जाता है। RAM कंप्यूटर की अस्थायी मेमोरी है क्योंकि यह डाटा या इन्फॉर्मेशन को अस्थायी रुप से स्टोर करती है। यह उस DATA को स्टोर करती है, जिस डाटा पर कंप्यूटर करंट में कार्य कर रहा है।

उदाहरण के तौर पर आप कंप्यूटर में किसी प्रोग्राम को ओपन करते हो, तभी RAM एक्टिव हो जाती है। इसका अर्थ यह है कि किसी भी Application या Program पर कार्य करते समय रैम डाटा को स्टोर करती है। जब एप्लिकेशन को Close कर दे या Power Off हो जाये, तो RAM में मौजूद डाटा नष्ट हो जाता है।

RAM कंप्यूटर की वर्किंग मेमोरी है। कंप्यूटर या मोबाईल में मल्टीटास्किंग करने के लिए रैम आवश्यक है। कंप्यूटर में एक से अधिक एप्लिकेशन को एक साथ रन करना मल्टीटास्किंग कहलाती है। जितने ज्यादा प्रोग्राम्स या एप्लिकेशन आप एक साथ ओपन करते हो तो RAM उतनी ही ज्यादा Slow होती है। रैम की क्षमता सीमित होती है। अगर कंप्यूटर या मोबाईल में रैम नही है तो कंप्यूटर बूट ही नही होगा।

रैम CPU से जुड़ी होती है। RAM के कारण ही CPU कार्य कर पाता है। कंप्यूटर की मेमोरी जैसे हार्ड डिस्क में मौजूद डाटा को रैम शीघ्र ही Write और Read कर लेता है।

रैम क्या है – What Is RAM In Hindi

Random Access Memory In Hindi – RAM केवल कंप्यूटर में ही नही होती है। यह स्मार्टफोन, रोबोट और सॉफ्टवेयर से चलने वाले उपकरण में भी होती है। कंप्यूटर में RAM 1GB, 2GB, 3GB, 4GB, 8GB इत्यादि क्षमता में होती है। स्मार्टफोन में भी रैम इन्ही क्षमताओं में मिलती है। वैसे RAM की क्षमता सेकंडरी मेमोरी से कम होती है।

रैम मदरबोर्ड पर स्थापित होती है। मदरबोर्ड पर बने स्लॉट्स में RAM को माउंट किया जाता है। रैम का निर्माण करने वाली कंपनियों में Hp, Kingston इत्यादि आती है। रैम DDR, DDR2, DDR3 इत्यादि में आती है।

रैम के प्रकार – Random Access Memory In Hindi

RAM दो प्रकार की होती है।

1. स्थैतिक रैम (Static RAM)

2. डायनामिक रैम (Dynamic RAM)

  • स्थैतिक रैम (Static RAM Or SRAM) – इस प्रकार की RAM में डाटा पॉवर ऑफ होने तक रहता है। यह रैम बार बार रिफ्रेश नही होती और स्थिर रहती है। Static RAM महंगी है। यह रैम तब तक कार्य करती है जब तक पॉवर मिलती है। Static RAM ट्रांज़िस्टर से बनी होती है।
  • डायनामिक रैम (Dynamic RAM OR DRAM) – डायनामिक रैम स्थैतिक रैम से सस्ती होती है। DRAM बार बार रिफ्रेश होती है। इस प्रकार की रैम की गति धीमी होती है। यह SRAM से अपेक्षाकृत सस्ती है। डायनामिक रैम ट्रांज़िस्टर और कैपेसिटर से मिलकर बनती है।

रैम के कार्य (Functions Of RAM Kya Hai)

  1. RAM कंप्यूटर प्रोग्राम्स को चलाती है। जितनी ज्यादा क्षमता की RAM होगी, उतनी ही बेहतर गति से कंप्यूटर या मोबाइल के प्रोग्राम्स रन होते है।
  2. रैम का मुख्य कार्य किसी भी प्रोग्राम या एप्लिकेशन को चलाने के लिए स्पेस प्रोवाइड करना है। रैम कंप्यूटर के करंट डाटा को स्टोर करती है। इसकी मेमोरी तब तक रहती है, जब तक कंप्यूटर पर कार्य होता है।
  3. Computer में एक साथ ज्यादा प्रोग्राम्स पर कार्य करने से कंप्यूटर Hang हो सकता है। कंप्यूटर को हैंग होने से बचाने के लिए रैम ज्यादा क्षमता की होनी चाहिए।
  4. कंप्यूटर Start होते ही RAM कार्य करने लग जाती है।

Note – रैंडम एक्सेस मेमोरी Random Access Memory In Hindi के इस आर्टिकल में रैम क्या है? (What Is RAM In Hindi) और रैम के प्रकार (Types Of RAM) पर नॉलेज है। यह पोस्ट “RAM Kya Hai” अच्छी लगी हो तो इसे शेयर भी करे।

यह भी पढ़े – 

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *