पंखे का आविष्कार व इतिहास Fan Ka Avishkar Kisne Kiya

पंखे का इतिहास और जानकारी Fan History And Information In Hindi

पंखे का आविष्कार किसने किया Fan Ka Avishkar Kisne Kiya और इसका इतिहास (Fan History In Hindi) क्या है? इन प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट (Fan Information In Hindi) में देने का हमारा प्रयास है। गर्मियों में हवा देकर राहत पहुचाने वाला फैन यानीकि पंखा बिजली से चलने वाला उपकरण है।

Fan Ka Avishkar Kisne Kiya

पंखे का आविष्कार किसने किया Fan Ka Avishkar Kisne Kiya –

बिजली चलित पंखे का आविष्कार वर्ष 1882 में “शूलर एस व्हीलर” ने किया था। वो एक अमेरिकी इंजीनियर और वैज्ञानिक थे। शूलर का जन्म 17 मई, 1860 को न्यूयॉर्क में हुआ था। उनके पिता का नाम जेम्स एडविन था जो कि न्यूयॉर्क शहर के जाने माने वकील थे। शूलर ने महान आविष्कारक थॉमस अल्वा एडिसन की वर्कशॉप में भी बतौर सहायक इंजीनियर कार्य किया था।

बिजली वाले पंखे के आविष्कार से पूर्व लोग हाथ वाले पंखे का इस्तेमाल करते थे। प्राचीन मिस्र, जापान और चीन में हाथ चलित पंखे का विवरण इतिहास में मिलता है। इस हाथ से चलने वाले पंखे में मेहनत बहुत थी। ज्यादा समय तक पंखा नही चला सकते थे। शूलर एस व्हीलर ने बिजली से पंखा चलाने की सोची। उन्होंने जो पंखा बनाया था, उसमें केवल दो ब्लेड थी। दोनों ब्लेड एक प्रोपेलर शाफ़्ट से जुड़ी हुई थी। शाफ़्ट एक इलेक्ट्रिक मोटर से कनेक्टेड थी। शूलर ने विद्युत पंखे के अलावा Electric Elevator का आविष्कार भी किया था।

शूलर के आविष्कार के कुछ ही वर्ष बाद फिलिप डैहल ने सीलिंग फैन का आविष्कार किया था। उन्होंने ब्लेड्स को मोटर पर ही लगा दिया और छत के पंखे का आविष्कार किया। फिलिप भी थॉमस अल्वा एडिसन की वर्कशॉप में कार्य करते थे।

पंखे की जानकारी Fan Information In Hindi –

Fan Ka Avishkar Kisne Kiya – पंखा एक मैकेनिकल इलेक्ट्रिक युक्ति है। इसका उपयोग ठंडी हवा देने के लिए किया जाता है। पंखे या फेन तरह तरह के आते है। मुख्यतः घरों में दो प्रकार के पंखे उपयोग में लिए जाते है। एक सीलिंग फैन होता है तो दूसरा टेबल फैन होता है। गर्मियों में ठंड का अहसास करने के लिए पंखे का उपयोग होता है। भीषण गर्मी में घर पर आते ही पंखा चलाकर राहत मिलती है।

सीलिंग फैन में एक कॉपर वाइंडिंग की मोटर और 3 से 4 Blade होती है। ब्लेड्स की डिज़ाइन इस तरह से होती है कि घूमने पर उनके निचे हवा का दबाव बने। इसके लिए ब्लेड में Vane डिज़ाइन की बनी होती है और रोटरी मोशन करती है। इससे ब्लेड्स हवा को पूरे कमरे में फेंखती है।

पंखा कई धातुओं से बनता है। इसको पीतल, अलुमिनियम, लोहा, इत्यादि से बनाया जाता है। शुरुआती पंखा पीतल का बनाया गया था। टेबल फैन की ब्लेड्स ज्यादातर प्लास्टिक की बनी होती है। आजकल कई प्रकार की डिज़ाइन और रंगों में पंखा आता है।

फैन का अविष्कार Fan Ka Avishkar Invention In Hindi –

आज तो पंखे (Fan) की जगह AC और कूलर ने ले ली है। वैसे लोग घरों में पंखा भी रखते है लेकिन कूलर का उपयोग ज्यादा होता है। सामान्य लोग AC खरीद नही पाते है क्योंकि यह महंगा पड़ता है और बिजली का खर्च भी ज्यादा आता है। पंखा सस्ता और बिजली खर्च भी कम होता है। पंखे का उपयोग घरों में, ऑफिस में, सरकारी भवनों में, कंपनियों में इत्यादि सभी जगहों पर होता है।

यह भी पढ़े – 

Note – पंखे का पंखे का आविष्कार किसने किया Fan Ka Avishkar Kisne Kiya इस प्रश्न का उत्तर इस पोस्ट “Fan History In Hindi” में आपको मिल गया होगा। यह पोस्ट “Fan Information In Hindi” अच्छी लगी हो तो इसे शेयर भी करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *