Nilgai In Hindi | नीलगाय की रोचक जानकारी

इस लेख Information About Nilgai In Hindi में नीलगाय प्राणी (Rojda Animal) की रोचक जानकारी दी गयी है। नीलगाय एक बड़ा जानवर है जो आमतौर पर खेतों में दिख जाता है। यह एक शक्तिशाली जानवर है जिसका शिकार भी किया जाता है। खेत की फसलों को नीलगाय नष्ट कर देती है। इसलिए नीलगाय को किसानों का दुश्मन भी कहते है। इसे आम भाषा में रोजड़ा (Rojda Animal) भी कहते है। तो आइये दोस्तों, आगे पोस्ट में नीलगाय की जानकारी लेने का प्रयास करते है।

Nilgai In Hindi

नीलगाय की जानकारी – Nilgai Information In Hindi

1. नीलगाय (Nilgai) प्राणी एशिया के अलावा कही और नही पाया जाता है। नीलगाय भारत के राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, बिहार राज्य में पायी जाती है। भारत के अलावा पाकिस्तान, नेपाल देश में भी मिलती है।

2. नीलगाय मृग प्रजाति में आती है। इनके सिंग एक बार आते है और हमेशा रहते है। यह एक स्तनधारी प्राणी है। यह दिखने में गाय के समान होती है लेकिन इनका शरीर नीला होता है। इसलिए इस प्राणी को नील गाय कहते है।

3. नीलगाय कम पानी पीकर भी जिंदा रह सकती है। इसलिए रेगिस्तानी इलाकों खासकर राजस्थान में नीलगाय बहुतायत में पायी जाती है।

4. यह जानवर खुले घास के मैदानों में निवास करता है। घने जंगलों और पहाड़ो पर नीलगाय नही पायी जाती है। ज्यादातर यह कृषि भूमि पर विचरण करते है।

5. नीलगाय (Rojda Animal) का शरीर घोड़े के समान बड़ा होता है। वयस्क नीलगाय की ऊंचाई 5 फ़ीट तक होती है। इस जानवर की लंबाई 6 फ़ीट से भी ज्यादा होती है।

6. नर नीलगाय मादा से शरीर और वजन में ज्यादा होता है। नर का वजन करीब 250 किलोग्राम तक होता है जबकि मादा का वजन 215 किलोग्राम तक होता है।

7. नर का रंग नीला होता है। इसलिए इस जानवर को नीलगाय कहते है। मादा का रंग नीला ना होकर भूरा होता है।

8. नीलगाय के आगे के पैर पिछले पैरो से ज्यादा लम्बे होते है। इसी कारण से नीलगाय घोड़े की तरह तेज दौड़ पाता है।

9. नीलगाय के शिकारी जानवरों में बाघ, तेंदुआ जैसे मांसाहारी प्राणी आते है। इसके छोटे बच्चों को लकड़बग्गा खा जाता है।

10. नर की गर्दन पर सफेद बालों का गुच्छा होता है। नीलगाय प्राणी की गर्दन लम्बी और मजबूत होती है।

11. नर और मादा नीलगाय में अंतर सींगों का भी होता है। नर के सर पर छोटे सिंग होते है।

Rojda Information In Hindi (नीलगाय जानवर)

12. नीलगाय (Nilgai) के सूंघने की शक्ति तेज होती है। इसकी तेज आंखे दूर तक शिकारी जानवर को देख लेती है। नीलगाय के सुनने की क्षमता बहुत कम होती है।

13. नीलगाय आमतौर पर शांत होती है। मादा कभी भैंस की तरह रंभाती है। नर झगड़ा करते वक्त शोर करता है।

14. यह पशु दिन में ही विचरण करता है। लेकिन कभी कभी रात को भी यह भोजन की तलाश में निकलता है।

15. यह एक शाकाहारी प्राणी है। नीलगाय का मुख्य भोजन घासफूस है। यह झाड़ियों के पत्ते, फूल, फल, बेरी और खेतों की फसल को भी खाता है।

16. नर और मादा नीलगाय जून और सितम्बर के बीच में सबन्ध बनाते है। नर कम से कम दो मादाओं से संबंध बनाता है।

16. करीब आठ महीनों की गर्भावस्था के बाद मादा नीलगाय बच्चे को जन्म देती है। बच्चों की संख्या 1 से 3 तक हो सकती है। बच्चा कुछ ही समय बाद अपने पैरो पर खड़ा हो जाता है।

17. नीलगाय को किसानों का दुश्मन भी कहते है। यह खेतों में घुसकर फ़सलों को नष्ट कर देता है।

18. नीलगाय ज्यादातर झुंड में पायी जाती है। कभी कभी नर अकेले विचरण करता है। नर नीलगाय मादा के लिए आपस में झगड़ा करते है।

19. नीलगाय (Rojda Animal) का औसत जीवनकाल 12 से 15 वर्ष होता है।

Note – नीलगाय जानवर (Rojda Animal) पर यह आर्टिकल Nilgai Information In Hindi आपको कैसा लगा? यह पोस्ट “Nilgai Animal In Hindi” पसंद आयी हो तो इसे शेयर भी करे।

यह भी पढ़े – 

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *