टिटहरी पक्षी की रोचक कहानी तथ्य Sandpiper Bird In Hindi

Sandpiper Bird In Hindi

टिटहरी पक्षी Sandpiper Bird In Hindi अपनी चोंच की अजीब बनावट और टिटहरी के अंडे के कारण जानी जाती है। यह एक प्रवासी पक्षी है। अंग्रेजी में इसे Sandpiper कहते है क्योंकि यह शिकार के लिए उथले पानी या कीचड़ में रहती है। तो आइए दोस्तो, टिटहरी की कहानी और जानकारी जानते है।

टिटहरी पक्षी की कहानी और जानकारी Sandpiper Bird In Hindi

1. टिटहरी पक्षी (Sandpiper Bird) यूरोप और एशिया में पाया जाता है। यह एक प्रवासी पक्षी है जो प्रजनन के समय प्रवास करता है।

2. यह पक्षी तालाबों और नदियों के पास रहती है। किनारों पर उथले पानी के पास जमीन पर अपना घोंसला बनाती है। टिटहरी अंडे भी इसी घोंसले में देती है।

3. टिटहरी दिन के समय ही बाहर निकलती है। रात को यह पक्षी अमूमन आराम करता है।

4. टिटहरी अजीब तरीके से चलती है। जिसमें उसका सर और पूंछ ऊपर नीचे होता है। इस व्यवहार को Teetering कहा जाता है।

5. जब कोई दूसरा पक्षी या जानवर इसके आसपास भी आता है तो यह तेज शौर करती है।

6. इस पक्षी का सर, पूंछ और पँखो का रंग भूरा होता है। नीचे का पेट का हिस्सा सफेद होता है।

7. टिटहरी पक्षी (Sandpiper Bird) की खासियत इसकी चमच्च जैसी चोंच होती है। इससे वह आसानी से पानी में शिकार कर लेती है।

8. टिटहरी का भोजन कीचड़ या मिट्टी में पड़े फलों के बीज होते है। यह पक्षी कीड़े, मकोड़े, कीट भी खाता है। यह एक अच्छा शिकारी होता है।

9. इस पक्षी का सिर गोल होता है जबकि गर्दन छोटी और टांगे लम्बी होती है।

10. टिटहरी पक्षी की औसत लम्बाई 8 इंच तक होती है। मादा टिटहरी नर से लम्बी होती है।

11. यह पक्षी हवा में तेज उड़ता है और मादा टिटहरी को रिझाने के लिए हवा में गोते भी लगाता है। यह जमीन पर भी तेज गति से दौड़ता है।

टिटहरी के अंडे पर जानकारी Sandpiper Bird –

12. टिटहरी का प्रजनन समय मई से जुलाई के बीच होता है। टिटहरी प्रजनन के समय केवल एक नर से ही सबन्ध बनाती है।

13. मादा टिटहरी एक बार में ज्यादा से ज्यादा 5 अंडे देती है। नर और मादा टिटहरी इन अंडों को सेहने का कार्य करते है। अंडे पानी के किनारों पर होते है। 20 दिन तक सेहने के बाद अंडों से बच्चे निकलते है।

14. टिटहरी के अंडे दिखने में पत्थर की तरह होते है। इसलिए वो शिकारियों से सुरक्षित रहते है।

15. ऐसी मान्यता है कि टिटहरी पक्षी अपने अंडे को तोड़ने के लिए पारस पत्थर का उपयोग करती है। वैसे यह केवल एक मान्यता है जो जरूरी नही की सही ही हो।

16. टिटहरी मौसम की भविष्यवाणी भी करती है। अगर यह पक्षी अंडे ऊंचे स्थान पर देती यही तो अधिक बारिश का अनुमान लगाया जाता है। अंडे नीचे होने पर कम बारिश का अनुमान होता है।

17. वर्तमान में यह पक्षी तेज गति से विलुप्त हो रहा है। टिटहरी का औसत जीवनकाल 12 वर्ष होता है।

यह भी पढ़े –

Note – टिटहरी पक्षी Sandpiper Bird In Hindi के बारे में जानकारी पर आपकी क्या राय है। टिटहरी के अंडे और टिटहरी की कहानी पर आपके क्या विचार है, हमे कमेंट बॉक्स में जरूर बताना। पोस्ट को फेसबुक और ट्विटर पर शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *