कंप्यूटर का आविष्कार-चार्ल्स बैबेज की जीवनी Charles Babbage In Hindi

Charles Babbage In Hindi

चार्ल्स बैबेज की जीवनी Charles Babbage In Hindi

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया – इस प्रश्न का उत्तर चार्ल्स बैबेज Charles Babbage In Hindi है। चार्ल्स बैबेज की जीवनी Charles Babbage Biography In Hindi और उनके योगदान पर यह आर्टिकल है। उन्होंने कंप्यूटर का आविष्कार करके क्रांति लाने का कार्य किया था। आज कंप्यूटर की वजह से काफी चीजे सम्भव हो पाई है।

चार्ल्स बैबेज की जीवनी और कंप्यूटर का आविष्कार Charles Babbage Biography In Hindi –

चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) को कंप्यूटर का जनक कहा जाता है। चार्ल्स बैबेज का जन्म 26 नवम्बर, 1791 को लन्दन में हुआ था। वो एक धनी परिवार से थे और उनके पिता का नाम बेंजामिन बैबेज था जो कि एक बैंकर थे।

बैबेज की शुरुआती शिक्षा घर पर ही हुई थी। उन्हें एक प्राइवेट टयूटर पढ़ाने आते थे। बैबेज गणित विषय में काफी होशियार थे। उनको होल्मवुड स्कूल में भी शिक्षा के लिए दाखिला दिया गया था। यहां पर मौजूद लाइबेरी से उन्हें गणित की पुस्तकें पढ़ने को मिल जाती थी। उन्हें गणित की कठिन गणनाएं करने में भी मजा आता था। चार्ल्स बैबेज ने 1811 ईस्वी को आगे की पढ़ाई के लिए कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के ट्रिनिटी कॉलेज में प्रवेश लिया था। कैम्ब्रिज के ही पीटरहाउस नामक कॉलेज से उन्होंने स्नातक पूरी की थी।

1814 में चार्ल्स बैवेज ने जार्जियाना व्हिटमोर नामक महिला से विवाह किया था। उनके कुल 8 बच्चे हुए जिनमे से 3 बच्चे ही जीवित रह पाए।

कंप्यूटर का आविष्कार Computer Ka Avishkar Kisne Kiya –

चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage) ने रॉयल एनालिटिकल और घोस्ट क्लब नामक सोसाइटी का गठन भी किया था। बैबेज को 1816 में “रॉयल सोसाइटी” का सदस्य चुना गया। 1820 में चार्ल्स बैबेज ने एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी भी बनाई थी।

वर्ष 1822 में बैबेज ने कंप्यूटर का आविष्कार किया था। कई वैज्ञानिकों ने समय समय पर कंप्यूटर सबन्धी आविष्कारों से आधुनिक कंप्यूटर की नींव डाली थी। वर्ष 1945 में “ENIAC” के निर्माण तक यह सिलसिला चलता रहा।

चार्ल्स बैबेज ने एक एनालिटिकल इंजिन का निर्माण किया था जो गणितीय गणना करने में सक्षम था। यह एक मेकैनिकल मशीन थी। यह कमरे से भी बड़ी मशीन थी जिसको बनाने में काफी खर्चा आया था। इस खर्चे का वहन ब्रिटिश सरकार ने किया था। यह इंजन भाप से चलता था जिसमे शाफ़्ट, क्रैंक इत्यादि लगी हुई थी। यह आकार में बड़ा होने के साथ ही भारी भरकम भी था।

आगे चलकर उन्होंने एक और मशीन को डिज़ाइन किया जिसे डिफरेंशियल इंजन कहा गया। आगे चलकर यही मशीन आधुनिक कंप्यूटर का आधार बनी। चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटर का पिता इसलिये भी कहते है कि उन्होंने पहला प्रोग्रामिंग कंप्यूटर डिज़ाइन किया था।

इस महान गणितज्ञ, दार्शनिक और इन्वेंटर का निधन 18 अक्टूबर, 1971 को लन्दन में हुआ था। चार्ल्स बैबेज के किये कंप्यूटर का आविष्कार के लिए दुनिया हमेशा उन्हें याद रखेगी।

यह भी पढ़िए –

Note – यह आर्टिकल Charles Babbage In Hindi आपको कैसा लगा। चार्ल्स बैबेज की जीवनी Charles Babbage Biography In Hindi और कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया (Computer Ka Avishkar Kisne Kiya) पर जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *