सचिन तेंदुलकर की जीवनी | Biography Of Sachin Tendulkar In Hindi

Biography Of Sachin Tendulkar In Hindi

यह आर्टिकल Biography Of Sachin Tendulkar In Hindi सचिन तेंदुलकर की जीवनी पर है। क्रिकेट का भगवान कहो या मास्टर ब्लास्टर कहो, सचिन तेंदुलकर के लिए यह भी कम है। सचिन के बिना क्रिकेट का जिक्र अधूरा है। सचिन तेंदुलकर ने अपने उम्दा खेल से विश्व पटल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। सचिन को क्रिकेट के इतिहास में महान क्रिकेटर का ताज मिला हुआ है। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी से क्रिकेट फैंस के दिलों में अपनी जगह बनाई है।

क्रिकेट खेल में सचिन ने कई विश्व रिकॉर्ड कायम किये है और उनके द्वारा बनाये गए रिकॉर्ड आज भी अटूट है। क्रिकेट के दोनों मुख्य फॉर्मेट टेस्ट और वनडे में सबसे ज्यादा शतक और रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड क्रिकेट के भगवान सचिन के नाम है। सचिन का पूरा नाम “सचिन रमेश तेंदुलकर” (Sachin Ramesh Tendulkar) है। सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के दोनों फॉर्मेट से सन्यास ले चुके है लेकिन आज भी करोड़ो युवाओं के वो आदर्श है।

सचिन तेंदुलकर की जीवनी Biography Of Sachin Tendulkar In Hindi

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का जन्म मुम्बई में 24 अप्रैल, 1973 को हुआ था। उनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर और उनकी माता का नाम रजनी तेंदुलकर था। पिता पेशे से उपन्यासकार थे और माँ बीमा एजेंट थी। सचिन 4 भाई बहिनों में सबसे छोटे थे।

25 मई, 1995 में सचिन तेंदुलकर का विवाह अंजलि तेंदुलकर से हुआ। सचिन और अंजलि के दो बच्चे है – अर्जुन तेंदुलकर और सारा तेंदुलकर।

सचिन काफी शरारती थे लेकिन उनको बचपन से ही क्रिकेट का शौक था। वेसे तो सचिन बल्लेबाजी किया करते थे लेकिन एक समय उनमें गेंदबाज बनने की इच्छा हुई। लेकिन वो बल्लेबाजी में बेस्ट थे, इसलिए इसी को अपना कैरियर बनाया। उनके बचपन के क्रिकेट गुरु “रमाकांत  आचरेकर” थे जिन्होंने सचिन को क्रिकेट की बारीकियां सिखाई थी।

सचिन तेंदुलकर की शुरुआती शिक्षा शारदाश्रम विद्यामन्दिर में हुई थी। रमाकांत जी के देखरेख में सचिन तेंदुलकर का क्रिकेट अभ्यास शुरू हुआ। सचिन स्कूल जाने से पहले और स्कूल से आने के बाद रोज क्रिकेट अभ्यास किया करते थे। सचिन तेंदुलकर की यह मेहनत और लगन थी कि वो क्रिकेट के खेल में निखरते चले गए।

रमाकांत जी अपने शिष्यों को शिवाजी पार्क में ट्रेनिंग देते थे। रमाकांत आचरेकर ने सचिन को क्रिकेट का अभ्यास कराने का एक अनूठा तरीका खोजा जिसमें वो स्टम्प के ऊपर 1 रुपये का सिक्का रख देते थे। अगर सचिन आउट नही होते तो यह सिक्का उन्हें मिल जाता था। इस तरह सचिन ने कुल 13 सिक्के जमा कर लिए थे।

सचिन तेंदुलकर का शुरूआती क्रिकेट करियर

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाते हुए आगे बढ़ते जा रहे थे। स्कूली क्रिकेट के बाद उन्होंने क्लब क्रिकेट में शुरुआत की। उनका पहला क्रिकेट क्लब “क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया” था। मात्र 14 वर्ष की उम्र में सचिन को महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर से इनाम स्वरूप पैड मिले जो सचिन के लिए किसी सपने से कम नही थे। पाकिस्तान के खिलाफ अपने कैरियर का पहला मैच इन्ही पैड को बांधकर खेला था।

अभी सचिन तेंदुलकर की उम्र 15 वर्ष ही थी कि उनका चयन मुम्बई की टीम में हुआ। इसके बाद घरेलू क्रिकेट में सचिन के बल्ले ने कहर बरपा दिया। ईरानी, दिलीप, रणजी ट्रॉफी जैसे टूर्नामेंट में एक के बाद एक शतक लगाए जिससे वो इंडियन टीम के चयनकर्ताओं की नजर में आ गये। मात्र 16 वर्ष की आयु में सचिन तेंदुलकर का चयन भारतीय टीम में हुआ।

सचिन तेंदुलकर का क्रिकेट सफर (Sachin Tendulkar Cricket Career In Hindi)

उनका पहला मैच पाकिस्तान के खिलाफ 1989 में कराची में था। इस मैच में मात्र 15 रन बनाकर सचिन आउट हो गए। पाकिस्तान के खिलाफ इसी सीरीज के एक मैच में उनकी नाक पर भी चोट लगी थी। फिर भी उनका इरादा अडिग रहा और उस मैच में 54 रन बनाकर अपनी दृढ़ता दिखाई। सचिन तेंदुलकर ने अपना पहला शतक 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ मारा था। इसके बाद से ही सचिन की एक पहचान बन गयी।

1999 का वर्ल्डकप सचिन के लिए गहरा आघात लेकर आया, टूर्नामेंट के दौरान उनके पिता की मृत्यु हो गयी थी। पिता का दाह संस्कार करके लौटे सचिन ने अगले ही मैच में शतक जड़ दिया और यह शतक अपने पिता के नाम किया।

2003 का वर्ल्डकप सचिन और भारत के लिए बेहतरीन रहा। इस वर्ल्डकप में सचिन 673 रन बनाकर मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे। भारतीय टीम का सफर फाइनल तक का रहा और ऑस्ट्रेलिया से हारकर उपविजेता रही।

अपने लंबे और बेहतरीन कैरियर में कई बार ऐसा हुआ कि वो आउट ऑफ फॉर्म हो गए। 2005 में सचिन को टेनिस एल्बो की चोट भी लगी। फैन्स को लगा कि उनका रिटायरमेंट का वक्त आ गया है लेकिन हर बार उन्होंने खुद को साबित किया।

सचिन के लिए सबसे यादगार क्षण 2011 का वर्ल्डकप था जिसमे भारत ने श्रीलंका को हराकर वर्ल्डकप अपने नाम किया था। इसमे भी सचिन ने 482 रन बनाकर अपना योगदान दिया था।

सचिन तेंदुलकर के वर्ल्ड रिकॉर्ड (Sachin Tendulkar World Records)

Sachin Tendulkar ने अपने पूरे कैरियर में कई विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किये है। उनके प्रमुख विश्व रिकॉर्ड इस प्रकार से है –

  • सचिन तेंदुलकर विश्व के एकमात्र ऐसे क्रिकेट खिलाड़ी है जिन्होंने अंतरास्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक लगाए है। वनडे में 49 शतक के साथ सबसे ज्यादा शतकों का रिकॉर्ड उनके नाम है। टेस्ट में 51 शतक के साथ वो नम्बर 1 है।
  • अगर क्रिकेट में सबसे ज्यादा रनों की बात करे तो उसमें भी सचिन नम्बर एक है। वनडे में सबसे ज्यादा 18426 रनों का वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया हुआ है। टेस्ट क्रिकेट में 15921 रनों के साथ सबसे ज्यादा रनों का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी सचिन के नाम ही है।
  • Sachin ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वनडे क्रिकेट इतिहास का पहला दोहरा शतक मारा था।

सचिन तेंदुलकर ने कुछ समय तक भारतीय टीम की कप्तानी भी की थी लेकिन यह उन्हें जमी नही और उन्होंने कप्तानी से इस्तीफा दे दिया। सचिन ने शुरुआती स्कूली क्रिकेट के दिनों में विनोद कांबली के साथ 664 रन की पार्टनरशिप की थी जिसमें सचिन का योगदान 326 नॉटआउट था। सचिन तेंदुलकर कभी कभी गेंदबाजी भी किया करते थे। कई मौकों पर उन्होंने अपनी गेंदबाजी से भी जीत दिलाई है।

सचिन तेंदुलकर का सम्मान और पुरस्कार (Awards)

वर्ष 1997 में सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को “राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार” दिया गया था। सचिन को “पद्मश्री” से भी नवाजा जा चुका है। 2014 में सचिन को भारत का सर्वोच्च सम्मान “भारत रत्न” दिया गया। सचिन तेंदुलकर राज्यसभा सासंद भी मनोनीत किये जा चुके है।

सचिन तेंदुलकर कई मैचों में मैन ऑफ द मैच रहे और कई बार मैन ऑफ द सीरीज भी रहे थे। सचिन 1997 और 2010 में विज्डन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर भी रहे। लंबे समय तक सचिन आईसीसी की टेस्ट और वनडे रैंकिंग में नंबर वन की पोजीशन पर भी रह चुके है।

सचिन दाये हाथ से खेलते है लेकिन लिखते वो बाये हाथ से है। सचिन तेंदुलकर जब मैदान पर खेलते थे, तब पूरे मैदान से “सचिन सचिन” की आवाज आती थी। वर्ष 2013 में सचिन ने अपना अंतिम टेस्ट मैच खेला। यह मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ था और इसके साथ ही 24 साल का लंबा क्रिकेट कैरियर समाप्त हो गया।

इन पर एक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म “Sachin a billion dreams” भी बन चुकी है। सचिन तेंदुलकर के बनाये कीर्तिमान को आज भी कोई तोड़ ना सका है। सचिन कद में छोटे थे लेकिन प्रतिभा में उनकी जितनी ऊंचाई पर कोई नही है।

यह भी पढ़े – 

Note – सचिन तेंदुलकर की जीवनी Biography Of Sachin Tendulkar In Hindi पर यह आर्टिकल “सचिन तेंदुलकर का जीवन परिचय” आपको कैसा लगा। इस पोस्ट Information About Sachin Tendulkar In Hindi के बारे में आपकी राय का स्वागत है।

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *