गति के नियम Newton Laws Of Motion In Hindi

न्यूटन के गति के नियम Newton Laws Of Motion In Hindi

यह आर्टिकल Newton Laws Of Motion In Hindi गति के नियमों पर आधारित है। आइजेक न्यूटन एक महान वैज्ञानिक थे जिन्होंने गुरुत्वाकर्षण की खोज और गति के नियम प्रतिपादित किये थे। न्यूटन ने अपनी लिखी “प्रिन्सिपिया” नामक पुस्तक में गति के नियमों को बताया था। भौतिक विज्ञान में न्यूटन के गति के नियम महत्वपूर्ण स्थान रखते है। न्यूटन ने कुल तीन नियम गति से सम्बंधित बताये थे। यह पोस्ट Laws Of Motion In Hindi न्यूटन के गति के नियमों के बारे में है।

Newton Laws Of Motion In Hindi

Newton Ke Gati Niyam गति के नियम की सामान्य जानकारी –

दोस्तो, आपने विद्यालय के दिनों में इन नियमों के बारे में जरूर पढ़ा होगा। सर आइज़ेक न्यूटन ने गति के नियम बताये थे, इसलिये इनको न्यूटन के गति नियम भी कहते है। न्यूटन का पहला नियम “जड़त्व का नियम” कहलाता है। दूसरे नियम को “संवेग का नियम” भी कहते है। न्यूटन का तीसरा नियम “क्रिया प्रतिक्रिया नियम” कहलाता है। न्यूटन के इन तीन नियमों का भौतिकी में महत्व क्या है? और इन नियमो को विस्तृत रूप से समझाने का प्रयास है।

गति का प्रथम नियम (जड़त्व का नियम) Newton Laws Of Motion In Hindi –

Newton Laws Of Motion In Hindi – जड़त्व का नियम बहुत ही महत्वपूर्ण नियम है जो विज्ञान में कई जगह उपयोग किया जाता है। जड़त्व नियम के अनुसार अगर कोई भी वस्तु स्थिर या गतिशील है तो वह तब तक अपनी स्थिति में परिवर्तन नही करेगी, जब तक उस वस्तु पर कोई बाहरी बल ना लगाया जाए।

जब वस्तु एक सीधी रेखा में गतिशील है तो बाहरी बल लगाकर उसे स्थिर किया जाता है। यदि वस्तु स्थिर है तो उसे बाहरी बल लगाकर ही गतिशील कर सकते है। इससे यह मालूम होता है कि वस्तु की स्थिति में परिवर्तन के लिए एक बाहरी बल की आवश्यकता होती है। बिना किसी बल के वस्तु की स्थिति में कोई भी परिवर्तन नही होता है। वस्तु का यह गुण ही जड़त्व कहलाता है। इसे न्यूटन का जड़त्व का नियम भी कहते है।

उदाहरण के तौर पर अगर कोई रुकी हुई गाड़ी अचानक चल पड़े तो यात्रियों को पीछे की तरफ धक्का महसूस होता है। या किसी भी चलती हुई गाड़ी को अचानक ब्रेक लगाकर रोकने पर आगे की और धक्का लगता है। यह इसलिये होता है क्योंकि ब्रेक लगाने पर गाड़ी और सीट तो रुक जाती है लेकिन हमारा शरीर नही रुकता है। किसी भी टहनी को हिलाने पर पत्ते उस टहनी से गिर जाते है। यही जड़त्व का नियम है।

गति का दूसरा नियम (संवेग का नियम) Conservation Of Momentum –

गति का दूसरा नियम F = MA का है। इसके अनुसार M द्रव्यमान की किसी वस्तु पर बल (F) लगाने पर त्वरण A उत्पन्न होता है। यह त्वरण बल की दिशा में ही लगता है।

उदाहरण के तौर पर क्रिकेट की गेंद को कैच करने के लिए क्षेत्ररक्षक हाथ को गेंद की दिशा में पीछे ले जाता है। इससे तेज गति से आती हुई गेंद की चोट कम लगती है। क्षेत्ररक्षक हाथ को पीछे ले जाकर वेग को काम करता है। इसके पीछे न्यूटन का गति का दूसरा नियम कार्य करता है।

गति का तीसरा नियम (क्रिया प्रतिक्रिया का नियम) Action Reaction Rule Of Motion –

Newton Laws Of Motion In Hindi – क्रिया प्रतिक्रिया नियम के अनुसार हर क्रिया की एक प्रतिक्रिया होती है। यह प्रतिक्रिया उस क्रिया के बराबर और विपरीत दिशा में होती है।
उदाहरण के तौर पर बन्दूक से गोली निकलने पर पीछे की तरफ झटका लगता है। क्रिया प्रतिक्रिया का नियम रॉकेट को अंतरिक्ष मे भेजने के लिये उपयोग किया जाता है।

न्यूटन के नियम वस्तु पर बल आरोपित करने पर हुए परिवर्तन को दर्शाते हैं। न्यूटन के नियम बल और गति का परस्पर सबंध दर्शाते है।

यह भी पढ़े –

प्लीज – गति के नियम Newton Laws Of Motion In Hindi पर आधारित यह पोस्ट आपको कैसी लगी। न्यूटन के नियम Newton Ke Gati Niyam के बारे में यह पोस्ट “Laws Of Motion In Hindi” ज्ञानवर्धक रही हो तो इसे शेयर भी करे।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *