Aloe Vera In Hindi Information एलोवेरा के फायदे, नुकसान व जानकारी

यह आर्टिकल Information About Aloe Vera In Hindi एलोवेरा के फायदे (Benefits Of Aloe Vera In Hindi) और एलोवेरा के नुकसान (Aloe Vera Ke Nuksan) पर है। एलोवेरा को ग्वारपाठा भी कहते है जो एक प्राकृतिक औषधि पौधा है। कम पानी मे उगने वाले इस पौधे में कई औषधीय गुण होते है। विभिन्न रोगों के लिए हर्बल दवाइयों में इसका उपयोग किया जाता है। एलोवेरा पौधे में जैल रूपी द्रव्य पदार्थ होता है। इसी जैल का उपयोग हर्बल नुस्खों में किया जाता है। एलोवेरा को घृतकुमारी भी कहा जाता है।

Aloe Vera In Hindi

एलोवेरा के बारे में जानकारी Information About Aloe Vera In Hindi

ग्वारपाठा (Aloe Vera) पौधा गर्म प्रदेशो में पाया जाता है। इसकी कई प्रजातियां होती है लेकिन कुछ प्रजाति ही स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। इस पौधे के पत्तों से एक प्रकार का द्रव्य निकलता है। यह जेल के समान होता है जो औषधीय और आर्युवेदिक गुण रखता है। एलोवेरा की इन पत्तियों के किनारे कांटेदार होते है। इस पौधे की पत्तियों का रंग हरा होता है। ग्वारपाठा की खेती करना बहुत ही आसान है।

ग्वारपाठा बहुत ही कम पानी मे पनप जाता है। इसके लिए हर प्रकार की मिट्टी सही होती है। इस पौधे की खेती करके आप अच्छे खासे रुपये कमा सकते है। इस गुणकारी पौधे की खेती दुनियाभर में की जाती है। धृतकुमारी यानीकि एलोवेरा के पौधे का तना नही होता है। इस पौधे के रस का व्यापार भी किया जाता है। क्योंकि इसका रस हर्बल कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स और दवाइयां बनाने के काम में आता है।

एलोवेरा जैल पौधे के पत्तों से निकाला जाता है। इस जैल का सेवन ज्यूस के रूप में किया जाता है। एलोवेरा जेल का स्वाद हल्का कड़वा होता है। इसलिए इसका नींबू मिलाकर ज्यूस बनाया जा सकता है। वैसे ग्वारपाठा की फलियां भी भोजन के लिए उपयोग की जाती है।

ग्वारपाठा Aloe Vera के रस में प्रचुर मात्रा में विटामिन्स पाये जाते है। इसमे विटामिन ए, बी और सी होते है। ग्वारपाठा में कई खनिज तत्व मैग्नीशियम, आयरन, कैल्शियम, जिंक भी पाये जाते है। इसके जेल में 95 फीसदी पानी होता है। इसमे अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट भी होता है। इसके अलावा एमिनो एसिड और एंजाइम भी ग्वारपाठे के रस में होते है।

एलोवेरा के फायदे Benefits Of Aloe Vera In Hindi –

Aloe Vera Ke Fayde कई सारे है और यह विभिन्न रोगो से लड़ने में सहायक होता है।

1. एलोवेरा Aloe Vera का जैल बालों के लिए बहुत लाभकारी होता है। यह बालों में डैंड्रफ की समस्या को दूर करता है। इससे बालों का असमय झड़ना खत्म होता है। बाल मजबूत और मुलायम हो जाते है। शैम्पू में एलोवेरा जैल मिलाकर बाल धोने चाहिए। यह एक अच्छा प्राकृतिक कंडीशनर है।

2. ग्वारपाठा का द्रव्य चेहरे के कील मुहांसों को हटाता है। रूखी त्वचा में निखार लाता है। यह एक नेचुरल सनस्क्रीन है जो तेज धूप में त्वचा को बचाती है।

3. एलोवेरा Aloe Vera के जैल में एन्टी बैक्टीरिया गुण होते है। चोट लगने या त्वचा के जलने पर इसे लगाने से आराम मिलता है।

4. एलोवेरा का ज्यूस पाचन तंत्र को मजबूत करता है। यह कब्ज और गैस जैसी समस्याओं से निजात दिलाता है। रोज सुबह एलोवेरा ज्यूस का सेवन करना चाहिये।

5. एलोवेरा ज्यूस वजन कम करने में भी सहायक है। इसका नियमित सेवन करने से शरीर की एक्स्ट्रा चर्बी कम होती है। क्योंकि यह पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है।

6. यह एक नेचुरल मॉइस्चराइजर का काम करता है। त्वचा को मुलायम बनाता है और झुर्रियों से फ्री करता है।

7. एलोवेरा Aloe Vera ज्यूस शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। क्योंकि इस पौधे में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है। इसके लिए ग्वारपाठा का ज्यूस नियमित पीना चाहिए।

8. स्वस्थ दांतो के लिए एलोवेरा के ज्यूस से कुल्हा करना चाहिए। इससे दांतों में चमक बढ़ती है और मुंह के बैक्टीरिया खत्म हो जाते है।

एलोवेरा या ग्वारपाठा खाने के नुकसान

ग्वारपाठा (Aloe Vera In Hindi) का ज्यूस सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन एलोवेरा के कुछ नुकसान (Aloe Vera Ke Nuksan) भी है।

1. एलोवेरा ज्यूस का नियंत्रित सेवन ही लाभदायक है। अनियंत्रित सेवन नुकसानदेह होता है।

2. इसके ज्यादा सेवन से दस्त की समस्या हो सकती है। इसलिए ज्यूस का सेवन कम ही करना सुरक्षित है।

3. गर्भवती महिलाओं को एलोवेरा का सेवन नही करना चाहिए क्योंकि गर्भावस्था में इसको पीना सुरक्षित नही है। गर्भपात की संभावना इससे पैदा हो सकती है।

4. दिल की बीमारी वाले रोगियों को इसके सेवन से बचना चाहिए। यह ह्रदय गति को अनियंत्रित कर सकता है।

5. एलोवेरा (Aloe Vera) का जेल त्वचा पर लगाने से एलर्जी हो सकती है। कुछ लोगो को एलोवेरा से समस्या होती है।

6. ग्वारपाठा ज्यूस का अत्यधिक सेवन पेट दर्द और शरीर मे सूजन उत्पन्न करता है। पीलिया के रोगियों को ग्वारपाठा रस का सेवन से बचना चाहिये।

7. किसी भी प्रकार का रोग होने पर एलोवेरा ज्यूस का सेवन डॉक्टर के परामर्श से करना चाहिए। वरना इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हो सकते है।

यह भी पढ़े –

नोट – इस आर्टिकल Information About Aloe Vera In Hindi में एलोवेरा के फायदे (Benefits Of Aloe Vera In Hindi) और एलोवेरा के नुकसान (Aloe Vera Ke Nuksan) आपको कैसे लगे। इस पोस्ट “एलोवेरा के फायदे और नुकसान Aloe Vera Ke Fayde” पर आपके विचार कमेंट बॉक्स में जरूर बताये।

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *