Information About Woodpecker In Hindi कठफोड़वा पक्षी

Information About Woodpecker In Hindi
Woodpecker Information In Hindi

कठफोड़वा के बारे में जानकारी Information About Woodpecker In Hindi

यह पोस्ट Information About Woodpecker In Hindi में कठफोड़वा पक्षी के बारे में चर्चा करेंगे। कठफोड़वा पक्षी अपनी मजबूत चोंच से पेड़ के तने की छाल को तोड़कर कीड़े खाता है। इसके कारण यह काफी प्रसिद्ध है। आइये इसी रोचक और विचित्र पक्षी के बारे में जानने का प्रयास करते है।

Woodpecker Information In Hindi कठफोड़वा पक्षी –

1. इस पक्षी की 200 से अधिक प्रजातियां विश्व मे कई जगहों पर पायी जाती है। कठफोड़वा पक्षी की कई प्रजातियां एशिया, अफ्रीका, यूरोप और साउथ अमेरिका में पायी जाती है। ये आकार में अलग अलग साइज के होते है। ऑस्ट्रेलिया और ध्रुवीय इलाको में यह पक्षी नही मिलता है।

2. भारत मे पाया जाने वाला कठफोड़वा पक्षी पेड़ो पर रहने वाली चींटियों के अंडों को खाता है। एक बुलबुल पक्षी के आकार का कठफोड़वा भी भारत मे मिलता है।

3. कठफोड़वा पक्षी Woodpecker की चोंच काफी मजबूत और नुकीली होती है। यह एक हथोड़े की तरह होती है। यह अपनी चोंच से पेड़ की छाल को तोड़ देता है। कठफोड़वा चोंच को तने के एक ही बिंदु पर बार बार मारता है जिससे वहां सुराख हो जाता है।

4. जब यह पक्षी अपनी चोंच को पेड़ के तने पर मारता है तो इसकी आवाज दूर तक सुनी जा सकती है। यह पेड़ के तने में सुराख करके उसके अंदर के कीड़े निकालता है।

5. कठफोड़वा एक सेकंड में करीब 20 बार चोंच मारता है। फिर भी इसकी चोंच नही टूटती है। Information About Woodpecker In Hindi

6. विश्व का सबसे छोटा कठफोड़वा का नाम बार ‘ब्रेस्टेड पिकलेट” है। छोटे कठफोड़वा पक्षी का आकार 3 से 4 इंच होता है। लेकिन कुछ प्रजातीया बड़े आकार की भी होती है जिनका आकार 10 से 15 इंच होता है। सबसे बड़े आकार का कठफोड़वा एशिया में मिलता है जिसे “ग्रे स्लेटी कठफोड़वा” कहते है। यह आकार में 20 इंच के करीब होता है।

7. यह बागों में अपने घोसले अमूमन बनाता है। कठफोड़वा जंगलो में कम रहता है। अधिकतर आम के पेड़ पर यह अपना घोसला बनाता है। इसका कारण उस पेड़ के तने के सुराख में कीड़े मिलना है। पुराने वृक्षों पर भी यह अपना घोंसला बनाता है।

Information About Woodpecker In Hindi कठफोड़वा पक्षी –

8. मादा और नर कठफोड़वा पक्षी में अंतर बहुत कम होता है। इसके रंग से इसकी पहचान होती है। नर का माथा, गर्दन काला रंग का होता है जबकि मादा के सीने का रंग सफेद होता है। वैसे कठफोड़वा की विभिन्न प्रजातियों का रंग अलग अलग होता है।

9. कठफोड़वा पक्षी Woodpecker का मुख्य भोजन पेड़ की दरारों में पाये जाने वाले कीड़े होते है। यह पक्षी बीजो को भी खाता है।

10. कठफोड़वा पक्षी पेड़ के तने में घोंसला बनाता है। यह चोंच से तने के सुराख को चौड़ा कर देता है। घोसले में नीचे बैठने के लिए पानी की काई को बिछाता है।

11. कठफोड़वा की जीभ भी इसकी चोंच के समान ही मजबूत होती है। इसकी जीभ पेड़ पर किये गए होल से कीड़ो को निकालकर खाने में उपयोगी होती है।

12. कठफोड़वा के पैर में चार उंगलियां होती है। दो उंगली आगे और दो पीछे की और होती है। इससे इन्हें तने को पकड़ने में सहायता मिलती है।

13. कठफोड़वा चोंच को तने पर कई बार मारता है लेकिन फिर भी इन्हें सरदर्द नही होता है। इसके पीछे का कारण इसकी चोंच पर गद्देदार हड्डिया होती है जो शॉक से बचाती है।

14. कठफोड़वा पक्षी का औसत जीवनकाल 5 से 15 वर्ष होता है।

Note – कठफोड़वा पक्षी के बारे में जानकारी Information About Woodpecker In Hindi पर हमारा यह आर्टिकल “Essay On Woodpecker In Hindi” आपको कैसा लगा। इस पोस्ट Woodpecker Information In Hindi को फेसबुक और ट्विटर सोशल मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *