पपीता खाने के फायदे Benefits Of Papaya In Hindi

Benefits Of Papaya In Hindi

Papaya Information In Hindi पपीता के फायदे और जानकारी

यह आर्टिकल Benefits Of Papaya In Hindi पपीता के फायदे Papita Ke Fayde और जानकारी Papaya In Information Hindi पर है। पपीता का फल जितना खाने में स्वादिष्ट लगता है, उतना ही स्वास्थ्यवर्धक भी है। पेट की कब्ज के लिए डॉक्टर इस फल के ज्यूस के सेवन की सलाह देते है। पपीता का सेवन अधिकतर ज्यूस के रूप में किया जाता है।

पपीता (Papaya In Hindi) में विटामिन A और B प्रचुर मात्रा में होता है। इस फल में पोटैशियम और मैग्नीशियम भी अच्छी मात्रा में मिलता है। विटामिन C का भी यह फल अच्छा स्रोत है। इस फल में प्रचुर मात्रा में फाइबर भी मौजूद होते है। इन तत्वों के अलावा पपीता में कार्बोहाइड्रेट भी पाया जाता है।

पपीता खाने में बेहद गुणकारी होता है। इस फल में एन्जाइम होते है जो भोजन को पचाने में सहायक होते है। ताजा पपीता ही खाना चाहिए। यह फल ज्यादा समय रहने पर खराब हो जाता है। पपीते का पौधा औषधीय गुणों से भरपूर होता है।

Papaya Tree Information In Hindi पपीता का पेड़ –

पपीता के पेड़ भारत के लगभग हर राज्य में पाये जाते है। पपीते के पेड़ को लगाने के लिए इसके बीजों का इस्तेमाल किया जाता है। पपीते के पेड़ को गर्मियों के मौसम में लगाना चाहिए क्योंकि इसके पौधे को तेज धूप की आवश्यकता होती है। पपीते का फल इसकी पत्तियों के नीचे लगता है। पपीता का फल पकने पर पीले रंग का होता है। कच्चा पपीता हरे रंग का होता है। पपीता के फल में काले रंग के बीज होते है। बीज के ऊपर एक चिपचिपा द्रव्य होता है।

पपीता मध्य अमेरिका का मूल फल है और इसकी उत्पत्ति वही से मानी जाती है। अपने स्वाद और गुणों के कारण बहुत जल्दी ही यह पूरी दुनिया मे लोकप्रिय हो गया। पपीता पकने के बाद फल के रूप में खाया जाता है। कच्चा पपीते का उपयोग सब्जी बनाने में करते है। पपीता का उपयोग ज्यूस के रूप के भी किया जाता है।

पपीता खाने के फायदे Benefits Of Papaya In Hindi

1. पपीता Papaya एक रेशेदार फल है जिसमे फाइबर मौजूद होता है। पपीता में पपेन नामक तत्व होता है जो पाचन क्रिया में लाभकारी है। इस कारण यह फल शरीर के पाचन को दुरुस्त करता है। कब्ज जैसी समस्या को खत्म करता है। बवासीर रोग में पपीता खाना लाभकारी होता है।

2. पीलिया रोग होने पर डॉक्टर पपीता खाने की सलाह देते है। पपीता पीलिया रोग में शरीर के लिये गुणकारी होता है।

3. पपीता में पाया जाने वाला विटामिन A आंखों की रोशनी को बढ़ाता है। रतोंधी नामक रोग भी आंखों में नही लगता है।

4. पपीता खाने से दांत स्वस्थ और मजबूत होते है। मसूड़ों में खून आने पर पपीता का सेवन करना चाहिए जिससे राहत मिलती है।

पपीता खाने के फायदे Benefits Of Papaya In Hindi

5. शरीर का वजन घटाने के लिए पपीता लाभकारी होता है। यह शरीर की एक्स्ट्रा चर्बी को कम करता है।

6. पपीता खाने से शरीर मे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नियंत्रित रहती है। पपीता खाने से दिल की बीमारी की सम्भावना कम होती है।

7. पपीता में विटामिन C पाया जाता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

8. पपीता के पल्प (गुदा) को चेहरे पर लगाने पर यह दाग धब्बे और झुर्रियों को कम करता है। पपीता के गुदा को चेहरे पर लगाने पर त्वचा मुलायम हो जाती है और चेहरे पर ताजगी और स्फूर्ति आती है। कील मुंहासों को कम करता है।

9. पपीता के गुदा या इसका ज्यूस बनाकर कंडीशनर के रूप में बालों में लगा सकते है। यह बालों को मजबूत और घना बनाता है।

पपीता के नुकसान Papaya Information In Hindi

1. पपीता Papaya खाने से फायदे तो बहुत है लेकिन इसके कुछ नुकसान भी होते है। पपीता का संतुलित आहार फायदेमंद होता है लेकिन अत्यधिक पपीता खाना शरीर के लिए नुकसानदेह हो सकता है। Papaya In Information Hindi

2. गर्भवती स्त्री को पपीता नही खाना चाहिए क्योंकि इसमें लेटेक्स होता है। यह तत्व गर्भाशय में संकुचन पैदा कर सकता है। इसलिए गर्भवती स्त्री के पपीता खाने से गम्भीर परिणाम हो सकते है।

3. ज्यादा मात्रा में पपीता के सेवन से केरोटिनमिया नामक बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में हथेलियों और आंखों का रंग पीला हो जाता है।

4. पपीते का अत्यधिक सेवन गुर्दे में पथरी पैदा कर सकता है।

5. दस्त की शिकायत होने पर पपीते का सेवन करने से बचना चाहिए।

Note:- पपीता खाने के फायदे Papita Khane Ke Fayde और पपीता के नुकसान Papaya Information In Hindi पर यह आर्टिकल Benefits Of Papaya In Hindi कैसा लगा। यह पोस्ट “Papita Ke Fayde” अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को फेसबुक और ट्विटर पर शेयर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *