सुनीता विलियम्स की जीवनी Biography Of Sunita Williams In Hindi

यह लेख सुनीता विलियम्स की जीवनी Information And Biography Of Sunita Williams In Hindi और उपलब्धियों आधारित है। सुनीता विलियम्स भारतीय मूल की अंतरिक्ष यात्री है। सुनीता विलियम्स किसी परिचय की मोहताज तो नही है लेकिन उनके प्रेरणादायक जीवन पर प्रकाश डालना भी जरूरी है। सुनीता विलियम्स एक नौसेना अधिकारी और अंतरिक्ष यात्री है। कल्पना चांवला की ही तरह सुनीता जी ने भी अंतरिक्ष की उड़ान भरी थी।

Biography Of Sunita Williams In Hindi

सुनीता विलियम्स की जीवनी Biography Of Sunita Williams In Hindi

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक अंतरिक्ष मिशन के तहत सुनीता विलियम्स को स्पेस में भेजा था। सुनीता विलियम्स पूरे 194 दिन और 18 घण्टे अंतरिक्ष स्टेशन पर रही थी जो कि एक विश्व रिकॉर्ड है। सुनीता विलियम्स ने कुल 7 बार अंतरिक्ष का सफर किया था।

अमेरिका के ओहियो राज्य के यूक्लिड शहर में जन्मी सुनीता विलियम्स का जन्म 19 सितंबर, 1965 में हुआ था। सुनीता के पिता का नाम डॉ दीपक पंड्या था। सुनीता विलियम्स की माता का नाम उर्सुलिन बोनी पंड्या था जो अमेरिकी थी। सुनीता विलियम्स अपने परिवार में सबसे छोटी थी।

सुनीता विलियम्स की प्रारंभिक शिक्षा वही के ही उच्च माध्यमिक विद्यालय से हुई थी। सन 1987 में सुनीता विलियम्स ने “यूनाइटेड स्टेट नेवल अकेडमी” से स्नातक की पढ़ाई पूरी की थी। इसी वर्ष सुनीता को अमेरिकी सेना से कमीशन प्राप्त हुआ था। कुछ समय बाद सुनीता को बेसिक डाइविंग ऑफिसर का पद दिया गया। 1989 में सुनीता को नेवल एयर ट्रैनिंग कमांड में प्रवेश मिला। वर्ष 1996 में सुनीता जी ने पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई फ्लोरिडा इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से की थी। सुनीता विलियम्स ने अमेरिकी नौसेना में रहकर कई प्रकार के हेलीकॉप्टर और विमान उड़ाने का प्रशिक्षण लिया था।

सुनीता विलियम्स की अंतरिक्ष यात्रा Information About Sunita Williams In Hindi

हेलीकॉप्टर कॉम्बेट सपोर्ट स्क्वाड्रन में सुनीता विलियम्स ने प्रशिक्षण लिया। आखिरकार विलियम्स 1998 में नासा के लिए चयनित हुई। अंतरिक्ष भेजे जाने से पूर्व सुनीता विलियम्स ने एस्ट्रोनॉट की ट्रैनिंग ली थी। जॉनसन स्पेस सेंटर में सुनीता ने अपना प्रशिक्षण प्राप्त किया था।

सन 2006 में 9 दिसम्बर को सुनीता विलियम्स ने अंतरिक्ष स्टेशन के लिए “डिस्कवरी” नामक अंतरिक्ष यान से उड़ान भरी थी। इस अंतरिक्ष मिशन में 14 अंतरिक्ष यात्री शामिल थे। सुनीता विलियम्स ने अपने साथियों के साथ कई शोधकार्य किये। 22 जून 2007 को सुनीता विलियम्स धरती पर वापस लौटी। यह अंतरिक्ष यात्रा सुनीता विलियम्स की अंतिम अंतरिक्ष यात्रा नही थी। सुनीता ने 14 जुलाई 2012 में दूसरी बार अंतरिक्ष का सफर किया था। अबकी बार सुनीता विलियम्स ने पूरे 4 महीने का सफर किया था।

सुनीता विलियम्स की उपलब्धिया

विलियम्स ने अंतरिक्ष स्टेशन पर रहते हुए कई बार स्पेस वाक भी की थी। सुनीता विलियम्स ने 50 घण्टे 40 मिनट स्पेस वाक करने का विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम किया हुआ है। अंतरिक्ष मे बोस्टन मैराथन भी हुई थी जिसमे सुनीता ने भाग लिया था। 2007 में हुई इस मैराथन को सुनीता विलियम्स ने 4 घण्टे 24 मिनट में पूरा किया था।

सुनीता का का विवाह माइकल जे विलियम्स से हुआ था। सुनीता विलियम्स को अपनी उपलब्धियों के लिए कई सारे सम्मान और पुरस्कार प्राप्त हुए है। भारत सरकार की तरफ से “पद्मभूषण” का सम्मान भी दिया गया था। अमेरिका में नेशनल डिफेंस सर्विस मेडल भी मिला था। नासा की तरफ से “नासा स्पेस फ्लाइट” मेडल दिया गया था। गुजरात टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के द्वारा डॉक्टरेट की उपाधि भी दी गई है।

Note:- यह पोस्ट Information And Biography Of Sunita Williams In Hindi सुनीता विलियम्स की जीवनी पर है। इस पोस्ट “Sunita Williams In Hindi” के बारे में आपके विचारो का स्वागत है। “सुनीता विलियम्स की अंतरिक्ष यात्रा” के सन्दर्भ प्रस्तुत है।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *