मोबाइल फोन पर निबंध | Essay On Mobile Phone In Hindi

मोबाइल फोन वर्तमान में मनुष्य की सबसे बड़ी जरूरत बन चुका है। मोबाइल एक उपयोगी डिवाइस है जो विभिन्न दैनिक कार्य करने के लिए आवश्यक है। मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल मानसिक बीमारियों को बढ़ाता है। आज के समय मे सन्देश भेजने का त्वरित तरीका मोबाइल है। मोबाइल को “इंसान की जेब मे दुनिया” कह सकते है।

Essay On Mobile Phone In Hindi

मोबाइल फोन पर निबंध – Essay On Mobile Phone In Hindi

पुराने समय मे संदेश भेजने के लिए कबूतर पक्षी का का इस्तेमाल किया जाता था। खासकर युद्ध के समय संदेशों का आदान प्रदान कबूतर करते थे। उसके बाद संदेश को भेजने के लिए डाक व्यवस्था शुरू हुई। डाक के द्वारा डाकिया संदेश की चिट्ठी लोगो तक लाने लगा। इसके बाद आगमन हुआ आधुनिक विज्ञान के महानतम आविष्कार टेलीफोन का जिसने संचार क्रांति ला दी थी। एलेग्जेंडर ग्राहम बेल ने टेलीफोन का आविष्कार किया था।

टेलीफोन तो संचार क्रांति की शरुआत मात्र था। आधुनिक समय में मोबाइल फोन का आगमन हुआ। यह एक बेतार व्यवस्था थी जिसने संचार को त्वरित और सुलभ बना दिया। मोबाइल फोन का आना विज्ञान के नए युग की शुरुआत थी। आज दुनिया के लगभग हर शख्श के पास मोबाइल है। मोबाइल फोन इंसान की आदत बन चुका है और यह हमारी दिनचर्या का अहम हिस्सा है।

मोबाइल फोन टेक्नोलॉजी गांवों तक अपनी पहुंच बना चुकी है। भारत में ही देखा जाए तो देश के कोने कोने में मोबाइल टॉवर लग चुके है। वर्तमान में मोबाइल फोन का इस्तेमाल केवल संदेश भेजने या किसी से बात करने के लिए ही नही होता है। यह इंटरनेट से जानकारी प्राप्त करने का बेहतरीन जरिया भी है।

यह भी पढ़े –

मोबाइल फोन की जानकारी

मोबाइल फोन एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है। यह बैटरी से चलता है जिसे चार्ज करते रहना पड़ता है। पहले जो मोबाइल चलते थे, उनमे केवल बात करने की सुविधा थी। इस मोबाइल में लिखित सन्देश भेजने की व्यवस्था भी थी। एंटरटेनमेंट के लिए मोबाइल फोन में गेम्स भी होते थे। टेक्नोलॉजी और ज्यादा विकसित हुई और मोबाइल में कैमरा भी लग गया। यह मोबाइल कीपैड मोबाइल कहलाया। इसे मल्टीमीडिया मोबाइल भी कह सकते है।

आज मोबाइल फोन अपने सबसे विकसित रूप में है। आज के मोबाइल को स्मार्टफोन भी कहा जाता है। इस मोबाइल में हाई क्वालिटी कैमरा, हाई पिक्सल के गेम्स, हाई स्पीड इंटरनेट, वीडियो और म्यूजिक प्लेयर जैसी सुविधाएं भी है। आप ऑफिस के कई कार्य अपने स्मार्टफोन में आसानी से कर सकते है। चाहे ईमेल मैसेज भेजना हो या फिर मेल को पढ़ना हो। यह स्मार्टफोन एक छोटा कंप्यूटर है।

मोबाइल फोन का आविष्कार किसने किया?

दुनिया का पहला मोबाइल फोन “मोटोरोला” कम्पनी ने 1973 में बनाया था। मोबाइल का आविष्कार मार्टीन कूपर नामक व्यक्ति ने किया था। भारत में मोबाइल फोन का आगमन 1995 में हुआ था। वर्तमान में कई कंपनियां मोबाइल्स का निर्माण करती है। इसमें से सैमसंग, नोकिया, एप्पल, मोटोरोला, श्याओमी, ओप्पो प्रमुख है।

प्रत्येक मोबाइल अलग अलग फ़ीचर के साथ आता है। हर कंपनी अपनी तरह की डिज़ाइन का मोबाइल बनाती है। मोबाइल में भी कंप्यूटर की तरह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर होता है। मोबाइल को पॉकेट कंप्यूटर भी कह सकते है।

मोबाइल कीपैड और टच दो प्रकार का होता है। मोबाइल छोटी से लेकर बड़ी साइज में मिलते है। मोबाइल्स में 1st जेनरेशन से लेकर 5th जेनरेशन तक विस्तार आया है। वर्तमान में 5जी पर काम चल रहा है। मोबाइल में कॉल करने की सुविधा होती है। इस सुविधा का लाभ मोबाइल फोन में “मोबाइल नेटवर्क” का सिम कार्ड लगाने पर मिलता है। एयरटेल, वीआई, जिओ जैसी टेलिकॉम कम्पनियां मोबाइल सिम कार्ड प्रोवाइड करती है।

शुरुआत में मोबाइल्स काफी महंगे होते थे और केवल खास चुनिंदा लोगो के पास ही होते थे। मोबाइल कॉल की दरें भी काफी महंगी होती थी। इसकी वजह से अमीर लोग ही कॉलिंग के लिए मोबाइल फोन का उपयोग करते थे। वर्तमान में मोबाइल्स काफी सस्ते है और आम आदमी की पहुंच में भी है। टेलीकॉम कंपनियों ने कॉलिंग की दरें भी कम कर दी है। इंटरनेट के पैक भी सस्ते है।

मोबाइल फोन को विज्ञान का चमत्कार भी कहते है। देखो भाई यह किसी चमत्कार से कम थोड़े ही है कि आप दुनिया मे किसी भी जगह बेठे व्यक्ति से कभी भी कही से भी बात कर सकते है। आज टेक्नोलॉजी इतनी ज्यादा विकसित हो गई है कि इंसान आपस में फेस टू फेस वीडियो कॉलिंग के जरिये भी बात कर सकता है।

मोबाइल फोन के लाभ

मोबाइल का सबसे बड़ा फायदा कॉलिंग है। यह दो प्रकार की होती है। एक होती है ऑडियो कॉलिंग जिसमे किसी से भी आवाज के जरिये बात कर सकते है। दूसरी होती है वीडियो कॉलिंग जिसमे किसी से भी फेस टू फेस बात कर सकते है। मोबाइल में कॉलिंग के अलावा मैसेज भेजने की सुविधा भी होती है। यह त्वरित मैसेज होता है जिसमे मैसेज सेंड होते ही रिसीवर के पास पहुँच जाता है।

यह एक मल्टीमीडिया डिवाइस होता है जिसमे कॉलिंग के अलावा भी कई सारी सुविधाएं होती है। मोबाइल में ऑडियो और विडियो प्लेयर होता है जिससे गाने और मूवीज सुनी और देखी जा सकती है। मोबाइल में कैमरा भी होता है जिसकी मदद से फ़ोटो खींची जा सकती है। मोबाइल में आप कई तरह के गेम्स भी खेल सकते है।

मोबाइल में आज के जमाने की सबसे महत्वपूर्ण सुविधा भी होती है जिसे इंटरनेट कहते है। इंटरनेट ने वर्तमान को बदल दिया है और भविष्य की अपार संभावनाएं पैदा की है। इन्टरनेट की जरिये किसी भी समय घर बैठे दुनिया की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

वीडियो चैटिंग इंटरनेट से ही सम्भव हो पायी है। व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर के जरिये बात करना और किसी वीडियो, फ़ोटो को आसानी से शेयर करना सम्भव हुआ है।

यूट्यूब के जरिये तमाम तरह के वीडियो देखे जा सकते है। इंटरनेट पर ज्ञान का खजाना है और मोबाइल के जरिये यह खजाना आपके हाथ मे है। किसी भी विषय पर ज्ञान अर्जित करने के लिए इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। जैसे अभी आप मोबाइल के बारे में ज्ञान अर्जित करने के लिये इंटरनेट का इस्तेमाल करके knowledgedabba ब्लॉग पढ़ रहे है।

मोबाइल फोन में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (GPS) भी होता है। इसकी सहायता से दुनिया मे किसी की भी लोकेशन का आसानी से पता लगाया जा सकता है। मोबाइल में कैलकुलेटर से लेकर टाइम बताने वाली घड़ी भी होती है। मोबाइल में अलार्म घड़ी, कॉल रेकॉर्डिंग जैसी सुविधाएं भी होती है। मोबाइल में अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी प्रकार की ऐप डाउनलोड कर सकते है।

इसके जरिये कही पर भी हुई वारदात का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाला जा सकता है। इससे अपराधी की पहचान आसान हो जाती है। मोबाइल फोन की सहायता से इन्टरनेट बैंकिंग की जाती है। आप कही से भी कभी भी किसी को भी मनी ट्रांसफर कर सकते है। मोबाइल के जरिये ऑनलाइन शॉपिंग भी आसानी से की जा सकती है।

मोबाइल फोन के नुकसान

मोबाइल के अत्यधिक उपयोग से आपकी आंखें खराब हो सकती है। मोबाइल की डिस्प्ले लाइट आपके आंखों में सीधे पड़ती है जिससे मोबाइल आँखों पर दुष्प्रभाव डालता है। बच्चो के लिए मोबाइल एक तरफ फायदा देता है तो दूसरी तरफ नुकसान भी देता है।

बच्चे मोबाइल पर गेमिंग ज्यादा खेलते है जिससे उनसे शारीरिक खेल पीछे छूट रहे है। आउटडोर गेमिंग से दूर हो रहे है। मोबाइल के अत्यधिक उपयोग से बच्चो की पढ़ाई भी बाधित हो रही है।

मोबाइल से हानिकारक विकिरणें भी निकलती है। ये विकिरणें शरीर को अत्यधिक नुकसान पहुंचाती है जिससे केंसर जैसी जानलेवा बीमारी तक हो सकती है। रेडिएशन का प्रभाव भी मोबाइल के जरिये इंसानो पर हो रहा है। कभी कभी ओवर चार्जिंग से मोबाइल फटने की घटना भी हो जाती है।

फोन का ज्यादा इस्तेमाल एक नशे की तरह होता है। इसकी आदत लगना एक गम्भीर बीमारी के लक्षण है। कई लोग मोबाइल को देर रात तक चलाते रहते है। इस कारण उन लोगो मे नींद की कमी अक्सर देखी जाती है। ऐसे लोगो मानसिक तनाव से भी गुजरते है। अत्यधिक मोबाइल चलाने से उपयोगी समय का दुरुपयोग भी होता है।

मोबाइल ने हम इंसानो को इतना आदी बना दिया है कि हम परिवार और दोस्तो से दूर हो गए है। पहले खाली समय मे लोग आपस मे बाते करते थे लेकिन आज खाली समय मे मोबाइल चलाते है। इंसान परिवार से ज्यादा सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय है।

लोग वाहनों को चलाते समय भी मोबाइल फोन का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते है जिससे दुर्घटना होने की संभावना बहुत अधिक होती है। वर्तमान पीढ़ी मोबाइल पर अश्लील साम्रगी देखकर अपनी संस्कृति को भूल रही है। मोबाइल पर फर्जी कॉल भी कई आती है। इन फर्जी कॉल्स में हमे रुपयों का लालच देकर ठगा जाता है।

जरूरत के मुताबिक मोबाइल फोन का इस्तेमाल करना गलत नही है। इससे आपको मोबाइल की आदत भी नही लगती है। लेकिन दोस्तो मोबाइल को जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करना गलत है।

यह भी पढ़े –

सोशल मिडिया पर निबंध

Note:- मोबाइल फोन पर निबंध में मोबाइल फोन के लाभ और नुकसान की जानकारी आपको कैसी लगी।  मोबाइल का इतिहास और महत्व पर यह लेख पसंद आया हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *