Information About Ocean In Hindi महासागरों की रोचक जानकारी

महासागरों की रोचक जानकारी Information About Ocean In Hindi

धरती के 70 फीसदी हिस्से पर जल है बाकी का 30 फीसदी थल में आता है। जल का ज्यादातर हिस्सा धरती पर महासागरों के रूप में मौजूद है। यह पोस्ट Information About Ocean In Hindi धरती पर मौजूद महासागरों के बारे में है।

महासागरों का पानी पीने योग्य नही है क्योंकि यह खारा होता है। वैसे महासागरों के कुछ हिस्सों में पानी मीठा होता है लेकिन यह पानी भी पीने योग्य नही है। समुद्र के मीठे पानी मे कई सारे कैमिकल्स होते है जो शरीर को नुकसान करते है।

Information About Ocean In Hindi

महासागर क्या है? What Is Ocean In Hindi

Essay On Ocean In Hindi महासागरों (Oceans) का जन्म करीब 70 से 80 करोड़ साल पहले का माना जाता है। महासागरों का अस्तित्व जल से है। महासागरों में अथाह मात्रा में जल पाया जाता है। महासागर धरती पर मौजूद विशाल गड्ढे है जिनमे जल भरा हुआ है। महासागर आकार में विशाल है और पृथ्वी का 70 फीसदी एरिया घेरे हुए है। महासागरों की गहराई भी बहुत ज्यादा होती है। महासागरों की औसत गहराई 4000 मीटर तक होती है।

धरती पर जल की उत्पत्ति और जानकारी पर यह आर्टिकल पढे –

महासागर के नाम (Ocean Names)

पृथ्वी के महासागरों (Oceans) को 5 भागो में बांटा गया है। ये 5 महासागर इस प्रकार से है –

1. प्रशांत महासागर 2. अटलांटिक महासागर 3. आर्कटिक महासागर 4. हिन्द महासागर 5. दक्षिणी महासागर

प्रशांत महासागर (Pacific Ocean In Hindi)

धरती का सबसे बड़ा महासागर है जो 16,62,40,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला हुआ है। यह धरती के सारे महासागरों का 45 फीसदी हिस्सा घेरता है। प्रशांत महासागर उतरी घ्रुव से दक्षिणी ध्रुव तक फैला हुआ है। इसलिए प्रशांत महासागर को उत्तरी प्रशांत महासागर और दक्षिण प्रशांत महासागर में विभक्त किया जा सकता है।

प्रशांत महासागर की औसत गहराई 4280 मीटर है। महासागरों का सबसे गहराई वाली जगह मारियाना ट्रेंच प्रशांत में ही है। इसकी गहराई 11000 हजार मीटर है। प्रशांत महासागर में 20000 के आसपास छोटे और बड़े द्वीप है।

अटलांटिक महासागर (Atlantic Ocean In Hindi)

विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महासागर है। महासागरों का 29 फीसदी जल इसी महासागर में है। इस महासागर का जल सबसे ज्यादा खारा है। बरमूडा ट्राइएंगल भी इसी महासागर में स्थित है।

हिन्द महासागर (Indian Ocean In Hindi)

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा महासागर है। जल का 20 प्रतिशत हिस्सा इसी महासागर में आता है। हिन्द महासागर विश्व का सबसे गर्म महासागर है। विश्व की कई नदियों का पानी इस महासागर में मिलता है। अरब सागर, बंगाल की खाड़ी, लाल सागर इसी महासागर में आकर मिलते है। तेल का 80 फीसदी से ज्यादा व्यापार इसी महासागर से होता है। हिन्द महासागर की औसत गहराई 4000 मीटर है।

दक्षिण महासागर (Southern Ocean) और आर्कटिक महासागर (Arctic Ocean In Hindi) क्रमशः 4 और 5 बड़े महासागर है। आर्कटिक महासागर एक ठंडा महासागर है।

महासागरों की रोचक जानकारी Information And Facts About Ocean In Hindi

महासागर Ocean के जल में ऊंची लहरे भी उठती है। महासागरों में उठती लहरों का कारण महासागरों में भूकम्प का आना, चन्दमा के कारण और समुद्र के सतह पर बहने वाली हवा होती है। महासागर की लहरों की ऊंचाई 30 से 40 मीटर तक होती है। कभी कभी महासागर की लहरें इतनी ऊंची होती है कि सुनामी आ जाती है। सुनामी की लहर तब उठती है, जब समुद्र में भूकम्प आया हो।

महासागरों में कई तरह के अद्भुत जीव पाये जाते है। महासागर की गहराइयों में कई प्रकार के पौधे भी मिलते है। ब्लू व्हेल जैसे भारी और विशालकाय जीव से लेकर नँगी आंखों से ना दिखने वाले जीव महासागरों में पाए जाते है। समुद्र में मुख्यतः मछलियां पायी जाती है।

बरमूडा ट्राइएंगल जैसे विचित्र और रहस्मय जगह महासागर की गौद में ही है। महासागरों पर जहाज भी तैरते है जो आवाजाही के लिए उपयोग किये जाते है। दुनिया के कई देशों के व्यापारिक मार्ग समुद्र से होकर गुजरते है।

कोलंबस और वास्कोडिगामा इतिहास के पन्नो में समुद्री यात्राओं के लिए दर्ज है। इतिहास में कई बड़े जहाज महासागरों में डूब चुके है। टाइटैनिक नामक विश्व परषिद जहाज समुद्र में डूब चुका है। इसपर हॉलीवुड मूवी टाइटैनिक भी बन चुकी है।

Note:- महासागर पर यह आर्टिकल Information About Ocean In Hindi कैसा लगा। अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट “Ocean Information In Hindi” को शेयर करे। आपके विचार इस पोस्ट महासागर के नाम Mahasagar Information के बारे में हमें कमेंट करे।

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *