Yuri Gagarin In Hindi प्रथम अंतरिक्ष यात्री यूरी गगारिन की जीवनी

यह पोस्ट Biography Of Yuri Gagarin In Hindi प्रथम अंतरिक्ष यात्री यूरी गगारिन की जीवनी पर आधारित है। यूरी गागरिन दुनिया के प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने अंतरिक्ष का सफर किया था। धरती से बाहर निकलकर अंतरिक्ष से पृथ्वी को निहारा था। यूरी गगारिन का जज्बा और हिम्मत थी कि वो अंतरिक्ष मे गए थे।

Yuri Gagarin In Hindi

यूरी गगारिन का जीवन परिचय Biography Of Yuri Gagarin In Hindi

यूरी गगारिन (Yuri Gagarin) रूसी अंतरिक्ष यात्री थे। इनका जन्म 9 मार्च 1934 को रूस (तत्कालीन सोवियत संघ) के मास्को में हुआ था। यूरी गागरिन के गांव का नाम क्लूशीनो था जिसे उनकी मृत्यु के बाद यूरी गागरिन का नाम दिया गया। यूरी के पिता का नाम एलेक्सी एवोविन्च गागरिन था जो बढई का कार्य करते थे।

द्वीतीय विश्वयुद्ध के समय सोवियत संघ पर नाजी सेना का आक्रमण हुआ जिसके कारण यूरी गगारिन के परिवार को बुरा समय देखना पड़ा। यूरी गागरिन को शुरू से ही गणित और विज्ञान में रुचि थी। उन्होंने सरातोव नामक जगह पर अपनी प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की थी। वही के एक क्लब में उन्होंने हवाई जहाज उड़ाने का प्रक्षिशण लिया। इसके बाद यूरी गगारिन ने सोवियत एयरफोर्स को जॉइन कर लिया।

यूरी गगारिन ने इसके बाद पीछे मुड़के नही देखा और आरेन्बर्ग एविएशन स्कूल में दाखिला लिया। इसी स्कूल में रहकर यूरी ने मिग विमान उड़ाना सीखा था। नौकरी पर रहते हुए ही यूरी ने ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की थी। उस दौरान अमेरिका और सोवियत संघ में कोल्ड वार चल रही थी। दोनों देशों में श्रेष्ठ साबित होने की हौड़ थी। अंतरिक्ष मे मानव भेजने की तैयारी चल रही थी। सोवियत संघ ने इसमे बाजी मारी और पहली बार किसी इंसान को अंतरिक्ष मे भेजा।

सोवियत संघ की और से अंतरिक्ष मे जाने के लिए देश के सर्वश्रेष्ठ पायलटों से आवेदन मांगा गया। इसके लिए पूरे देश से 3000 आवेदन आये। यूरी गागरिन ने भी इसके लिए आवेदन किया और ट्रेनिंग के लिए चुने गए 20 लोगो मे वो भी एक थे। ट्रैनिंग के दौरान यूरी ने अपनी क्षमता का परिचय दिया और मानव की प्रथम अंतरिक्ष यात्रा के लिये चुन लिए गए। यह यूरी गागरिन के लिए गौरवशाली पल था।

अंतरिक्ष यात्री यूरी गगारिन की जीवनी Yuri Gagarin Information In Hindi

12 अप्रैल 1961 का वो ऐतिहासिक दिन जब यूरी गागरिन अंतरिक्ष यात्रा के लिए रवाना हुए थे। मानव अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा के लिए तैयार था। अंतरिक्ष मे मानव को ले जाने वाले यान का नाम “वोस्तक प्रथम” था। इस यान के कैप्सूल में यूरी गागरिन Yuri Gagarin बैंठे हुए थे। यह यान इतना छोटा था कि यूरी गागरिन इस यान को कंट्रोल नही कर सकते थे। यूरी ने यह यात्रा लेटकर ही पूरी की थी।

सुबह 7 बजकर 7 मिनट का वक्त था जब यूरी गगारिन ने बेक़ानूर स्टेशन से अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी थी। अंतरिक्ष के लिए जाते वक्त यूरी गागरिन के शब्द थे “पोयखाली” जिसका अर्थ है “अब हम चले”। यूरी गागरिन का अंतरिक्ष यान सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में स्थापित हो गया। वोस्तक प्रथम ने पृथ्वी का पूरा एक चक्कर लगाया था। सुबह 10.55 पर यूरी गागरिन वापस धरती पर लौट आये। यह अंतरिक्ष मे मानव का प्रथम कदम था और यूरी गगारिन अंतरिक्ष मे जाने पहले इंसान बने थे।

इस अंतरिक्ष यात्रा के बाद यूरी गगारिन विश्व प्रसिद्ध हो गए। उनको कई सारे सम्मान और मेडल्स से नवाजा गया। यूरी गागरिन को सोवियत का सर्वोच्च सम्मान सोवियत संघ हीरो से नवाजा गया। 27 मार्च 1968 को मात्र 34 वर्ष की आयु में एक मिग दुर्घटना में यूरी गागरिन की मृत्यु हो गयी। यूरी गगारिन अपनी अंतरिक्ष यात्रा से हमेशा के लिए अमर हो गए।

अन्य अंतरिक्ष यात्री की जीवनी –

Note:- प्रथम अंतरिक्ष यात्री यूरी गगारिन का जीवन परिचय Biography Of Yuri Gagarin In Hindi पोस्ट आपको कैसी लगी। यह पोस्ट “Yuri Gagarin Information In Hindi” अच्छी लगी तो इसे शेयर जरुर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *