Taj Mahal In Hindi Information ताजमहल का इतिहास और निबंध

Taj Mahal Information In Hindi

यह आर्टिकल Taj Mahal Information In Hindi ताजमहल के इतिहास (History Of Taj Mahal In Hindi) पर है। इश्क़ की इबारत और प्यार की निशानी ताजमहल विश्व के सात अजूबो में आता है। मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज के लिए ताजमहल को बनाया था। ताजमहल को प्यार की निशानी भी कहा जाता है। विश्व से हर साल करोड़ो लोग ताजमहल को देखने इंडिया आते है।

दोस्तों, ताजमहल का इतिहास और इसके बनने के पीछे की कहानी पर यह पोस्ट “Information About Taj Mahal In Hindi” है जिसमे आपको ताजमहल से सबंधित इतिहास जानने को मिलेगा।

ताजमहल का इतिहास History Of Taj Mahal In Hindi

ताजमहल (Taj Mahal) मुगल काल मे बनी सबसे खूबसूरत इमारत मानी जाती है। यह इमारत शुद्ध सफेद संगमरमर से बनी हुई है। इसको बेहतरीन कारीगरी का नमूना भी कह सकते है। ताजमहल के बारे में इतिहास में यह आता है कि इसे बनाने वाले कारीगरों के हाथ काट दिए गए थे जिससे ऐसी बेमिसाल ईमारत को कोई ना बना सके।

यह ऐतिहासिक इमारत उत्तर प्रदेश के आगरा शहर में यमुना नदी के किनारे स्थित है। ताजमहल के इतिहास को देखे तो 1631 ईसवी में इसे शाहजहाँ द्वारा बनाया गया था। शाहजहाँ एक मुगलकालीन बादशाह था जिसने सालो तक भारत पर राज किया था। शाहजहाँ के काल को भारत के इतिहास के संदर्भ में स्वर्ण काल भी कहा जाता है।

शाहजहाँ की कई सारी रानियां थी लेकिन उनकी सबसे प्रिय बेगम मुमताज महल थी। मुमताज महल से शाहजहाँ बेइंतहा मोहब्बत करते थे। मोहब्बत का यह आलम था कि मुमताज महल की मृत्यु के बाद भी बादशाह उन्हें ना भूल पाये। “मुमताज महल” की मृत्यु प्रसव के दौरान हो गयी। जिस जगह पर मुमताज महल को दफनाया गया था, वहां पर शाहजहाँ ने इमारत बनवाई।

यह खूबसूरत इमारत मुमताज महल का मकबरा है। शाहजहाँ ने अपनी सबसे प्रिय बेगम मुमताज महल की याद में एक मकबरे को इश्क़ की इबारत बना दिया। ताजमहल बनाने का कार्य 1632 मे शुरू हुआ था जो 1653 में जाकर पूरा हुआ था।

ताजमहल के बारे में जानकारी Taj Mahal Information In Hindi

ताजमहल (Taj Mahal) निर्माण के मुख्य कारीगर और आर्किटेक्ट “उस्ताद अहमद लाहौरी” थे। ताजमहल को बनाने में 25 हजार से भी अधिक मजदूरों ने लगातार कार्य किया था। 37 कुशल कारीगर ताजमहल के निर्माण के लिए बुलाये गए थे। ताजमहल के निर्माण में प्रयुक्त सफेद संगमरमर राजस्थान के मकराना शहर से लाया गया था। कीमती पत्थर और बहुमूल्य रत्न बगदाद, ईरान जैसे शहरो से मंगाए गए थे। एशिया के विभिन्न भागों से कुशल कारीगरों को बुलवाया गया था।

इस प्यार की निशानी को बनाने में उस वक्त का खर्चा 3 करोड़ 20 लाख था जो आज के 52.8 अरब रुपये के बराबर है। इस पर बेहतरीन और खूबसूरत नक्काशी भी है। ताजमहल की डिज़ाइन में पर्शियन और मुगल कला की झलक मिलती है। ताजमहल पूर्ण रूप से संगमरमर से बना हुआ है। ताजमहल के बीच मे बेगम मुमताज महल की कब्र है। मुमताज महल की कब्र के पास शाहजहाँ की कब्र है। ये कब्रे प्रतीकात्मक कब्रे है और असली कब्रे इसके नीचे स्थित है जो कच्ची मिट्टी की है।

ताजमहल में चारो तरफ चार मीनारे भी है जो उसकी सुंदरता में चार चांद लगा देती है। ताजमहल का मुख्य गुम्बद 60 फ़ीट ऊंचा है और इसके शीर्ष पर पारसी कला से सुशोभित एक कलश है। ताजमहल में कई जगहों पर हीरे और रत्न जड़े हुए है जो इसे और अधिक सुंदरता प्रदान करते है। ताजमहल 42 एकड़ के बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। ताजमहल के चारो और बगीचा है।

ताजमहल की रोचक जानकारी

ताजमहल (Taj Mahal) की दीवारों पर कई सारे लेख लिखे हुए है। फारसी लिपिक अमानत खान को इन लेखों को उकेरने का श्रेय जाता है। ताजमहल पर कुरान की कई आयते भी लिखी हुई है। वर्ष 1983 में यूनेस्को ने ताजमहल को विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया था।

विश्व की यह बेमिसाल और खूबसूरत इमारत ताजमहल आज खतरे में है। ताजमहल पर आगरा की जलवायू काफी बुरा असर डाल रही है। आगरा में कई सारी फैक्टरियां और कारखाने है। इन कारखानों से रासायनिक प्रदार्थ निकलते है। ये रासायनिक प्रदार्थ वर्षा के पानी मे मिल जाते है। इस वर्षा को अम्ल वर्षा कहते है।

जब यह रासायनिक प्रदार्थ संगमरमर के केल्शियम कार्बोनेट से क्रिया करता है, तब इमारत का क्षरण होता है। इसी कारण से ताजमहल पीला पड़ने लगे गया है। यह अपनी खूबसूरती खोने लगा है। यह बड़ी समस्या है जिसका निदान जरूरी है।

Note:- ताजमहल का इतिहास “History Of Taj Mahal In Hindi” पर यह पोस्ट Taj Mahal Information In Hindi ताजमहल के बारे में जानकारी आपको कैसी लगी, हमे कमेंट में जरूर बताये। ताजमहल पर निबंध “Taj Mahal In Hindi” को शेयर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *