पृथ्वी गोल क्यों है Why earth shape is Round In Hindi

पृथ्वी गोल क्यों है Why earth shape is Round In Hindi

Why Earth Shape Is Round In Hindi पृथ्वी गोल क्यों है? यह सवाल कई बार हमारे मन मस्तिष्क में आता है लेकिन जवाब पूरा नही मिल पाता है। अगर हम पृथ्वी पर खड़े होकर चारो तरफ देखे तो हमे घरती चपटी लगेगी लेकिन वास्तविकता कुछ और है। सदियों से मनुष्य को लगता है कि धरती चपटी है और वो इसके लिए कई तर्क भी देता आया है। इंसान अब अंतरिक्ष मे जा चुका है और वो अंतरिक्ष से हमारी धरती को देख भी चुका है और यह सिर्द्ध हो गया है कि धरती गोल है।

Why Earth Shape Is Round In Hindi

पृथ्वी के गोल होने पर रोचक तथ्य Earth Facts In Hindi

1. हम पृथ्वी के किसी भू भाग पर खड़े होकर यह नही बता सकते कि धरती गोल है क्योंकि इंसान के मुकाबले धरती बहुत बड़ी है और इतनी बड़ी है कि हमे उसके गोल होने का एहसास नही होता है और हमे यह चपटी ही दिखाई देती है।

2. सर्वप्रथम पाइथागोरस ने बताया था कि धरती गोल है, उन्होंने कहा कि ” गोल सबसे सुंदर ज्योमिति आकृति होती है और अगर पृथ्वी ब्रह्मांड का केंद्र है (वेसे तो पृथ्वी ब्रह्मांड का केंद्र नही है) तो उसे गोल होना चाहिए।

3. पृथ्वी के गोल होने का दावा महान यूनानी दार्शनिक अरस्तू ने भी किया था। उन्होंने देखा कि ग्रहण के समय सूरज के प्रकाश से बनी छाया हमेशा वक्राकार होती है और यह तभी सम्भव है जब पृथ्वी और चांद दोनों गोल हो। अरस्तू भी पृथ्वी को ब्रह्मांड का केंद्र मानते थे लेकिन वास्तव में धरती ब्रह्मांड का केंद्र नही है।

4. आर्यभट्ट ने भी पृथ्वी को गोल बताया था और पृथ्वी की कर्क रेखा और मकर रेखा का निर्घारण भी किया था भास्कराचार्य जी ने सिर्द्धान्त – शिरोमणि में घरती को गोल बताया था ,उन्होंने कहा कि अगर पृथ्वी सपाट है तो ताड़ के समान ऊंचे पेड़ हमे दूर से नजर क्यों नही आते है।

धरती गोल क्यों है Amazing Facts About Earth In Hindi

5. सन 1519 में विक्टोरिया नामक जहाज ने पृथ्वी की एक पूरी परिक्रमा की थी। इस जहाज ने अपनी यात्रा अटलांटिक महासागर के सेविल नामक बंदरगाह से शुरू की थी और यह जहाज पृथ्वी का एक चक्कर लगाकर वापस उसी बंदरगाह आ गया था।

6. सर्वप्रथम न्यूटन ने बताया था कि पृथ्वी पूरी तरह से गोल ना होकर संतरे की तरह अपने दोनों ध्रुवो पर चपटी है। यह उन्होंने गुरुत्वाकर्षण की खोज करने के दौरान बताया था लेकिन पृथ्वी सन्तरे की तरह ना होकर अंडाकार है।

7. पानी की बूंदे गोल होती है क्यूंकी उस पर चारो तरफ से वातावरण का सामान दबाव होता है। पृथ्वी पर भी चारो और से सामान दबाव होता है । इसलिये धरती भी गोल होती है।

8. समुन्द्र में जब जहाजो को जाते हुए देखते है तो तो दूर जाने पर यह अहसास होता है कि जहाज क्षितिज पर डूब रहे है और वो फिर ओझल हो जाते है। अगर पृथ्वी चपटी होती तो जहाज गायब नही होते।

दोस्तो अगर आप अभी भी नही समझे कि धरती गोल ही क्यों है ? तो ब्रह्मांड की उत्पत्ति से आप आसानी से समझ जाओगे – Big Bang Theory In Hindi

पृथ्वी गोल क्यों है Prithvi Gol Kyu Hai –

दोस्तो वैज्ञानिको के अनुसार अरबो साल पहले बिग बैंग के कारण ब्रह्मांड की उत्पत्ति हुई थी। बिग बैंग एक तरह का महा विस्फोट था जिसके कारण ब्रह्मांड में मौजूद तमाम ग्रह और तारे बने थे। जब बिग बैंग हुआ तो ब्रह्मांड में Energy के पार्टिकल्स थे और यह पार्टिकल्स ग्रेविटी के कारण एक दूसरे के चारो तरफ घूमने लगे लेकिन दोस्तो इन्होंने गोल शेप ही क्यों लिया? इसके पीछे का कारण है कि ब्रह्मांड में  हर चीज स्थिरता की और बढ़ती है और इसके लिए उसे कम एनर्जी की आवश्यकता होती है क्योंकि ज्यादा एनर्जी वाले सिस्टम में स्थिरता नही आ सकती है । यह कम एनर्जी है ग्रेविटेशनल Potential Energy और इसको प्राप्त करने के लिए Shape का Surface एरिया कम होना चाहिए। अगर हम विभिन्न Shapes को देखे तो सबसे कम Surface Area गोल Shape का ही होता है।

अब बात आती है कि पृथ्वी तो पूरी गोल ही नही है और दोनों ध्रूवों पर चपटी है, ऐसा क्यों। इसका कारण है Centrifugal Force  जो पृथ्वी के अपनी अक्ष पर घूमने के कारण होता है। यह Force धरती को अपने अक्ष से दूर धकेलता है जिसके कारण पृथ्वी अपने दोनों ध्रुवो पर शेप में नही है और अंडाकार है।

और दोस्तो पूरे ब्रह्मांड की हर चीज गोल है , सूरज गोल है, बच्चो का चन्दा मामा गोल है, सौरमण्डल के बाकी ग्रह गोल है और यह टिमटिमाते तारे भी गोल है तो भाइयो धरती भी तो इसी ब्रह्मांड का हिस्सा है तो धरती भी गोल है।

तो दोसतो पृथ्वी गोल क्यों है, इसका Proof तो आपको इस आर्टिकल Prithvi Gol Kyu Hai में मिल गया होगा और अच्छा लगा हो तो शेयर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *