आर्किमिडीज की जीवनी और इतिहास | Biography Of Archimedes In Hindi

दोस्तों, आर्किमिडीज (Archimedes) एक महान वैज्ञानिक और गणितज्ञ थे। इस लेख Information & Biography Of Archimedes In Hindi में आर्किमिडीज की जीवनी बताने का प्रयास है। आर्कमिडीज ऐसे वैज्ञानिक थे जो अपनी Theory को प्रयोगों द्वारा सिद्ध करते थे। आर्कमिडीज अपने समय के महान गणितज्ञ थे जिन्होंने ज्योमिति में कई सिद्धान्त दिए।

आर्किमिडीज का जीवन परिचय Biography Of Archimedes In Hindi

आर्किमिडीज का जन्म 287 ईसवी पूर्व एक सामंत परिवार में हुआ था। इनके जन्मस्थान का नाम सायराक्यूज (Syracuse) था जो कि सिसली द्वीप पर था। आर्किमिडीज के पिता भी खगोलविद और गणितज्ञ थे आर्किमिडीज ने मिस्र के सिकन्दरिया में अपना अध्ययन किया था। उन्होंने कई सारी Theories दी थी। उन में से सबसे ख्यात थ्योरी विशिष्ट घनत्व का सिद्धांत (Density Theory) प्रमुख है।

Biography Of Archimedes In Hindi

विशिष्ट घनत्व का सिद्धांत (Theory Of Density In Hindi)

इस थ्योरी के पीछे आर्किमिडीज की एक कहानी छिपी हुई है। तो आइए सबसे पहले वो कहानी जानते है –

यूनान के राजा हिरोंन युद्ध मे विजयी हुए तो उन्होंने इस उपलक्ष्य पर देवता को सोने का मुकुट भेंट करना चाहा। तो राजा ने एक यूनानी सुनार को बुलाकर उसे मुकुट बनाने का कार्य सोप दिया। उस सुनार ने राजा के हुक्म को माना और राजा को मुकुट बनाने का वचन भी दे दिया। राजा हिरोंन ने सुनार को मुकुट बनाने के लिए राजकोष से काफी मात्रा में सोना भी दे दिया। उस यूनानी सुनार ने तय समय मे मुकुट बनाकर राजा के सामने पेश किया।

राजा को मुकुट देखकर उसमे चांदी की मात्रा मिलावट होने की आशंका हुई। उसने मन में ही विचार कर लिया कि इस मुकुट की जांच होनी चाहिए लेकिन एक बड़ी दुविधा यह थी कि मुकुट को बिना क्षति पहुचाये जांच कैसे करे? इस दुविधा के समाधान हेतु राजा ने अपने नगर के विज्ञानी आर्किमिडीज को बुलाया।

राजा हिरोंन ने आर्किमिडीज (Archimedes) को मुकुट का सारा किस्सा सुना दिया और मुकुट की जांच करने के लिए कहा लेकिन साथ ही यह खास निर्देश दिया कि मुकुट को क्षति नही पहुँचनी चाहिये। Archimedes ने इस कार्य के लिए राजा से कुछ समय मांगा और वापस घर लौट आये। कई दिन गुजर गए लेकिन समस्या का समाधान नही मिला।

एक दिन की बात है आर्किमिडीज स्नान कर रहे थे। उस समय जैसे ही आर्किमिडीज बाथ टब में नहाने के लिए बैठे तभी टब का पानी टब के किनारों से बाहर निकलने लग गया। यह देखकर Archimedes गहन चिंतन में डूब गए। अचानक वो खुशी के मारे उछल गए और कहा यूरेका! यानके की Archimedes को समाधान मिल गया था।

आर्किमिडीज का प्रयोग (विशिष्ट घनत्व का सिद्धांत की खोज)

आर्किमिडीज ने इसके बाद कई प्रयोग किये और इस निष्कर्ष पर पहुंचे की हर प्रदार्थ का भार एक जैसा नही होता है और उनसे विस्थापित होने वाली पानी की मात्रा भी अलग होती है। इसी सिद्धान्त को लेकर आर्किमिडीज राजा के पास गया और पानी से भरे तीन समान बर्तन मंगवाए। इसके बाद आर्किमिडीज ने सोने के मुकुट के बराबर सोना और चांदी लाने के लिए कहा।

Archimedes ने एक बर्तन में मुकुट के भार के बराबर सोना रखा और दूसरे में मुकुट के भार के बराबर चांदी रखी। तीसरे बर्तन में मुकुट को रखा। आर्किमिडीज ने देखा कि मुकुट से विस्थापित पानी की मात्रा सोने से विस्थापित पानी से अधिक और चांदी से विस्थापित पानी से कम थी। इससे आर्किमिडीज इस निष्कर्ष पर पहुंचे की मुकुट में ना तो पूरा सोना है और ना ही पूरी चांदी। मुकुट सोने और चांदी का मिश्रण है।

आर्किमिडीज ने राजा को बुलाकर अपने प्रयोग की बात बता दी और राजा ने सुनार को बुलाकर दंड दे दिया।आर्किमिडीज ने एक महान खोज कर ली थी और यह खोज थी विशिष्ट घनत्व का सिद्धान्त (Density Theory in Hindi) डूबी हुई ठोस वस्तु पर एक विपरीत बल लगता है जो उस ठोस के द्वारा हटाये गए द्रव के बराबर होता है। इस बल को उत्प्लावन बल कहते है। बर्फ के पानी पर तैरने का भी यही कारण है। पानी पर बड़े और भारी भरकम जहाजो के तैरने का यही कारण है।

आर्किमिडीज के आविष्कार और इतिहास History Of Archimedes In Hindi

Archimedes आविष्कारक भी थे और उन्होंने कई अविष्कार भी किये थे। आर्किमिडीज ने लिवर के सिद्धान्त पर भी कार्य किया था। भारी वस्तुओ को आसानी से उठाने के लिए लिवर कार्य करती है और यह Archimedes की ही देन है । आर्किमिडीज ने कहा था कि मुझे खड़े होने की जगह दे दो तो में पृथ्वी को भी हिला दूंगा।

1. Archimedes  ने युद्ध मे काम आने वाले कई शस्त्र बनाये। इनमे से आर्किमिडीज का पंजा ज्यादा प्रसिद्ध है। इस पंजे में एक करें जैसी भुजा और इस पर एक धातु का हुक लगा हुआ था। जब इस पंजे को किसी दुश्मन जहाज पर डाला जाता था तो यह पंजा उस जहाज को उठाकर पटक देता था।

2. दर्पणों की सहायता से उन्होंने सूर्य किरणों के द्वारा जहाजो पर आग लगा दी थी।

3. आर्किमिडीज ने एक बड़ा जहाज भी बनाया था जिसका नाम Syracusia था। यह उस समय का सबसे बड़ा जहाज था।

4. इन्होंने पाई का बिल्कुल सटीक मान भी निकाला था।

Archimedes की एक रोमन सैनिक ने भाला मारकर हत्या कर दी थी। आर्किमिडीज के सिद्दांत आज भी प्रायोगिक है और दुनिया उनके योगदान को कभी नही भुला पाएगी। इस पोस्ट Information & Biography Of Archimedes In Hindi में आर्किमिडीज की जीवनी और इतिहास पर जानकारी आपको कैसी लगी? कमेंट सेक्शन में बताना और इस पोस्ट “आर्किमिडीज के आविष्कार” विशिष्ट घनत्व का सिद्धान्त को शेयर जरूर करे।

यह भी पढ़े – 

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *