दर्द शायरी – शाम ढले मेरे दर पर, अब न कोई दस्तक होगी – Hindi Sad Shayari

Dard Shayari In Hindi

Best Sad Shayari In Hindi –

शाम ढले मेरे दर पर, अब न कोई दस्तक होगी
फिर में हूँ और मेरी तन्हाई होगी।
आंगन में बिखर गए सूखे पत्ते
सन्नाटे के शोर में खो गई आवाज
अनजाने मेरे हाथ से फिसल गई
खुशी की घड़ी जो बीती तेरे साथ
कब इस पिंजरे से मन की रिहाई होगी
फिर में हूँ और मेरी तन्हाई होगी।

                                              एक अनजान शायर ………..

About the Author: Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *