गिद्ध के बारे में सामान्य जानकारी Information About Vulture In Hindi

भारतीय गिद्ध के बारे में सामान्य जानकारी Information About Indian Vulture In Hindi

कुछ सालो पहले तक गिद्ध बहुतयात पाये जाते थे लेकिन कुछ समय से यह कम हो रहे है। Information Vulture In Hindi में आपको इनके बारे में सामान्य जानकारी देंगे। पहले ये गाँवो में और जंगलो में आसानी से मिल जाते थे लेकिन अब कभी कभार ही नजर आते है।

आमतौर पर Vulture को नापसंद किया जाता है क्योंकि यह एक बदसूरत पक्षी है और यह मरे हुए जानवर को खाता है। इसी काम के कारण गिद्ध Vulture को पर्यावरण का सफाई कर्मी भी कहते है। यह मरे हुए जानवरो को खाकर पर्यावरण की सफाई करते है और बीमारिया फैलने से बचाते है।

Information about Vulture In Hindi

गिद्ध के बारे में रोचक तथ्य Information About Vulture In Hindi

  • गिद्ध Indian Vulture पक्षी झुंडों में रहना पसंद करते है। गिद्ध सबसे ऊँची उड़ान भरने के लिए जाना जाता है। इनका कलर काला और कत्थई होता है। इनके सूंघने और देखने की शक्ति बहुत तेज होती है। ये करीब एक किलोमीटर ऊपर से मरे हुए जानवर की गंध सूंघ लेते है और उसे देख लेते है।
  • इनकी चोंच टेडी और थोड़ी लम्बी होती है। बहुत मजबूत भी होती है।
  • इनके पंजे चोंच की तुलना में कम मजबूत होते है।
  • पंख बड़े और पूँछ छोटी होती है।
  • पंख 5 से 7 फुट तक होते है। इनका वजन 5.5 kg से 6.5 kg होता है।
  • गिद्ध अपना घोंसला पेड़ो पर बनाते है। राजस्थान में इनका घोसला खेजड़ी के पेड़ों पर होता है।
  • गिद्ध अंडे देते है। इनका अंडा सफ़ेद मटमैला और धब्बेदार होता है।
  • मादा गिद्ध साल में 2 अंडे देती है। ये अंडे मुर्गी के अंडे से थोड़े बड़े होते है।
  • नर और मादा दोनों अपने इन अंडो की रक्षा करते है।
  • गिद्ध Indian Vulture का बच्चा 6 माह तक घोसले में ही रहता है।

Indian Vulture In Hindi गिद्ध के बारे में सामान्य जानकारी

  • जब तक कह उड़ने के काबिल नही हो जाता ,तब तक उसकी देखभाल उसके नर और मादा करते है।
  • एक गिद्ध 5 साल की आयु में प्रजनन करता है।
  • Indian Vulture की आयु 30 से 35 साल होती है।
  • गिद्ध के सर पर बाल नही होते है क्योंकि जब गिद्ध मरे हुए जानवर को खाते है तो जीवाणु उस की गर्दन पर चिपकते है। नंगी गर्दन होने से उनके शरीर का तापमान भी संतुलित रहता है।
  • Indian Vulture गर्म और समशीतोष्ण क्षेत्रो में पाये जाते है । भारत में ये उतरी भाग में पाये जाते है।
  • गिद्ध पानी बहुत पीते है और भोजन की तलाश में मिलो उड़ते रहते है।
  • Indian Vulture 60 मील प्रति घण्टा की रफ़्तार से उड़ते है। ये हवा की दिशा में उड़ते है जिनसे इनकी शक्ति की बच्चत होती है। गिद्ध बिना पंख फैलाये लंबे समय तक उड़ सकते है।
  • Indian Vulture का झुण्ड एक मरे हुए जानवर को 20 मिनिट में खा लेता है।
  • गिद्ध की बोलने की क्षमता बहुत कम होती है।
  • मॉस खाते वक्त धमकी भरी आवाज निकालते है।
  • गिद्ध जब मॉस खाते है तब उनके पाँव से कई बेक्टेरिया लग जाते है। गिद्ध इनको हटाने के लिए अपने पाँव पर पेशाब करता है। इनके पेशाब में यूरिक एसिड की मात्रा ज्यादा होती है। जिससे बेक्टेरिया मर जाते है।

यह कभी भी जीवित और स्वस्थ पशु पर हमला नही करते है। विश्व में गिद्ध की 22 प्रजातियां (Species) पायी जाती है। Indian Vulture In Hindi की भारत में 9 प्रजातियां पायी जाती है। राजस्थान में गिद्ध की जनगणना की गयी जिसके अनुसार इनकी संख्या 5080 है।

गिद्ध के विलुप्त होने के कारण Indian Vulture In Hindi –

  • इनके विलुप्त होने का कारण इनकी प्रजनन क्षमता में कमी का आना माना गया है। पशुओं को दी जाने वाली दवाओं जैसे डायक्लोफ़ेनाक ,एक्सिटोन इत्यादि की वजह से उनकी प्रजनन क्षमता में कमी आयी है। इन दवाओं की वजह से उनके गुर्दो ने काम करना बंद कर दिया था । 1990 तक गिद्ध  की 90% प्रजातियां खत्म हो चुकी थी।
  • साल 2000 के अकाल के समय पशुओं की मोत असमय हो गई थी। जिससे उनके लिए भोजन की कमी आ गयी थी।
  • हवाई दुर्घटनाए,चक्रवात,टावर की तरंगें इत्यादि के कारण भी इनमे कमी आयी है। Information About Vulture In Hindi

आज यह पक्षी विलुप्त Extinction होने की कगार पर है। सरकार ने इसको लाल सूची में डाल दिया है। संरक्षण के उपाय शुरू कर दिए है। इस पक्षी को मारना कानूनन अपराध माना गया है।
सरकार ने भोपाल में गिद्ध पुनर्वास और संरक्षण केंद्र (Indian Vulture Rehabilitation ans protection center) की स्थापना की है। 1 सितम्बर को अंतराष्ट्रीय गिद्ध जागरूकता दिवस मनाया जाता है।

Information About Vulture In Hindi के बारे में आर्टिकल केसा लगा, हमे जरुर बताना और इस पोस्ट Indian Vulture In Hindi को शेयर करे ।
अन्य आर्टिकल –

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *