निकोला टेस्ला की जीवनी और योगदान Information and Biography Of Nikola Tesla In Hindi

पूरी दुनिया को प्रकाश से रोशन करने वाले निकोला टेस्ला की जीवनी Nikola Tesla Biography In Hindi पर ज्ञानवर्धक आर्टिकल। निकोला टेस्ला Nikola Tesla का नाम महान वैज्ञानिको में शुमार किया जाता है। इनका विश्व विज्ञान को योगदान आइंस्टीन से कम नही है। निकोला टेस्ला ने अपने जीवन में कई महत्वपूर्ण आविष्कार किये थे। आज हमारे घरों में A.C. (Alternative Current) यानके की प्रत्यावर्ती धारा के रूप में बिजली पहुचाने का श्रेय निकोला टेस्ला को ही जाता है।

निकोला टेस्ला के बारे में कहा जाता है कि यह वो व्यक्ति है जिन्होंने पृथ्वी को प्रकाश से सजाया।

निकोला टेस्ला का जीवन परिचय Nikola Tesla Biography In Hindi

Nikola Tesla Biography In Hindi
निकोला टेस्ला का जन्म 10 जुलाई 1856 को क्रोशिया हुआ था। टेस्ला बचपन से ही गणित विषय मे काफी होशियार थे। टेस्ला गणित के सवालों को मन में ही मन हल कर लिया करते थे। टेस्ला आजीवन अविवाहित रहे, उन्होंने कभी भी शादी नही की थी। 1981 में उन्होंने एक टेलीग्राफ कम्पनी में कार्य किया था। इसी कंपनी में रहते हुए टेस्ला ने टेलीफोन एम्पलीफायर में सुधार करके उसे नया रूप दिया था लेकिन इसका उन्होंने पेटेंट नही करवाया था।
निकोला टेस्ला ने महान आविष्कारक थॉमस एडिसन के सहयोगी के रूप में भी काफी काम किया था। एडिसन के साथ में रहते हुए उन्होंने कई आविष्कार किये लेकिन बाद में उनका थॉमस एडिसन से विवाद हो गया और टेस्ला ने एडिसन की कम्पनी छोड दी। थॉमस एडिसन के काफी आविष्कारों में निकोला टेस्ला का भी हाथ था।

निकोला टेस्ला और थॉमस एडिसन का विवाद Nikola Tesla And Thomas Edison In Hindi

एडिसन ने टेस्ला के सामने मोटर और जनरेटर को ज्यादा प्रभावी बनाने का प्रस्ताव रखा था और 50 हजार डॉलर देने का वादा किया था लेकिन जब टेस्ला अपने कार्य मे सफल हो गए तो एडिसन अपने वादे से मुकर गए थे। एडिसन ने कहा कि उसने तो केवल मजाक किया था। टेस्ला इस बात से काफी नाराज हुए और उन्होंने एडिसन की कम्पनी छोड़ दी।

निकोला टेस्ला के आविष्कार Invention Of Nikola Tesla In Hindi

निकोला टेस्ला ने खुद की कम्पनी शुरू की और फिर आविष्कार हुआ प्रत्यावर्ती धारा Alternative Current का जिससे दूर दराज तक बिजली पहुंचाना आसान हुआ। इस खोज के पहले केवल डायरेक्ट करंट D.C. द्वारा ही बिजली भेजी जाती थी। D.C. सिस्टम में बिजली का करंट एक ही दिशा में बहता था लेकिन निकोला टेस्ला ने इसमे सुधार करके इस करंट को अल्टरनेट कर दिया। A.C. करंट को ट्रांसफार्मर के द्वारा कही पर भी पहुंचाना आसान था। इससे बिजली को कम खर्चे में दूर दराज तक पहुंचाना आसान हो गया और इसमे बिजली लगातार अपनी दिशा बदलती है।
प्रत्यावर्ती धारा के आविष्कार पर टेस्ला का एडिसन से फिर विवाद हुआ जो काफी मशहुर विवाद है।  उस समय अमेरिका में D.C. करंट की व्यवस्था थी लेकिन टेस्ला के इसमे सुधार करके A.C. करंट की खोज की जिससे दोनों महान वेज्ञानिको में टकराव उतपन्न हुआ था। एडिसन D.C. धारा को सही बताते और A.C. धारा का विरोध करते लेकिन अंत मे दुनिया ने A.C. धारा को स्वीकारा क्योंकि यही बेस्ट बिजली व्यवस्था थी और DC से सस्ती भी थी। कई सालों बाद एडिसन ने टेस्ला के प्रति किये गए दुर्व्यवहार के लिए माफी भी मांगी थी।
निकोला टेस्ला ने ही बिजली की मोटर का आविष्कार किया था । आज के पंखे, कूलर जैसे कई उपकरण विधुत मोटर से ही चलते है।

निकोला टेस्ला का परिचय Nikola Tesla In Hindi

वेसे तो मार्कोनी ने रेडियो का आविष्कार किया था लेकिन इसके पीछे की थ्योरी निकोला टेस्ला की ही थी। इनके अनुसार वायुमण्डल के बाहरी आयनमंडल से रेडियो तरंगे पूरी दुनिया मे कही भी भेजी जा सकती है। रेडियो में लगाई जाने वाली टेस्ला रोड भी इन्होंने ही बनाई थी।
चुम्बकीय प्रभाव, रिमोट कंट्रोल और रडार की खोज निकोला टेस्ला ने ही कि थी। वायरलेस पावर सप्लाई का विचार टेस्ला के दिमाग की ही उपज थी जो बाद में लेज़र किरणों का आधार बना। निकोला टेस्ला के नाम करीब 300 आविष्कारों के पेटेंट दर्ज है।
निकोला टेस्ला की मृत्यु 7 जनवरी 1943 को हुई थी। निकोला टेस्ला को उनके 75 वे जन्मदिन पर टाइम मैग्ज़ीन के कवर पेज पर जगह दी गयी थी। मंगल और बृहस्पति के बीच मौजूद क्षुद्रग्रहो में से एक का नाम 2244 टेस्ला रखा गया था। चुम्बकीय प्रभाव की इकाई का नाम टेस्ला है।
निकोला टेस्ला के जीवन और योगदान पर यह ज्ञानवर्धक आर्टिकल Nikola Tesla Biography In Hindi कैसा लगा और अच्छा लगा हो तो शेयर करे।

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *