दुनिया की पहली साइकिल किसने बनाई साइकिल का इतिहास – History Of Bicycle In Hindi

bicycle in hindi

दोस्तो, आप का स्वागत करता हु में आपके अपने ब्लॉग नॉलेज डब्बा पर जो इस बार आपके लिए लाया है साइकिल का इतिहास History Of Bicycle In Hindi।

साइकिल Bicycle को आम आदमी Common Man का वाहन भी कहते है और आपने साईकल तो चलाई ही होगी। आज के दौर में साईकल Bicycle की उपयोगिता कम जरूर हो गयी है लेकिन खत्म नही हुई है। पेट्रोल और डीज़ल से चलने वाले वाहनों की वजह से दुनिया मे प्रदूषण Pollution बहुत ज्यादा बढ़ रहा है और इसी वजह से साइकिल की उपयोगिता वापस बड़ी है। नीदरलैंड Netherlands जैसे देश मे साइकिल को काफी बढ़ावा दिया गया है।

साइकिल का इतिहास History Of Bicycle In Hindi

 

bicycle in hindi
  • साइकिल Bicycle का आविष्कार Invention एक लुहार ने किया था जिसका नाम किर्कपैट्रिक मैकमिलन (Kirkpatrick Macmillan) जो स्कॉटलैंड का रहने वाला था।
  • ऐसा नही है कि इससे पहले साइकिल का अस्तित्व नही था लेकिन साइकिल को आगे बढ़ाने के लिए पैरो से जमीन को पीछे धकेला जाता था। किर्कपैट्रिक ने ऐसी व्यवस्था की जिससे साइकिल को पैरों के Effort से चलाया जा सके।
  • सबसे पहले बनाई गई साइकिल लकड़ी  (First Bicycle of world made by Wooden) की बनी हुई थी। इस साइकिल को हॉबी हॉर्स कहा गया लेकिन यह साइकिल चलाने में बहुत ज्यादा Effort लगता था जिससे इसको चलाने पर थकावट होती थी।
  • पेडल से घुमाये जाने वाले पहिये Wheel का आविष्कार 1865 ई. में पेरिस में हुआ था। इस अविष्कारक का नाम Lallement था। इस पहिये को वेलोसिपीड कहा गया। अपने समय मे यह बहुत ज्यादा लोकप्रिय हुआ आगे चलकर इसमे काफी सुधार किया गया और लोहे के पहिये लगाए गए जो कम Effort पर भी आसानी से चलते थे। इसमे आगे का पहिया बड़ा और पीछे का छोटा था और इसमे ब्रेक भी दिया गया था।

भारत में साइकिल का इतिहास History Of Bicycle In Hindi

bicycle in hindi

 

  • साइकिल Bicycle भारत मे भी काफी लोकप्रिय हुई और आजादी के बाद से 90 के दशक तक भारतीय लोगो मे इसका व्यापक इस्तेमाल होता था। यह मुख्य व्यापारिक और व्यक्तिगत साधन थी जो हर क्षेत्र में इस्तेमाल होती थी। चाहे वो घर घर जाकर दूध बेचना हो या फिर डाकिये का डाक बाटना हो। इसका इतना लोकप्रिय होने का मुख्य कारण इसका किफायती होना था।
  • आज भी कूरियर बाटने वाले इसका इस्तेमाल करते है और हाँ साइक्लिंग रेस भी दुनिया मे काफी लोकप्रिय है।
  • 1990 में देश मे आर्थिक उदारीकरण Economic Liberalization का दौर था और इसी दौर में भारत मे मोटरसाईकिल Motorcycle का प्रवेश हुआ।
  • उस दौर में स्कूटर भी आया और मध्यम वर्ग में बहुत ज्यादा लोकप्रिय हो गया ।
  • युवाओ को मोटरसाइकिल ज्यादा भाई और युवा मोटरसाईकिल को ज्यादा इस्तेमाल करने लगे।

भारतीय शहरो में साइकिल Bicycle तो एक दम बन्द ही हो गयी थी और गावो में भी बाइक्स ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए थे। यह राजदूत और बजाज का दौर था लेकिन बदलते वक्त के साथ यह भी बदलना था और हीरो होंडा देश की धड़कन बन गया। अब दौर आया चार पहियो Four Wheeler के वाहन का याने की मोटर कार का। यह नही है कि मोटरकार Motorcar का दौर पहले नही था,यह पहले भी था लेकिन मोटरकार केवल अमीरो तक सीमित थी लेकिन आज मध्यम वर्ग भी मोटरकार afford करता है।
चलो बहुत हुआ मोटरसाइकिल और मोटरकार, अब बात करते है आम आदमी के वाहन साइकिल की-

आज वर्तमान में भी साइकिल की उपयोगिता खत्म नही हुई है, हाँ कम जरूर हुई है लेकिन दोस्तो आपको पता है चीन China के बाद सबसे ज्यादा साइकिल Bicycle का निर्माण भारत मे होता है।
अब में आपको साइकिल के पार्ट्स के बारे में बताता हूं याने की इसके वो भाग जिनके बिना ये चलने वाली नहीं है – तो भाइयो इसके 4 मुख्य भाग होते है –
1. फ्रेम 2. पहिया 3. सीट 4. हैंडल
अब यह मत कहना कि आपने साइकिल नही देखी है।

साइकिल के बारे में कुछ रोचक तथ्य – Interesting Facts about Bicycle In Hindi –

  • दुनिया मे हर साल 10 करोड़ से ज्यादा साइकिल बेची और बनाई जाती है।
  • चीन में सबसे ज्यादा साइकिल Bicycle इस्तेमाल होती है और अपना भारत नम्बर 2 पर आता है।
  • आपको पता है नीदरलैंड में साइक्लिंग बहुत लोकप्रिय है।

और हाँ सबसे खास बात साइकिल चलाने के लिए पेट्रोल और डीज़ल की आवश्यकता नही है केवल पैरो की आवश्यकता है तो दोस्तो साइकिल चलाइये और पर्यावरण को बचाइये और साथ ही साथ कसरत भी हो जाएगी।

तो दोस्तों आपको यह पोस्ट साइकिल का इतिहास Bicycle In Hindi केसी लगी हमे कमेंट में जरूर बताना और हा दोस्तों subscribe तो करना ही करना ….

You May Also Like

About the Author: Knowledge Dabba

Hindi Knowledge About Science, Animals, History, Biography, Motivational Story.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *